inspace haldwani
Home पर्यटन एक ऐसा मंदिर जहां रात में रुकने वाले की हो जाती है...

एक ऐसा मंदिर जहां रात में रुकने वाले की हो जाती है मौत, जानिए क्या है रहस्य

मध्य प्रदेश- न्यूज टुडे नेटवर्क : भारत को मंदिरों का देश कहा जाता है। हर राज्य और शहर के अलावा गावं गावं मे आप को मंदिर मिलता है। मंदिर में हर कोई पूजा पाठ करने जाता है लेकिन भारत के एक राज्य में ऐसा मंदिर हैं जहाँ पर अगर आप रात में गए तो आप की मौत हो जाएगी। हैरान हो की ऐसा कैसे हो सकता है। लेकिन यह बिल्कुल सच है की इस मंदिर में रात को 2 बजे से लेकर 5 बजे तक कोई नही जाता है। आखिर कौन सा है यह मंदिर और क्यों होती है वहां ऐसी अनहोनी आप भी जानिए।  सतना जिले की मैहर तहसील के पास त्रिकूट पर्वत पर मैहर शारदा के नाम से प्रसिद्ध एक देवी मंदिर हैं। जो कि मैहर नगरी से लगभग 5 किलोमीटर की दूरी पर बना हुआ है।

satana1

इस मंदिर की मान्यता इतनी है कि लोग दूर-दूर से यहां माता के दर्शन के लिए आते हैं। देवी मां के दर्शन के लिए भक्तों को 1063 सीढियों का सफर पूरा करना होता है।इस मंदिर में दर्शन के लिए हर वर्ष लाखों की संख्या में भक्तगढ़ माता के दर्शन के लिए आते हैं।पूरे भारत में सतना का मैहर मंदिर ही माता शारदा का एक मात्र मंदिर है। और यही एक ऐसा मंदिर है जिसमें मां शारदा के साथ इसी पर्वत की चोटी पर श्री काल भैरवी,हनुमान जी, देवी काली, दुर्गा, श्री गौरी शंकर,शेष नाग,फूलमति माता,ब्रह्म देव और जलापा देवी की भी पूजा की जाती है।

क्या हैं पौराणिक मान्यताएं

इस मंदिर को लेकर कई पौराणिक कथाएं और मान्याताएं मशहूर हैं जिनमें से एक ये है कि यदि आप इस मंदिर में रात में रूकने का प्रयास करते हैं तो आपकी मौत हो जाती है। स्थानीय निवासियों के अनुसार आल्हा और ऊदल जिन्होंने पृथ्वी राज चौहान के साथ भी युद्ध किया था उन दोनों ने ही जंगल के बीचों बीच शारदा माता के इस मंदिर की खोज की थी।जिसके बाद आल्हा ने 12 वर्षों की कड़ी तपस्या कर देवी मां को प्रसन्न किया था और आल्हा की तपस्या से प्रसन्न होकर माता ने उसे दर्शन दिए और अमरत्व का वरदान दिया था।। आल्हा माता को शारदा माई कह कर पुकारा करता था। तभी से ये मंदिर भी माता शारदा माई के नाम से प्रसिद्ध हो गया।

maihar4

क्या है लोगों की मान्यता

आज भी लोगों का मानना है कि आल्हा और ऊदल दोनों ही माता के दर्शन के लिए आते है ,और हर दिन सबसे पहले आल्हा और ऊदल माता के दर्शन करने आते हैं और माता रानी का पूरा श्रृंगार करते हैं। जिस वजह से मंदिर के द्वार को रात 2 से 5 बजे तक बंद किया जाता है । मंदिर के पीछे पहाड़ों के नीचे एक तालाब है, जिसे आल्हा तालाब कहा जाता है। यही नहीं,तालाब से 2 किलोमीटर और आगे जाने पर एक अखाड़ा मिलता है, जिसके बारे में कहा जाता है कि यहां आल्हा और उदल कुश्ती लड़ा करते थे।

maihardevi5

कैसे उत्पत्ति हुई माता रानी के मंदिर की

मां शारदा के इस मंदिर की उत्पत्ति के पीछे एक बहुत ही प्राचीन पौराणिक कहानी है। सम्राट दक्ष की पुत्री सती भगवान शिव की परम भक्त थी और वो उनसे शादी करना चाहती थीं, लेकिन दक्ष को सती का भगवान शिव के प्रति रूझान जरा भी पसंद ना था,वो भगवान शिव को भगवान नहीं बल्कि भूतों और अघोरियों का साथी मानते थे और इस विवाह के विरोधी थे, फिर भी सती ने अपने भगवान शिव से शादी कर ली। कहानी के अनुसार एक बार राजा दक्ष ने ‘बृहस्पति सर्व’ नामक यज्ञ रचाया, इस यज्ञ में ब्रह्मा, विष्णु, इंद्र और अन्य देवी-देवताओं को भी आमंत्रित किया गया था, लेकिन जान-बूझकर उन्होंने भगवान महादेव को नहीं बुलाया। जिस वजह से सती काफी दुखी हुई और उन्होंने अपने पिता से शिव जी को आमंत्रित न करने की वजह पूछी जिस पर दक्ष ने भगवान शिव के बारे में अपशब्द कहा, तब इस अपमान से पीड़ित होकर सती ने अपने शरीर को तेज से भस्म कर दिया, जब शिवजी को इस दुर्घटना का पता चला तो क्रोध से उनका तीसरा नेत्र खुल गया।तब भगवान शंकर ने माता सती के पार्थिव शरीर को कंधे पर उठा लिया और गुस्से में तांडव करने लगे।

maa3

भगवान शिव के इस विकराल रूप को देखते हुए और ब्रह्मांड की भलाई के लिए भगवान विष्णु ने ही सती के अंग को इक्यावन हिस्सों में विभाजित कर दिया। जहाँ-जहाँ सती के शव के विभिन्न अंग और आभूषण गिरे, वहां-वहां शक्ति पीठों का निर्माण हुआ। उन्हीं में से एक शक्ति पीठ है मैहर देवी का मंदिर, जहां मां सती का हार गिरा था। मैहर का मतलब है, मां का हार, इसीलिये इस जगह का नाम मैहर पड़ा।

Related News

चंपावत- पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने प्रदेश को दी करोड़ो की सौगात, मानसरोवर यात्रा को लेकर कही ये बात

पिथौरागढ़ पहुंचे राज्य पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने लगभग 16 करोड़ की लागत से हुए विकास कार्यों का लोकार्पण किया। इस दौरान उन्होंने कहा...

उत्तराखंड- इस जिले में बनेगा प्रदेश का पहला मगरमच्छ सफारी, इन प्रजातियों के मगरमच्छ बढ़ाएंगे पर्यटकों का एडवेंचर

उत्तराखंड वन विभाग कुमाऊं में सुरई वन रेंज में राज्य की पहली मगरमच्छ सफारी स्थापित करने की योजना बना रहा है। तराई-पूर्व वन प्रभाग...

२०२० के इस विंटर वैकेशन को बनाए और भी सुहाना, इन जगहों पर देखने को मिलेगा प्रकृति का अदभुत सौन्दर्य

लाइफ स्‍टाइल बदलाव के लिए घूमना फिरना भी बेहद जरूरी है बरेली। साल में एक बार कहीं घूमने का प्लान जरूर बनाना चाहिए, इससे हमारी लाइफस्टाइल में...

बड़ी खबर- दो हफ्तों में 75 फ़ीसदी हवाई रूट खोलने की तैयारी, जानिए क्या है वजह 

कोरोना वायरस (Corona virus) और लॉकडाउन के कारण देशभर में डोमेस्टिक और इंटरनेशनल फ्लाइट्स (domestic and international flight) अस्थाई तौर पर निरस्त कर दी...

अब Amazon से भी कर सकेंगे ट्रेन टिकट बुकिंग, मिलेंगे यह ऑफर्स

अमेज़न इंडिया (Amazon India) ने IRCTC के साथ साझेदारी की है। दोनों के बीच साझेदारी होने से अब आप अमेजॉन से भी ट्रेन की...

Ayodhya: अयोध्या में जल्द ही श्रद्धालु क्रूज बोट से करेंगे घाटों के दर्शन, साथ ही मिलेंगी ये सुविधाएं

अयोध्या में पर्यटकों (Tourists) को सरयू आरती के साथ ही अन्य घाटों के दर्शन कराने के लिए जल्द ही क्रूज बोट (Cruise Boat) चलाई...