हल्द्वानी- पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद होगा रोहित की मौत का खुलासा, इस जगह होना है अतिंम संस्कार

100

हल्द्वानी- न्यूज टुडे नेटवर्क: देश के दिग्गज नेताओं में शुमार रहे व उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी की मंगलवार शाम संदिग्ध हालात में मौत हो गई। बता दें उत्तराखंड में लोकसभा चुनाव के मतदान के दौरान रोहित शेखर अपनी माँ उज्जवला शर्मा तिवारी के साथ 11 अप्रैल को वोट डालने के लिए हल्द्वानी आये थे। उन्होंने लालकुआं सीट पर वोट भी डाला था। जिसके बाद 16 तारीख को अचानक उनकी मौत की खबर ने सबको हिला कर रख दिया है।

फिलहाल रोहित की मौत का रहस्य पोस्टमार्टम रिपोर्ट से ही सामने आ पाएगा। जानकारी मुताबिक रोहित शेखर तिवारी की मौत उनके नई दिल्ली की डिफेंस कॉलोनी में स्थित घर में मंगलवार शाम को हो गई। इससे पहले उनकी मां की सूचना पर उऩ्हें फौरन साकेत स्थित मैक्स हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने जांच के बाद उन्हें मृत घोषित कर दिया था। जिसके बाद शाम को उनके शव को एम्स की मोर्चरी में रखवा दिया गया। जहां आज पोस्टमार्टम होगा। जिसके बाद दिल्ली के लोधी में रोहित शेखर तिवारी का अंतिम संस्कार किया जाएगा।

मौत का बाद में खुलासा करेंगी रोहित की मां

रोहित शेखर(40) की मौत पर उनकी मां उज्जवला तिवारी ने कहा कि मुझे कोई शक नहीं है उनकी मृत्यु प्राकृतिक ही है। लेकिन मैं बाद में खुलासा करूंगी कि उनकी मौत किन परिस्थितियों में हुई? उधर, मामले में ज्वाइंट कमिश्नर देवेश श्रीवास्तव के मुताबिक, रोहित की नाक से खून निकल रहा था। हादसे के समय घर पर मौजूद नौकरों ने रोहित की मां को फोन किया जो उस वक्त अस्पताल में चेक अप करवाने गई थीं। मिली जानकारी के मुताबिक, रोहित की मां अस्पताल से डिफेंस कालोनी घर पहुंची और उन्हें एम्बुलेंस से मैक्स अस्पताल ले जाया गया, जहां डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया, मौत की वजह अभी स्पष्ट नहीं हो पाई है।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट का है इंतजार

पूर्व मुख्यमंत्री के बेटे की मौत का मामला होने के चलते दिल्ली पुलिस ने फूंक-फूंक कर कदम रख रही है। शुरुआती जांच में ब्रेन हैमरेज व हार्ट अटैक की बात कही गई, मगर बाद में अस्पताल प्रबंधन व पुलिस अधिकारी का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट से ही मौत के सही कारणों का पता चल पाएगा। संयुक्त आयुक्त दक्षिण रेंज देवेश चंद्र श्रीवास्तव के मुताबिक, पुलिस सभी पहलुओं पर जांच कर रही है। उधर, डीसीपी दक्षिण जिला विजय कुमार का कहना है कि रोहित दिल के मरीज रहे हैं। विगत दिसंबर में उनकी एंजियोप्लास्टी भी हुई थी और स्टेंट डाला गया था। अब तक की जांच में किसी तरह का कोई आपराधिक एंगल नजर नहीं आ रहा है। हादसे से दौरान उनकी पत्नी घर पर ही मौजूद थीं। परिजनों ने भी कोई शिकायत नहीं दी है। उन्हें किसी तरह का शक नहीं है। हार्ट अटैक के कुछ केस में नाक से खून भी आ जाता है।