inspace haldwani
Home लाइफस्टाइल नई दिल्ली- जाने क्या है सब्जियों के राजा बैंगन का इतिहास, इन...

नई दिल्ली- जाने क्या है सब्जियों के राजा बैंगन का इतिहास, इन बीमारियों के लिए है फायदेमंद

भर्ता हो या फिर बिहारी लिट्टी के साथ खाए जाने वाला चोखा, टमाटर और मटर के साथ लजीज सब्जी भी कम नहीं। बात सब्जियों के राजा ‘बैंगन’ की हो रही है। बैंगन के स्वाद के अलावा एक और खास बात है, वह यह कि इस सब्जी का ओरिजिन भारत ही है। एक्सपर्ट्स की माने तो भारत में यह सब्जी शुरू से पाई जाती थी। परसियन लोग इसे अफ्रीका लेकर गए और अरब लोगों ने स्पेन में इसे पहुंचाया। आज बैंगन की कई प्रजातियां मशहूर हैं और दुनियाभर में खाई जाती हैं।

indian vegetables news

गरम स्थानों पर होती है ज्यादा पैदावार

बैंगन की पैदावार गरम स्थानों पर ज्यादा होती है। भारत में भी लगभग हर हिस्से में बैंगन खाया जाता है। बंगाल का बैगुन भाजा हो या फिर नॉर्थ का बैंगन भर्ता, बिहार का चोखा हो या फिर दक्षिण भारत में सांभर का स्वाद बढ़ाता है बैंगन। इन सबके साथ बैंगन का अंचार और चटनी भी काफी इलाकों में खाई जाती है। अपने खास अंदाज के कारण ही इसे सब्जियों का राजा का खिताब मिला हुआ है। बैंगन विटामिन सी, के, बी6, मैग्निशिमय, फॉस्फोरस, कॉपर, फाइबर, फॉलिक एसिड, पोटैशियम और ऐसे ही कई गुणों से भरा हुआ है। हाई फाइबर के कारण यह खाना पचाने में मदद करता है।

indian vegetables news

दिल की बीमारियों में बी मददगार

दिल की बीमारियों की अवस्था में भी बैंगन मददगार साबित होता है। इसके एंटीआक्सिडेंट्स कैंसर जैसे रोगों को रोकने में सक्षम हैं। साथ ही यह हड्डियों को भी मजबूत करता है। खाने के साथ ही बैंगन के मेडिसनल गुण भी हैं। कई पारंपरिक और आधुनिक दवाओं में इसका इस्तेमाल किया जाता है। यहां तक कि कई खास अवस्थाओं में बैंगन का प्रयोग वर्जित भी माना जाता है। जैसे कुछ स्थानों पर गर्भवती महिलाओं को बैंगन खाने से रोका जाता है।

indian vegetables news

रंग के नाम पर पड़ा नाम

साथ ही अपने खास रंग के कारण भी बैंगन सब्जी में एक नया ही रंग डाल देता है। बैंगन के रंग से ही बैंगनी रंग का नाम पड़ा है। इसे आप अलग-अलग ढंग से खा सकते हैं। हमारे पड़ोसी देश चीन और श्रीलंका में बैंगन बहुत चाव से खाया जाता है। हालांकि, कई लोगों को बैंगन से एलर्जी भी होती है। एलर्जी की स्थिति में बैंगन खाने से बचना चाहिए। साथ ही डाक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

Related News

रात 10 बजे से पहले सोने में बढ़ सकता है हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा, जानिए किसने किया बड़ा खुलासा

  उत्तराखंड - बचपन मे हम बड़े , बुजुर्गो से सुनते आए है अरली टू बेड, अरली तो राइज, मेक्स ए मैन हेल्दी, वेल्थी एंड...

पढिय़े अभिनेत्री रवीना टंडन के देसी नुस्खें, सर्दी जुकाम में क्या देती है बच्चों को

बॉलीवुड की मम्‍मी में से एक रवीना टंडन की खूबसूरती आज भी कम नहीं हुई है। वह दो बच्‍चों की मां बनने के बाद...

विटामिन सी की कमी को इन फलों से करें दूर

हमें शरीर को स्वस्थ्य बनाये रखने के लिए सभी पोषक तत्वों की जरूरत रहती है। खानपान ऐसा है कि हम हेल्दी डाइट के नाम...

ई कॉमर्स वेबसाइट मिंत्रा बदलेगा अपना लोगो,जानिए यह हैं वजह……

न्यूज टूडे नेटवर्क। ई-कॉमर्स कंपनी मिंत्रा ने महिलाओं के लिये अशोभनीय होने की एक शिकायत के बाद अपना लोगो बदल लिया है। मुंबई की...

होम्योपैथिक विधि से पायें स्तन की गांठ से छुटकारा, पढिय़े डॉ. एनसी पाण्डेय के टिप्स

साहस होम्योपैथिक क्लीनिक के विशेषज्ञ डा. एनसी पाण्डेय द्वारा बीमारियों को दूर करने की जानकारी अपने चैनल के माध्यम से दी जाती है। इस...

बीपी बढऩे और डिप्रेशन के लिए करें इस पौधे का इस्तेमाल, पढिय़े आखिर क्यों है ये गुणकारी

कोरोना काल में डिप्रेशन के मामले बहुत अधिक बढ़े हैं। तनाव और अवसाद एक ऐसा मानसिक विकार है जो व्यक्ति को अंदर से तोड़...