inspace haldwani
inspace haldwani
Home उत्तराखंड रुद्रप्रयाग- बाबा तुंगनाथ के कपाट ग्रीष्मकाल के लिए खुले, जाने क्या है...

रुद्रप्रयाग- बाबा तुंगनाथ के कपाट ग्रीष्मकाल के लिए खुले, जाने क्या है पूरे विश्वभर में मान्यता

जानिए, किसानों के भारत बंद को किसने दिया समर्थन, देखें यह खबर…

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। कृषि कानूनों को लेकर सरकार की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। किसानों की ओर से आठ दिसंबर...

रुद्रपुर: देखिए कैसे पुलिस को चकमा देकर दिल्ली रवाना हुए पूर्व विधायक और किस नेता को रोक लिया पुलिस ने

रुद्रपुर। कांग्रेस नेता पूर्व विधायक नारायण पाल के नेतृत्व में भारी संख्या में किसान दिल्ली में चल रहे आन्दोलन को समर्थन देने के लिए...

देहरादून- अब इन दो एक्सप्रेस ट्रेनों का संचालन होगा शुरू, रेलवे ने शुरू की तैयारी

लंबी दूरी की यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए यह अच्छी खबर है कि 11 दिसंबर से देहरादून से उज्जैन और देहरादून से इंदौर...

देहरादून- 24 घंटे में इतने कोरोना मरीज स्वास्थ्य होकर लौटे अपने घर, सामने आये इतने नये पॉजिटिव केस

उत्तराखंड में आज 618 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के साथ ही राज्य में कोरोना का आंकड़ा बढ़कर 76893 हो गया है। जबकि 10...

देहरादून- भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने नैनीताल के इन कार्यकर्ताओं को सौंपी जिम्मेदारी, देखें पूरी लिस्ट

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने भाजपा के 28 विभागों की घोषणा करते हुए दर्जनों कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारी दी है। भारतीय...

विश्व के सबसे ऊंचे शिव मंदिर तृतीय केदार बाबा तुंगनाथ के कपाट आज सुबह 11 बजकर 30 मिनट पर ग्रीष्मकाल के लिए खोल दिए गए है। सुबह आठ बजे भगवान की डोली समुद्रतल से 11349 फीट की ऊंचाई पर स्थित तुंगनाथ धाम पहुंची। जिसके बाद मंदिर के कपाट खोलने के लिए पूजा अर्चना की गई, लॉकडाउन के कारण सीमित लोगो और सोशल डिस्टेंन्स के साथ बाबा तुंगनाथ की डोली चोपता से अपने धाम तुंगनाथ लाई गई।

uttarakhand tungnath temple portals open news

तुंगनाथ के कपाट खुलने के साथ ही उत्तराखंड के पंचकेदार के कपाट ग्रीष्मकाल के लिए खुल गए हैं। बता दें कि तुंगनाथ का मंदिर 1000 साल पुराना माना जाता है। 3460 मीटर की ऊंचाई पर स्थित बाबा तुंगनाथ का मंदिर विश्व में सबसे ऊंचाई पर स्थित भगवान शिव का मंदिर है।

uttarakhand tungnath temple portals open news

तुंगनाथ खुलने के साथ ही हिमालय में स्थित सभी पंचकेदारों के कपाट ग्रीष्मकाल के लिए खुल गए हैं। पंचकेदारों में से केदारनाथ धाम, मद्महेश्वर, रुद्रनाथ के कपाट पहले ही खुल चुके हैं। पंच केदारों में कल्पेश्वर एकमात्र ऐसा मंदिर है जिसके कपाट पूरे वर्ष खुले रहते हैं और यहां भक्त भगवान के दर्शन कर सकते हैं। कर्क लग्न में दोपहर 11 बजकर 30 मिनट पर तुंगनाथ मंदिर के कपाट ग्रीष्मकाल के लिए खोल दिए गए।

Related News

जानिए, किसानों के भारत बंद को किसने दिया समर्थन, देखें यह खबर…

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। कृषि कानूनों को लेकर सरकार की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। किसानों की ओर से आठ दिसंबर...

रुद्रपुर: देखिए कैसे पुलिस को चकमा देकर दिल्ली रवाना हुए पूर्व विधायक और किस नेता को रोक लिया पुलिस ने

रुद्रपुर। कांग्रेस नेता पूर्व विधायक नारायण पाल के नेतृत्व में भारी संख्या में किसान दिल्ली में चल रहे आन्दोलन को समर्थन देने के लिए...

देहरादून- अब इन दो एक्सप्रेस ट्रेनों का संचालन होगा शुरू, रेलवे ने शुरू की तैयारी

लंबी दूरी की यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए यह अच्छी खबर है कि 11 दिसंबर से देहरादून से उज्जैन और देहरादून से इंदौर...

देहरादून- 24 घंटे में इतने कोरोना मरीज स्वास्थ्य होकर लौटे अपने घर, सामने आये इतने नये पॉजिटिव केस

उत्तराखंड में आज 618 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के साथ ही राज्य में कोरोना का आंकड़ा बढ़कर 76893 हो गया है। जबकि 10...

देहरादून- भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने नैनीताल के इन कार्यकर्ताओं को सौंपी जिम्मेदारी, देखें पूरी लिस्ट

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने भाजपा के 28 विभागों की घोषणा करते हुए दर्जनों कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारी दी है। भारतीय...

हल्द्वानी- प्रदेश में तस्करों के हौसले बुलंद, अब इंटरनेशनल चिड़ियाघर से उड़ाई लाखों की लकड़ी

नैनीताल जिले के गौलापार स्थित चिड़ियाघर में तस्करों ने एक बार फिर धावा बोल दिया है। इतना ही नहीं तस्करों ने खैर के 40...