inspace haldwani
Home देश अब प्राइवेट नौकरी करने वालों को खुश करने जा रही मोदी सरकार...

अब प्राइवेट नौकरी करने वालों को खुश करने जा रही मोदी सरकार ये है बड़ी प्लानिंग

नई दिल्ली-न्यूज टुडे नेटवर्क : अगर आप प्राइवेट जॉब करते हैं, तो बस थोड़े दिन या महीनों का इंतजार कीजिए, क्योंकि आपके लिए केंद्र की मोदी सरकार एक बड़ी खुशखबरी लाने जा रही है, जिस पर चर्चा शुरू हो चुकी है। केंद्र सरकार चुनाव से पहले करोड़ों निजी कर्मचारियों को राहत देने की तैयारी कर रही है। खबरों की माने तो यह तैयारी इसी साल के अंत तक पूरी हो जाएगी और अगले साल जनवरी से यह लागू हो जाएगा या फिर उससे पहले ही। दरअसल, केंद्र की मोदी सरकार ग्रेच्युटी मिलने की सीमा को घटाने की तैयारी कर रही है।

job1

लेबर मिनिस्ट्री ने इंडस्ट्री से राय मांगी

सूत्रों के अनुसार इसकी तैयारी शुरू कर दी गई है और लेबर मिनिस्ट्री ने इंडस्ट्री से इस पर राय मांगी है। मंत्रालय इस पर इंडस्ट्री की राय जानना चाहता है कि ऐसा करने पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा। साथ ही इसे लागू किया जाता है तो क्या दिक्कत आ सकती हैं। मंत्रालय सूत्रों का कहना है कि इस प्रस्ताव को सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज के नए बोर्ड के सामने रखा जाएगा।

तीन साल रह सकती है समय सीमा

सूत्रों का कहना है कि पांच साल से कम करके ग्रेच्युटी मिलने की समय सीमा को घटाकर तीन साल किया जा सकता है। इसके अलावा ग्रेच्युटी की गणना के तरीकों में भी बदलाव पर विचार किया जा रहा है। हालांकि लेबर यूनियन की तरफ से ग्रेच्युटी की समय सीमा को और कम करने की मांग की जा रही है।

job

स्थायी कर्मचारी की तरह लाभ देने की तैयारी

इसके अलावा फिक्सड टर्म एम्पलाई (अनुबंधित कर्मचारी) को भी ग्रेच्युटी का लाभ देने की तैयारी है। भले ही ऐसे कर्मचारी का टर्म पांच साल से कम ही क्यों न हो। सामान्यतया अनुबंध एक साल या तीन साल का होता है। इस अवधि के पूरा होने पर नियोक्ता कंपनी कर्मचारी का रिन्यूअल कर देती हैं। ऐसे कर्मचारियों को अनुपातिक रूप से ग्रेच्युटी का लाभ मिलेगा। यानी जितने समय की सर्विस होगी उस अनुपात में नियोक्ता कर्मचारी को लाभ देगा। इसके लिए जरूरी नियमों में बदलाव की बात चल रही है।

क्या है ग्रेच्युटी

ग्रेच्युटी कर्मचारी के वेतन यानी सैलरी का वह हिस्सा है, जो कंपनी या आपका नियोक्ता, यानी एम्प्लॉयर आपकी सालों की सेवाओं के बदले देता है। ग्रेच्युटी वह लाभकारी योजना है, जो रिटायरमेंट लाभों का हिस्सा है और नौकरी छोडऩे या खत्म हो जाने पर कर्मचारी को नियोक्ता द्वारा दिया जाता है।

Related News

नई दिल्ली- इस दिन होगी 2021 नीट पीजी परीक्षा, खबर में देखें परीक्षा का पूरा पैर्टन

नेशनल बोर्ड ऑफ एगजामिनेशन (NBE) ने मेडिकल के पीजी कोर्सेस में एडमिशन के लिए प्रवेश परीक्षा नीट पीजी 2021 की तारीख की घोषणा कर...

लोन देने वाले ऐप चुरा सकते हैं आपका पर्सनल डाटा, गूगल ने इतने ऐप्स‍ कर दिए हैं बैन

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। अगर आप पर्सनल लोन लेने के इच्‍छुक हैं तो सीधे आथोराइज्‍ड बैंक या सरकारी एजेंसी से ही सम्‍पर्क करें। इंटरनेट के...

विधान परिषद चुनाव: बीजेपी ने प्रदेश अध्यक्ष और डिप्टी समेत दो उम्मीदवार उतारे, सपा ने दो बड़े नेताओं को बनाया प्रत्याशी

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी में विधान परिषद चुनावों की सरगर्मियां तेज हो गई हैं। यूपी में विधान परिषद की 12 सीटों पर 28 जनवरी...

65वें जन्मदिन पर बोलीं बसपा प्रमुख- 2022 में यूपी में बसपा की सरकार, अकेले चुनाव लड़ेगी पार्टी

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। बसपा सुप्रीमो मायावती ने ऐलान किया है कि 2022 का विधानसभा चुनाव उनकी पार्टी बसपा अकेले ही लड़ेगी। गौरतलब है कि...

नई दिल्ली- कोरोना वैक्सीन के लिए इसलिए भारत का रुख कर रहे कई देश, इनको मिलेगी प्राथमिकता

दुनियाभर में 60 फीसद से अधिक वैक्सीन का निर्माण व आर्पूति करने वाला अपना देश अब कोरोना वैक्सीन के हब के रूप में उभर...

अगर माघ मेले में प्रयागराज आ रहे हैं तो पहले देखेें गाइडलाइन, जानिए, किस दस्तावेज के बिना यहां नहीं मिलेगी एंट्री

मकर संक्रान्ति से संगम पर उमड़ेगा आस्‍था का सैलाब न्‍यूज टुडे नेटवर्क। इस बार के प्रयागराज के माघ मेले में बिना कोरोना की जांच रिपोर्ट...