inspace haldwani
Home उत्तराखंड हस्द्वानी- खास होगा रानीबाग में मकर संक्रांति का आयोजन, उठेगी धार्मिक पर्यटन...

हस्द्वानी- खास होगा रानीबाग में मकर संक्रांति का आयोजन, उठेगी धार्मिक पर्यटन स्थल घोषित करने की मांग

हल्द्वानी- न्यूज टुडे नेटवर्क: आगामी मकर संक्रांति के अवसर पर नंदा राज जात की तरह ही प्रदेश के गढ़वाल व कुमाऊं दोनों मंडलों की साझा धार्मिक आस्था के केंद्र, पुष्यभद्रा एवं गार्गी (गौला) नदी के तट पर बसे रानीबाग-चित्रशिला घाट में‘कत्यूर मिलन-2019’कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। इस मौके पर आने वाले कत्यूरी शासकों के वंशजों एवं उनके देव डंगरियों का रानीबाग में अध्ययन किया जाएगा। रानीबाग को प्रदेश का धार्मिक पर्यटन स्थल घोषित करने की मांग बुलंद की जाएगी। बुधवार को देर शाम हल्द्वानी के नैनीताल रोड स्थित एक बैंकेट हॉल में आयोजित एक बैठक में कत्यूर मिलन-2019 कार्यक्रम की रूपरेखा तय की गयी। इस दौरान तय हुआ कि नगर निगम हल्द्वानी एवं सभी संबंधित पक्षों, कत्यूरी संस्थाओं एवं मंदिर के पुजारियों एवं स्थानीय संगठनों आदि के सहयोग से मकर संक्रांति के अवसर पर रानीबाग में एक विशेष कार्यक्रम रखा जाएगा।

इन्हें सौंपी गई जिम्मेदारी

कार्यक्रम के तहत सदियों से मकर संक्रांति पर रानीबाग आ रहे कत्यूरी वंशजों एवं देव दंगरियों का अध्ययन किया जाएगा। साथ ही वे कहां, किन गांवों से तथा किन मान्यताओं के साथ आते हैं, इसका डॉक्यूमेंटेशन किया जाएगा। इससे पूर्व उनकी सुविधा के लिए रानीबाग मेला परिक्षेत्र में शौचालय, अलाव व सुरक्षा आदि की व्यवस्थाओं के लिए पुलिस एवं नगर निगम प्रशासन से मिलकर सहयोग लिया जाएगा। साथ ही कोशिश होगी कि मकर संक्रांति के दि नही नगर के महापौर, स्थानीय

विधायक, सांसद एवं राज्य के पर्यटन मंत्री आदि को साथ लेकर रानीबाग को धार्मिक पर्यटन स्थल घोषित करने की मांग पर केंद्र सरकार को एक व्यापक प्रस्ताव तैयार कर भेजा जाए। इस दौरान आयोजन के संयोजन की जिम्मेदारी बैठक में मौजूद रहे नारायण लाल चौधरी को, कत्यूरी वंशजों के स्वागत व पंजीकरण की जिम्मेदारी कैलाश जोशी एवं मीडिया संयोजन की जिम्मेदारी नवीन जोशी को दी गयी। बैठक में इतिहासकार डा. एमपी जोशी, संजय बल्यूटिया, उद्योग भारती पांडे, दामोदर जोशी “देवांशु” पंकज खत्री व डा. सुरेश टम्टा आदि लोग भी शामिल रहे।

इसलिये बहुत खास है रानीबाग

बैठक के दौरान बताया गया कि रानीबाग की अत्यधिक प्राचीन धार्मिक मान्यता रही है। कत्यूरी रानी जिया रानी के जरिये यह प्रदेश के दोनों मंडलों को जोड़ता है। यहां एक वर्ष आने वाले कत्यूरी वंशज अगले वर्ष हरिद्वार जाते हैं। हरिद्वार के मायापुरी की तरह इस स्थान का प्राचीन नाम मायापुरी घाट रहा है। चूंकि कत्यूरी वंश की राजधानी गढ़वाल के जोशीमठ और कुमाऊं के बैजनाथ रही, इसलिए दोनों मंडलों के श्रद्धालु समान रूप से यहां आते हैं। ऋर्षि मार्कंडेय के साथ ही सप्त ऋषियों में शामिल महाप्रतापी रावण के पितामह पुलस्त्य, अत्रि एवं पुलह (जिन्होंने मानसरोवर का आह्वान कर नैनीताल के सरोवर की रचना की थी) के साथ ही आदि गुरु शंकराचार्य का भी यह स्थान तपस्थली रहा है।

Related News

देहरादून- स्पा सेंटरों के खिलाफ ऐक्शन में उत्तराखंड पुलिस, जारी किये ये निर्देश

देहरादून में इन दिनों स्पा सेंटरों का प्रचलन तेजी से बढ़ा है। बाहर से दिखने में ये स्पा सेंटर, मसाज सेंटर आदि प्रतीत होते...

देहरादून- उत्तराखंड पहुंची कोरोना वैक्सीन की दूसरी खेप, इतनो को लग सकेगा टीका

केन्द्र सरकार से उत्तराखण्ड को कोविड-19 के टीकाकरण के लिए कोविशिल्ड वैक्सीन की 92,500 डोज उपलब्ध कराई है। यह वैक्सीन बुधवार को देहरादून एयरपोर्ट...

देहरादून- सचिवालय में कार्यरत होमगार्डों को सीएम त्रिवेन्द्र का तोहफा, प्रदेश के कई कार्यों को दी अनुमति

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने सचिवालय में कार्यरत 309 होमगार्डस को 25-04-2017 से 02-07-2018 तक के अवशेष ड्यूटी भत्ते के एरियर भुगतान के लिए...

देहरादून- हरीश रावत से ये क्या बोल गए वन मंत्री हरक सिंह रावत, जाने क्यों हरदा को कहा झूटा

कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर चेहरा घोषित करने के बाद कांग्रेस में...

रुद्रपुर: शान ओ शौकत से खुला बंसल साड़ीज का शोरूम, पहले दिन उमड़ी महिलाओं की भीड़

रुद्रपुर। व्यापार के क्षेत्र में प्रतिष्ठित बंसल ग्रुप ने अब कपड़ो के व्यापार में भी जोरदार धमक के साथ कदम रख दिए है। आज प्रातः सिविल लाइन...

हल्द्वानी- कुमाऊं कमिश्नर ने राजस्व वसूली का बनाया ये प्लान, अधिकारियों को दिये कड़े निर्देश

कुमाऊं कमिश्नर अरविन्द सिंह ह्यांकी ने मंगलवार को राजस्व विभाग के कार्यों की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा की। इस दौरान कम राजस्व...