inspace haldwani
inspace haldwani
Home उत्तराखंड पंतनगर- पंत कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय ने विकसित की गेहू की 3...

पंतनगर- पंत कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय ने विकसित की गेहू की 3 नई प्रजातियां, कोरोना से लड़ने में ऐसे है फायदेमंद

देहरादून- उत्तराखंड में कैंसर मरीजों को जल्द मिलेगी ये सुविधा, सांसद अनिल बलूनी ने की बड़ी घोषणा

उत्तराखंड में टाटा समूह के माध्यम से विश्व स्तरीय कैंसर संस्थान खोला जाएगा। टाटा समूह के प्रमुख रतन टाटा ने राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी...

देहरादून- उत्तराखंड में आज इस जिले में मिले सबसे अधिक मामले, इतनों ने गवाईं अपनी जान

उत्तराखंड में आज 424 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के साथ ही राज्य में कोरोना का आंकड़ा बढ़कर 73951 हो गया है। जबकि 13...

उत्तराखंड- कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए इस जिले में फिर लगेगा लॉकडाउन, रहेंगे ये नियम

उत्तराखंड में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए देहरादून प्रशासन ने रविवार को बाजार बंद रखने का आदेश दिया है। सिर्फ जरूरी...

देहरादून- उत्तराखंड के इस गायक के जन्मदिन पर मनाया जाता है ‘जागर संरक्षण दिवस’, इसलिए मिला पद्मश्री पुरूस्कार

प्रीतम भरतवाण उत्तराखण्ड के विख्यात लोक गायक हैं। भारत सरकार ने उन्हें 2019 में पद्मश्री पुरूस्कार से समानित किया। वे उत्तराखण्ड में बजने वाले...

रुद्रपुर: इस तरह लूटते थे टुकटुक, पुलिस ने धरदबोचा

रुद्रपुर। बीते दिवस हुई दो टुकटुक लूटकांडों का कोतवाली पुलिस ने 48 घंटे के भीतर पर्दाफाश करते हुए एक रेस्टोरेन्ट के कारीगर सहित दो...

गोविंद बल्लभ पंत कृषि एवं प्रौद्योगिकी विवि ने कुछ माह पहले गेहूं की तीन ऐसी प्रजातियां विकसित की हैं जिससे न केवल उत्पादन अधिक लिया जा सकता है, बल्कि कुपोषण को भी दूर किया जा सकता है। अन्य गेहूं की अपेक्षा इसमें प्रोटीन, आयरन व जिंक की मात्रा भी अधिक है। जो सेहत के लिए काफी फायदेमंद है।

कोरोना से लड़ने में भी है फायदेमंद

बता दें कि उत्तराखंड में रबी मौसम में उगाई जाने वाली फसलों में गेहूं सर्वाधिक महत्वपूर्ण फसल है। इसकी खेती मैदानी, भावर एवं तराई क्षेत्रों से लेकर पहाड़ में लगभग 1500 मीटर के ऊंचाई तक की जाती है। मौसमी बदलाव के कारण फसलों में रोग एवं कीट का प्रकोप बढ़ा है। गेहूं में रतुआ अथवा गेरुई रोग प्रमुख है। जिससे फसल को बचाने के लिए किसान प्रोपिकानोजोले रसायन का प्रयोग करते हैं। रसायनों के प्रयोग पर धन तो खर्च होता ही है, साथ ही वातावरण भी प्रदूषित होता है।

करीब सात माह पहले उत्तराखंड राज्य विमोचन समिति द्वारा गेहूं की तीन उन्नतशील किस्मों क्रमशः यूपी 2903, यूपी 2938 तथा यूपी 2944 का उत्तराखंड के मैदानी, भाबर व तराई क्षेत्रों में खेती के लिए अनुमोदन किया गया है। इन प्रजातियों में रोग से लड़ने की क्षमता भी सामान्य प्रजातियों से अधिक है। उत्पादन तो अधिक होगा, साथ ही प्रोटीन की मात्रा अधिक है। इसके सेवन से कुपोषण को भगाया जा सकता है।

ऐसे में कोरोना संक्रमण से लड़ने में यह प्रजाति काफी कारगर साबित हो सकती है। पंतनगर विश्वविद्यालय के शोध निदेशक डॉक्टर अजित सिंह नैन की माने तो गेहूं की तीनों प्रजातियों में प्रोटीन, आयरन व जिंक की मात्रा सामान्य गेहूं की प्रजातियों से अधिक है। इन प्रजातियों का उत्पादन भी अधिक होता है। लंबे समय से वैज्ञानिक इन प्रजातियों को विकसित करने में लगे थे। जिसमें अब सफलता मिल गई है।

क्या है तीनों प्रजातियों की खासियत

पहली प्रजाती यानी यूपी 2903 को सिंचित दशा में समय से बुआई, नवंबर माह के लिए अनुमोदित किया गया है। उत्तराखंड में कृषक प्रक्षेत्रों पर आयोजित परीक्षणों में इसकी उपज 47.5 क्विंटल हेक्टेयर पाई गई तथा इसकी उत्पादन क्षमता 70.9 क्विंटल हेक्टेयर है। यह किस्म रतुआ अथवा गेरुई, रस्ट के प्रति उच्च प्रतिरोधी क्षमता रखती ह।

उच्च उत्पादन क्षमता के साथ ही यह प्रजाति उच्च गुणवत्ता युक्त भी है। इस प्रजाति में प्रोटीन की मात्रा 12.68 फीसद है। जस्ता और लौह की प्रचुर मात्रा है जो कि क्रमशः 39.2 पीपीएम पार्ट पर मिलियन और 39.8 पीपीएम है। इसके अतिरिक्त यह उच्च सेडीमेंटशन वैल्यू 59 मिली लीटर के साथ अच्छी गुणवत्ता वाली ब्रेड के लिए भी उपयक्त है।

pant nagar university news

वही दूसरी किस्म यूपी 2938 को भी सिंचित दशा में समय से बुआई नवंबरके लिए अनुमोदित किया गया है। उत्तराखंड में कृषक प्रक्षेत्रों पर आयोजित परीक्षणों में इसकी उपज 65 क्विंटल प्रति हेक्टेयर पाई गई है। यह किस्म भी रतुआ अथवा गेरुई, रस्ट के प्रति उच्च प्रतिरोधी क्षमता रखती है। अधिक उत्पादन भी होता है।

तीसरी किस्म यूपी 2944 को सिंचित दशा में विलम्ब दिसंबर से बुआई के लिए अनुमोदित किया गया है। उत्तराखंड में कृषक प्रक्षेत्रों पर आयोजित परीक्षणों में इसकी उपज 60 क्विंटल प्रति हेक्टेयर है। इसकी प्रतिरोधक क्षमता अधिक है। प्रजाति में प्रोटीन की मात्रा 14.5 फीसद है। उत्पादन भी अधिक है। सेडीमेंटशन वैल्यू 50 मिली लीटर के साथ अच्छी गुणवत्ता वाली ब्रेड के लिए भी यह प्रजाति अच्छी है।

Related News

देहरादून- उत्तराखंड में कैंसर मरीजों को जल्द मिलेगी ये सुविधा, सांसद अनिल बलूनी ने की बड़ी घोषणा

उत्तराखंड में टाटा समूह के माध्यम से विश्व स्तरीय कैंसर संस्थान खोला जाएगा। टाटा समूह के प्रमुख रतन टाटा ने राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी...

देहरादून- उत्तराखंड में आज इस जिले में मिले सबसे अधिक मामले, इतनों ने गवाईं अपनी जान

उत्तराखंड में आज 424 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के साथ ही राज्य में कोरोना का आंकड़ा बढ़कर 73951 हो गया है। जबकि 13...

उत्तराखंड- कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए इस जिले में फिर लगेगा लॉकडाउन, रहेंगे ये नियम

उत्तराखंड में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए देहरादून प्रशासन ने रविवार को बाजार बंद रखने का आदेश दिया है। सिर्फ जरूरी...

देहरादून- उत्तराखंड के इस गायक के जन्मदिन पर मनाया जाता है ‘जागर संरक्षण दिवस’, इसलिए मिला पद्मश्री पुरूस्कार

प्रीतम भरतवाण उत्तराखण्ड के विख्यात लोक गायक हैं। भारत सरकार ने उन्हें 2019 में पद्मश्री पुरूस्कार से समानित किया। वे उत्तराखण्ड में बजने वाले...

रुद्रपुर: इस तरह लूटते थे टुकटुक, पुलिस ने धरदबोचा

रुद्रपुर। बीते दिवस हुई दो टुकटुक लूटकांडों का कोतवाली पुलिस ने 48 घंटे के भीतर पर्दाफाश करते हुए एक रेस्टोरेन्ट के कारीगर सहित दो...

रुद्रपुर: अंतत: पुलिस ने छोड़ा किसानों का रास्ता, हजारों किसान दिल्ली रवाना

रुद्रपुर। दो दिन तक हाइवे पर डेरा डालने के बाद तराई के किसानों को दिल्ली जाने की अनुमति मिली तो अपराह्न दो बजे हजारों...