drishti haldwani

कांग्रेस में ‘बदसूलकी’ के बाद नाराज हुई प्रियंका, राहुल गांधी को भेजा इस्तीफा

88

नई दिल्ली-न्यूज टुडे नेटवर्क : पिछले वर्ष मथुरा में अपने साथ कथित तौर पर बदसलूकी करने वाले कांग्रेस कार्यकर्ताओं के खिलाफ हुई अनुशासनात्मक कार्रवाई को निरस्त किये जाने से नाराज चल रहीं प्रियंका चतुर्वेदी ने शुक्रवार को पार्टी से इस्तीफा दे दिया। पार्टी कार्यकर्ताओं को दोबारा पार्टी के अंदर बहाल करने के फैसले पर प्रियंका ने सार्वजनिक तौर पर आपत्ति जताते हुए इसकी आलोचना की थी। खबरों के मुताबिक, कांग्रेस के पश्चिमी यूपी के प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया की सिफारिश पर उन सभी निलंबित पार्टी कार्यकर्ताओं को दोबारा बहाल कर दिया गया।

iimt haldwani

priyanka-_625

प्रियंका चतुर्वेदी शिवसेना में शामिल

कांग्रेस की प्रवक्ता रहीं प्रियंका चतुर्वेदी शिवसेना में शामिल हो गई हैं। उन्होंने शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे की मौजूदगी में शिवसेना ज्वाइन की. इस मौके पर उन्होंने कहा कि मैं मुंबई में पली बढ़ी हूं. पिछले कुछ दिनों से मुंबई से कट गई थी, लेकिन अब मैं वापस यहां जुडऩा चाहती हूं। मैंने लौटने का मन बनाया तो इस संगठन के अलावा कोई और संगठन ध्यान में नहीं आया. प्रियंका चतुर्वेदी ने अपने साथ हुई अभद्रता का जिक्र करते हुए कहा कि मुझे दुख इस बात का है कि आरोपियों को दोबारा वापस बुला लिया गया। मैंने कांग्रेस को 10 साल दिये. मैंने सब सोच-समझकर ही शिवसेना से जुडऩे का मन बनाया है। जहां भी पार्टी को मजबूत कर सकती हूं, वहां काम करूंगी।

priyanka

क्या है पूरा मामला

दरअसल ये मामला तब शुरू हुआ, जब प्रियंका चतुर्वेदी सिंतबर 2018 में राफेल मुद्दे पर मथुरा में एक प्रेस कॉन्फ्रेस कर रही थीं। इस दौरान कांग्रेस के कुछ कार्यकर्ताओं ने प्रियंका के साथ कथित तौर पर बदतमीजी की थी, जिसके बाद उन लोगों को पार्टी से सस्पेंड कर दिया गया था। लेकिन अब दोबारा उन लोगों को पार्टी में शामिल कर लिया गया है। प्रियंका चतुर्वेदी ने एक ट्वीट को रीट्वीट किया था, जिसमें इस बात की जानकारी थी कि सस्पेंड किये गए सदस्यों ने अपने व्यवहार और आचरण के लिए खेद जताया है। उनके अनुरोध पर उन्हें पार्टी में फिर से शामिल किया जा रहा है। प्रियंका ने ट्वीट पर अपनी नाराजगी का इजहार करते हुए लिखा- ‘काफी दुखी हूं ही कांग्रेस पार्टी के अंदर जिन लोगों ने खून पसीने दिए उनकी बजाय गुंडों को प्राथमिकता दी गई।’