inspace haldwani
Home कुमाऊँ Udham Singh Nagar पुण्यतिथि पर ऋषिकेश के परमार्थ निकेतन में याद किए गए कवि सुमित्रानंदन...

पुण्यतिथि पर ऋषिकेश के परमार्थ निकेतन में याद किए गए कवि सुमित्रानंदन पंत

न्‍यूज टुडे नेटवर्क, (उत्‍तराखण्‍ड/उत्‍तर प्रदेश)। कवि सुमित्रानंदनपंत की पुण्‍यतिथि पर आज सन्‍त समाज की ओर से भी उन्‍हें भावपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित की गई। धर्मनगरी ऋषिकेश में आयोजित समारोह में कवि सुत्रिानंदन पंत को श्रद्धांजलि दी गई। यह आयोजन ऋषिकेश के परमार्थ निकेतन में सम्‍पन्‍न हुआ। इस दौरान साहित्‍यिक संरचना को नया आयाम देने के लिए पंत को याद किया गया। परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने भारतीय साहित्य को समृद्धि बनाने में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले पुनरूत्थानवादी दृष्टिकोण के कवि सुमित्रानन्दन पंत को भावभीनी श्रद्धाजंलि अर्पित करते हुये कहा कि उन्होंने सांस्कृतिक एवं सामाजिक विषयों के साथ समाज निर्माण, समाज जागरण एवं तात्कालिक स्थितियों को उजागर करने हेतु महत्वपूर्ण योगदान दिया।

सुमित्रानन्दन पंत का प्रकृति के प्रति अगाध प्रेम था। उन्होंने अपनी कविताओं में प्राकृतिक परिवेश, सुरम्य प्राकृतिक वातावरण एवं प्राकृतिक सौन्दर्य का भरपूर वर्णन किया है। उन्होंने ‘एकोडहं बहुस्यामि’ की दार्शनिक मान्यता पर भी अपने विचार व्यक्त किये तथा अपनी कविताओं के माध्यम से अनेकता में एकता के सूत्र को आध्यात्मिक और भौतिक दोनों दृष्टियों से व्यक्त करते हुये कहा कि इस सिद्धान्त को भौतिक दृष्टि से भी अपनाया जाये तो सुखद भविष्य का निर्माण किया जा सकता है। पंत ने उस समय की सामाजिक समस्याओं को उजागर करने हेतु कई रचनायें की। जिनमें ‘पतिता’, ‘परकीया’ शीर्षक वाली नारी विषयक कविताएँ हैं।

स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने कहा कि साहित्य और संस्कृति तो किसी भी देश की आत्मा होती है। साहित्य और संस्कृति ही वह मूल सिद्धान्त है जिससे उस राष्ट्र और वहां के समाज के संस्कारों का बोध होता है। साथ ही इससे वहां के लोगों के जीवन आदर्शों, जीवन मूल्यों और परम्पराओं का निर्धारण भी किया जाता है। साहित्य और संस्कृति वह मूल सिद्धान्त है जो हमारे समाज का निर्माण करते हैं।

भारतीय साहित्य और संस्कृति विश्व की प्राचीनतम संस्कृतियों में से एक है। भारतीय साहित्य की समृद्धशाली परम्परा ने दुनिया का मार्गदर्शन किया है। हमारे देश के कवियों, साहित्यकारों और विचारकों ने ‘उदारचरितानां तु वसुधैव कुटुंबकम’ जैसे सिद्धांत दुनिया को दिये हैं, जिसमें लोग आज भी गहरी आस्था रखते हैं। भारतीय साहित्य को जीवंत बनाये रखने में, जनजागरण और राष्ट्रीय एकता के लिये कवियों ने अद्भुत योगदान दिया। भारत को स्वतंत्र करने में क्रांतिकारियों के साथ कवियों की ओजस्वी कविताओं ने महत्वपूर्ण भूमिका निभायी थी और हर गांव व गली में आजादी की अलख जगायी थी।

उस समय की कविताओं की शक्ति और प्रेरणा आज भी यथावत है और आने वाले हर युग में भी रहेगी। चूंकि कविता दिल से निकलती है और दिलों को छू लेती है। उसमें वह प्राणतत्व होता है जो निश्चित रूप से परिवर्तन लाता है। सुमित्रानन्दन पंत ऐसे मूर्धन्य कवि थे जिन्होंने प्रकृति की सुरम्यता का बड़ी ही सहजता से चित्रण किया।

Related News

पीलीभीतः मजदूूूरो के सामने बाघ ने बारह सिंघा का किया शिकार

न्यूज टुडे नेटवर्क। पीलीभीत जिले के थाना हजारा क्षेत्र में बाघों का आतंक इस तरह छाया है कि किसान मजदूर अपने खेतों में फसलों...

यूपी की गजब पुलिस इंस्पेक्टर के घर हुई चोरी को ही डकार गई

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। क्राइम ब्रांच के इंस्‍पेक्‍टर के घर हुई चोरी को ही पुलिस डकार गई। इंस्‍पेक्‍टर के घर हुई चोरी की पुलिस रिपोर्ट...

बरेली : चोरों को ठंड लगी तो स्कूल से 2000 स्वेटर ले गए, यहां का है मामला  

न्यूज टुडे नेटवर्क। कैंट थाना क्षेत्र के एक प्राइमरी स्कूल के गोदाम से चोरों ने 2000 स्वेटर चोरी कर लिए। गणतंत्र दिवस पर जब...

बरेलीः महिला से बोला सिपाही कमरे पर आओ नहीं तो पति भुगतेगा अंजाम, सुहाग को बचाने के लिए किया ये काम…

न्यूज टुडे नेटवर्क। बरेली जंक्शन पर तैनात जीआरपी के सिपाही ने एक महिला के सामने अजीब शर्त रख दी। सिपाही बोला कि या तो...

देहरादून- उत्तराखंड में आज सामने आये कोरोना के इतने पॉजिटिव केस, इतने मरीजों ने गवाईं अपनी जान

उत्तराखंड में आज 85 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के साथ ही राज्य में कोरोना का आंकड़ा बढ़कर 95826 हो गया है। 3 लोगो...

अल्मोड़ा- 150 करोड़ रुपये की विकास योजनाओं का सीएम ने किया लोकार्पण, 13 जिलों के लिए की ये बड़ी घोषणा

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि पर्वतीय क्षेत्रों में बेहतर स्वास्थ्य सेवा बड़ी चुनौती है। इससे पार पाने को 772 नए चिकित्सकों की...