रामनगर- बेटे ने 85 वर्ष की मां को घर से निकाला, फफक-फफक रो पड़ी बुजुर्ग बोली बहू देती है ऐसी यातना

Slider

Ramnagar News- जो मां-बाप एक बच्चे का पालन-पोषण कर उसे बड़ा बनाते हैं, इसके बाद उनके साथ क्या होता है। इसका ताजा उदाहरण रामनगर में देखने को मिला। नौ माह तक पहले गर्भ में रखा फिर जन्म के बाद उसकी हर जरूरत का ख्याल रखा। लेकिन उसी बेटे ने बहू के कहने पर उसे आज दर-दर की ठोंकरे खाने को विवश कर दिया। आज सर्द रातों में बुजुर्ग मां दर-दर भटक रही है। किसी ने उसे राज्य महिला आयोग की पूर्व उपाध्यक्ष अमिता लोहनी का पता बताया तो वह वहां पहुंच गई। हतााश आंखों से तर-तर आंसू बहने लगे। अमिता ने वृद्धा को हल्द्वानी स्थित वृद्धाश्रम पहुंचाया।

Slider

बताया जा रहा है कि रामनगर के इंद्रा कॉलोनी में एक युवक रहता है। उसके साथ उसके बच्चे, पत्नी ओर मां बसंती देवी भी रहती है। जिसकी उम्र 85 वर्ष है। बसंती देवी ने अपनी व्यथा सुनाते हुए कहा कि उसका बेटी अपनी पत्नी से डरता है। पत्नी के कहने पर उसने मुझे घर से निकाल दिया। बहू मुझे कच्ची रोटी देती है, बेटे के ड्यूटी जाने के बाद कभी-कभी तो खाने कुछ नहीं देती। उसे देख आसपास के लोग कुछ खाने को दे देते है। नहीं तो दिन भर पानी की दिन का गुजारा कर लेती है फिर शाम को बेटे के लौटने का इंतजार करती है। लोगों ने उससे बेटे की शिकायत करने को कहा ने मां ने मना कर दिया। शाम को लौटते ही बहू बेटे के कान भरना शुरू कर देती है। ऐसे में बेटे ने उसे घर से बाहर निकाल दिया। जिसके बाद वह सडक़ों पर भटक रही है।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें