drishti haldwani

अब हल्द्वानी में हुई बीजेपी नगर अध्यक्ष और सीपीयू के बीच झड़प, भाजपाईयों में दिखी सत्ता की हनक

3643

हल्द्वानी न्यूज- रामनगर और नैनीताल के बाद अब हल्द्वानी में बीजेपी कार्यकर्ताओं द्वारा सीपीयू से अभद्रता करने का मामला प्रकाश में आया है। दोपहर के समय मुखानी चौराहे के समीप उस वक्त बवाल हो गया। जब बीजेपी नगर अध्यक्ष विजय मनराल की कार नो-पार्किंग जोन पर खड़ी थी। बता दें कि मुखानी चौराहे में अक्सर जाम के झाम से लोगों को परेशान होना पड़ता है। जिसके चलते सडक़ किनारे खड़े वाहनो के खिलाफ सीपीयू आये दिन कार्यवाई करती रहती है।

iimt haldwani

haldwani BJP leader and CPU fight

वही आज भी ट्रैफिक व्यवस्था बिगड़ते देख सीपीयू द्वारा बीजेपी नेता के खिलाफ जरूरी कार्यवाही की गई। फिर क्या था सीपीयू द्वारा कार्यवाई के बाद आग बबूला हुए बीजेपी नेता ने फौरन अन्य कार्यकर्तओं को मौके पर इकटठा कर लिया। जिसके बाद सीपीयू और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच जमकर बवाल हुआ। दो सीपीयू कर्मियों के साथ भाजपाईयों की जबदस्त बहस हुई।

कार में बैठे सीपीयू कर्मी से की धक्का-मुक्की

बता दें कि हालहीं में उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र ने प्रदेश के सभी लोगो को ट्रैफिक नियमों का पालन करने की बात कही थी। जिसके बाद आज बीजेपी कार्यकर्तओं का ऐसा बर्ताव साफ दर्शा रहा है कि इनके लिए नियम कानून कितने मायने रखते है। सीपीयू और बीजेपी कार्यकर्तओं की गहमागहमी का ये पूरा वाख्या मोबाईल पर भी वायरल हो रहा है। जिसमें साफ तौर पर देखा जा सकता है कि बीजेपी कार्यकर्तओं में कानून का कितना भय है।

वीडियों में सीपीयू कर्मी अपनी कार में बैठ कर जाने का प्रयास करता दिखाई दे रहा है। लेकिन इतने में एक कार्यकर्ता कार के अंदर खिडक़ी से उसकी सीटबेल्ट खींचता नजर आ रहा है। इतना ही नहीं जनाब सीपीयू पर बीजेपी को बदाम करने का आरोप भी लगाते नजर आ रहे है। वही मौके पर लोग पुलिस प्रशासन मुर्दाबाद, सीपीयू मुर्दाबाद के नारे लगाते नजर आये।

सत्ता की ताकत का खुले आम प्रदर्शन

वीडियों में नगर के तमान बीजेपी कार्यकर्ता साफ तौर पर सीपीयू को तमीज सिखाते नजर आ रहे है। लेकिन सरेआम रोड पर पुलिस प्रशासन से इस तरह का बरताव आखिर बीजेपी की कौनसी तस्वीर सबके सामने प्रकाशित कर रहा है। आज की इस हरकत में साफ तौर पर ये कार्यकर्ता सत्ता की ताकत का खुला प्रदर्शन करते नजर आ रहे है। सीपीयू के जाने के बाद इस दौरान कई लोग वीडियों में सीपीयू कर्मियों को अपशब्द बोलते सुनाई दे रहे है। यह मामला शहरभर में चर्चा का विषय बना हुआ है।

वही मामले में सीपीयू प्रभारी हरिकेश सिंह का कहना है कि कई गाड़ियां नो-पार्किंग में खड़ी थी। इसलिए नो-पार्किंग के तहत सीपीयू कर्मियों ने कार्यवाई की। इसमें सीपीयू की कोई गलती नहीं है।