नई दिल्ली- जहरीली शराब से मौतों पर ये बोलीं प्रियंका गांधी, मायावती ने कह डाली ये बड़ी बात

116

नई दिल्ली- न्यूज टुडे नेटवर्क: उत्‍तराखंड और उत्तर प्रदेश में जहरीली शराब से हुई सैकड़ों लोगों की मौत पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने दुख जाहिर किया है। यह प्रियंका का पहला राजनीतिक बयान है। उन्‍होंने कहा कि यूपी और उत्तराखंड में जहरीली शराब से सौ से ज्‍यादा लोगों की मौत से दुखी और आश्‍चर्यचकित हूं, यह निंदनीय है। यह कल्पना नहीं की जा सकती है कि दो राज्‍यों में अवैध शराब का व्यापार कितने बड़े पैमाने पर फल-फूल रहा है। कहा कि मुझे उम्मीद है कि राज्य सरकार दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगी और मृतकों के परिवारों के लिए उचित मुआवजा और परिवार को सरकारी नौकरियां देगी। मैं शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करती हूं।   बता दें कि सहारनपुर में जहरीली शराब से अब तक 81 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, उत्तराखंड के हरिद्वार जिले में 34 लोगों की मौत हो चुकी है। सहारनपुर में 90 से ज्यादा लोगों का उपचार विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है। उप्र सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि सहारनपुर में जहरीली शराब से मौतों के मामले में 35 मुकदमे दर्ज किए गए हैं जबकि 39 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इस अभियान के लिए 37 टीमें लगाई गई हैं।

मामले में हो सीबीआई जांच

वही जहरीली शराब से हुई मौतों को लेकर बसपा सुप्रीमो मायावती ने रविवार को बीजेपी और राज्य सरकार पर निशाना साधा। मायावती ने ट्वीट कर इन घटनाओं को बीजेपी सरकारों की घोर सरकारी लापरवाही व उदासीनता का परिणाम बताया। मायावती ने ट्वीट किया है कि, उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड में अवैध तरीके से तैयार नकली व जहरीली शराब पीने से सौ से अधिक गरीब/मजदूर लोगों की दर्दनाक मौत तथा लगभग उतने ही लोगों के जिंदगी मौत से जूझने की घटनाएं अति दुखद व अति शर्मनाक हैं। मायावती ने अपील की कि सरकार मृतक परिवारों को उचित मुआवजा दे और सीबीआई से घटना की जांच कराए।

योगी ने दी कड़ी कार्रवाई की चेतावनी

यूपी मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने अवैध शराब के कारोबार में लिप्त लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी है चाहे वह किसी भी राजनीतिक दल से क्यों ना संबद्ध हों। योगी ने कहा कि आजमगढ़, हरदोई, बाराबंकी और कानपुर जैसे जिलों में पूर्व में जहरीली शराब से हुई मौतों की घटनाओं में सपा से जुड़े नेताओं को शामिल पाया गया था। अगर इस बार भी ऐसी कोई साजिश पाई गई तो दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।