drishti haldwani

कमल के फूलों से तौले गए ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी’, भगवान श्रीकृष्ण का लिया आशीर्वाद

110

लोकसभा चुनाव-2019 में बम्पर वोट मिलने से सत्ता पर दोबारा काबिज होने के बाद पीएम मोदी शनिवार को केरल पहुंचे हैं। पीएम मोदी यहां के प्रसिद्ध गुरुवयूर कृष्ण मंदिर में भगवान श्रीकृष्ण के दर्शन पाने के लिए आये हैं। पीएम मोदी ने गुरुवायुर कृष्ण मंदिर में विधि-विधान से पूजा अर्चना की। बतादे कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जब गुजरात के मुख्यमंत्री हुआ करते थे तब गरुवायुरप्पन मंदिर में पूजा करने पहुंचे थे।

iimt haldwani

modi6

पारंपरिक वेशभूषा मुंडू में नजर आए पीएम मोदी

पीएम मोदी ने मंदिर में पारंपरिक वेशभूषा में पूजा की और तुलाभरम रस्म भी की। केरल के रीति-रिवाजों के मुताबिक तुलाभरम पूजा पद्धति के तहत तराजू के एक पलड़े में व्यक्ति को बैठाया जाता है और दूसरे पलड़े में किसी वस्तु को रखा जाता है। जिसके तहत पीएम मोदी को भी कमल के फूलों से तौला गया। पीएम मोदी ने कृष्ण की पूजा के बाद डिजिटल पेमेंट से मंदिर में 39,421 रुपये दान किए।

गुरुवायूर देवासम बोर्ड के चेयरमैन केबी मोहनदास ने बताया, ‘पीएम की पूजा के लिए 112 किलोग्राम कमल के फूल का इंतजाम किया गया। वहीँ मल्लापुरम में प्री मॉनसून की स्थिति को देखते कुछ फूल तमिलनाडु से भी मंगाए गए।

midi2

क्या है इस गुरुवायुरप्पन मंदिर की विशेषता

बता दे कि गुरुवायुरप्पन मंदिर को दुनिया दक्षिण की द्वारिका के नाम से भी जानती है। ऐसी मान्यता है कि गुरुवायूर मंदिर में कृष्ण मूर्ति कलियुग के प्रारंभ में स्थापित की गई। मंदिर का निर्माण भगवान वृहस्पिति ने किया है। इतिहासकारों के मुताबिक गुरुवयूर का कृष्णा मंदिर 5000 साल पुराना है और 1638 में इसके कुछ भाग का पुनर्निमाण किया गया था। खास बात ये है कि इस मंदिर में केवल हिन्दू ही पूजा कर सकते हैं, दूसरे धर्मों के लोगों के अंदर प्रवेश पर रोक है। गुरुवायुरप्पन मंदिर में भगवान कृष्ण की मूर्ति यहां के प्रमुख आकर्षणों में से एक है।

modi1

पौराणिक मान्यता के मुताबिक, मंदिर का निर्माण वृहस्पति ने किया था। खास बात ये है कि इस मंदिर में हिंदुओं के अलावा दूसरे धर्मों के लोग प्रवेश नहीं कर सकते हैं। गुरुवायुरप्पन मंदिर में भगवान कृष्ण की मूर्ति यहां के प्रमुख आकर्षणों में से एक है। मंदिर के गर्भगृह में भगवान कृष्ण की मूर्ति के चार हाथ हैं। भगवान ने एक हाथ में शंख और दूसरे में सुदर्शन चक्र है। जबकि भगवान ने तीसरे और चौथे में कमल धारण कर रखा है। गुरुवायूर मंदिर काफी पुराना है। मंदिर के गर्भगृह में श्रीकृष्ण की मूर्ति है।

पारंपरिक कपड़ों में की मंदिर में पूजा

केरल की पारंपरिक धोती और शॉल पहने मोदी का पारंपरिक पूर्णकुंभ के साथ स्वागत किया गया। उनके साथ केरल के राज्यपाल पी सदाशिवम, केन्द्रीय विदेश राज्यमंत्री वी मुरलीधरन और राज्य के देवस्वओम मंत्री कदकमपल्ली सुरेंद्र भी मंदिर पहुंचे। प्रधानमंत्री की यात्रा के मद्देनजर शुक्रवार से ही मंदिर के आसपास सुरक्षा कड़ी कर दी गई थी।