iimt haldwani

नई दिल्ली- बैडमिंटन वर्ल्ड चैम्पियनशिप 2019 के फाइनल में सिंधु ने जीता गोल्ड, बनी पहली भारतीय खिलाड़ी

220

नई दिल्ली- ओलंपिक रजत पदक विजेता पी.वी. सिंधु ने रविवार को स्विट्जरलैंड में बीडब्ल्यूएफ बैडमिंटन वर्ल्ड चैम्पियनशिप-2019 के फाइनल में नोजोमी ओकुहारा को मात देकर इतिहास रच दिया है। बैडमिंटन वर्ल्ड चैम्पियनशिप 2019 के फाइनल में सिंधु ने जीत दर्ज करते हुए गोल्ड मेडल जीता है। जिसके साथ ही सिंधु वर्ल्ड चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बन गई हैं। बता दें कि इससे पहले बैडमिंटन वर्ल्ड चैम्पियनशिप में भारत के लिए महिला और पुरुष वर्गों में से अब तक किसी ने गोल्ड मेडल नहीं जीता है।

drishti haldwani

pv sindhu wins gold meda

वही शानदार जीत के बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ramnath Kovind) और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने पीवी सिंधु (Pv Sindhu) को विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप (World Badminton Championship) जीतने पर बधाई दी है। साथ ही कहा कि उनका समर्पण प्रेरणादायी है। सिंधु ने जापान (Japan) की नोजोमी ओकुहारा (Nozomi Okuhara) को हराकर विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप का खिताब जीता।

राष्ट्रपति ने ट्वीट किया, ‘‘बीडब्ल्यूएफ विश्व चैंपियनशिप जीतने पर बधाई पीवी सिंधु। यह पूरे देश के लिये गौरवशाली क्षण है। कोर्ट पर आपका जादुई खेल, कड़ी मेहनत और दृढ़ता लाखों लोगों को रोमांचित और प्रेरित करती है। विश्व चैंपियन को भविष्य के मुकाबलों के लिये शुभकामनाएं।’’

प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘आपमें बेजोड़ प्रतिभा है पीवी सिंधु। फिर से भारत को गौरवान्वित किया। भारत को आप पर गर्व है। बीडब्ल्यूएफ विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने पर उन्हें बधाई। पीवी सिंधु की सफलता खिलाड़ियों की कई पीढ़ियों को प्रेरित करेगी।’’

खेल मंत्री किरेन रीजीजू ने कहा कि सरकार चैंपियन तैयार करने के लिये सर्वश्रेष्ठ सुविधाएं और सहयोग प्रदान करेगी। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘बीडब्यूएफ विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय बनकर पीवी सिंधु ने इतिहास रचा। भारत को सिंधु पर गर्व है। मेरी तहेदिल से शुभकामनाएं। सरकार चैंपियन तैयार करने के लिये सर्वश्रेष्ठ सहयोग और सुविधाएं देना जारी रखेगी।’’

बता दें कि फाइनल मुकाबले में रियो ओलंपिक की रजत पदक विजेता भारतीय खिलाड़ी ने 38 मिनट में 21-7 21-7 से आसान जीत दर्ज की। सिंधु ने इसके साथ ही दो साल पहले इस टूर्नामेंट के फाइनल में ओकुहारा से मिली हार का बदला भी ले लिया। विश्व चैम्पियनशिप में सिंधु का यह पांचवां पदक है। पदकों की संख्या के मामले में सिंधू ने चीन की पूर्व ओलंपिक चैम्पियन झांग निंग की रिकार्ड की बराबरी की। सिंधु ने दो कांस्य पदक के साथ टूर्नामेंट के पिछले दो सत्र में दो रजत पदक भी हासिल किया है।