OMG : , पत्नियों से संबंध बनाने के लिए पति खुद ढूंढ़ कर लाते हैं ग्राहक, वजह है चौकानें वाली

135

नई दिल्ली-न्यूज टुडे नेटवर्क : दुनिया में कई सारी हैरान करने वाली परम्पराएं निभाई जाती है। आज हम ऐसी ही एक घिनौनी परंपरा के बारे में बता रहे हैं। आज हम आपको जिस परंपरा के बारे में बताने जा रहे हैं शायद उसे जानने के बाद आपको गुस्सा भी आ सकता है। हम आपको किसी और देश की नहीं बल्कि खूब हमारे ही देश की एक परंपरा के बारे में बता रहे हैं।

54

परना समुदाय के लोग निभाते है परंपरा


यह जानकर हैरानी होगी कि यह समुदाय देश के किसी कोने में नहीं बल्कि राजधानी के अंतर्गत रहता है। जी हां, यहां बात हो रही है दिल्ली एनसीआर के नजफगढ़, प्रेमनगर और धर्मशाला में रहना वाले परना समुदाय की। परना समुदाय के लोग देह व्यापार की परंपरा को काफी समय से निभाते आ रहे हैं।

devar-bhabhi

लड़की पैदा होने पर मनाया जाता है जश्न

इस गांव में लड़की के पैदा होने पर जश्न मनाया जाता है। लड़कियां जब तक कुंवारी रहती हैं तब बेटी के परिवार वाले इसे बेच देते हैं और शादी के बाद पत्नी की कमाई पर उसके पति का हक होता है। लिहाजा कई ऐसे परिवार हैं जहां पति ही अपनी पत्नी के लिए ग्राहक तलाश करता है और उसे लाकर देता है। यहां पर लड़कियों को छोटी कक्षाओं तक पढ़ाई की अनुमति दी जाती है। जवानी की दहलीज पर कदम रखते ही उन्हें हैवानों के हाथ बेच दिया जाता है। यदि कोई लडक़ी देह व्यापार के दल-दल में उतरने से इनकार कर देती है तो उसको काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

महिलाओं के लिए ग्राहक पति ढूंढ़ता है

इन सब के बीच हैरानी की बात ये हैं कि इन महिलाओं के लिए ग्राहक उनका खुद का पति ढूंढता हैं। उनके पति को भी अपनी पत्नी से इस तरह के काम करने में कोई शर्म नहीं आती हैं। इस समुदाय की लड़कियां महज चौथी या पांचवी तक पढ़ती हैं। जब तक वो दुनिया दारी समझने के काबिल होती हैं तन तक उनकी शादी कर दी जाती हैं। शादी के बाद ससुराल वाले पहला बच्चा होने के साथ ही लड़कियों से देह व्यापार कराना शुरू कर देते हैं।

img_20180408_

5 ग्राहकों के साथ सोना पड़ता है महिलाओं को

शुरू में ये लोग भीख मांग कर अपना गुजरा करते थे। लेकिन बाद में ज्यादा पैसे कारण यहां की महिलाओं से उनके पति ने देह व्यापार करवाना शुरू कर दिया। समुदाय की एक लडक़ी ने बताया कि, “दिन भर में कम से कम वो 5 ग्राहकों के साथ सोना पड़ता है। खूबसूरती के हिसाब से उनके दाम तय होते हैं। ग्राहकों को खुश करने के बाद वो वापस घर आकर खाना बनाना और बाकी का काम करती है। “