drishti haldwani

नई दिल्ली-पहले ही अभ्यास मैच में ढेर हुई विश्वकप की दावेदार टीम इंडिया, ग्रांडहोम ने ऐसे उखाड़ा कोहली का ऑफ स्टंप

149

नई दिल्ली-इस विश्वकप की दावेदार माने जाने वाले टीम इंडिया अपने पहले ही अभ्यास मैच में ढेर हो गई। ०पहले अभ्यास मैच में न्यूजीलैंड के हाथों छह विकेट से हार का सामना करना पड़ा। न्यूजीलैंड की टीम इस मैच में हर विभाग में भारतीय टीम से बेहतर साबित हुई। टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया। विराट का ये फैसला टीम के हित में नहीं रहा क्योंकि टीम के सभी स्टार बल्लेबाज कुछ खास नहीं कर पाए। इस मैच के जरिए टीम इंडिया की तैयारी की पोल भी खुल गई। टीम को लेकर अब तक बड़े-बड़े दावे किए जा रहे थे, लेकिन पहले ही अभ्यास मैच में टीम इंडिया के बल्लेबाजों की कलई खुल गई और टीम को करारी हार का सामना करना पड़ा। इस मैच के बाद टीम इंडिया के कप्तान ने हार के कारण टॉप और मिडिल ऑर्डर बुरी तरह से फेल होना बताया।

iimt haldwani

virat_kohli-2019

पंत की जगह शामिल कार्तिक ने बनाए मात्र 4 रन

टीम इंडिया के धुरंधर बल्लेबाज एक बार फिर न्यूजीलैंड की स्विंग गेंदबाजी के खिलाफ लाचार दिखाई दिए और टीम 179 रन पर सिमट गई। भारत की ओर से रवींद्र जडेजा ने ही सबसे अच्छी 54 रन की पारी खेली और टीम के इस स्कोर तक पहुंचाया। हार्दिक पांड्या ने भी 30 रन का सहयोग किया। टीम के ओपनर बल्लेबाज रोहित शर्मा व शिखर धवन दो-दो रन बनाकर आउट हो गए जबकि कप्तान विराट 18 रन और लोकेश राहुल 6 रन बनाकर पवेलियन लौट गए। धौनी ने भी इस मैच में उम्मीदों पर पानी फेरा और 17 रन बनाए जबकि दिनेश कार्तिक के बल्ले से सिर्फ चार रन ही निकले। भुवनेश्वर कुमार ने एक रन जबकि कुलदीप यादव ने 19 रन बनाए। शमी दो रन बनाकर नाबाद रहे। कोहली ने हार्दिक पांड्या के साथ मिलकर भारत के डूबते जहाज को किनारे पर लगाने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन कॉलिन डी ग्रांडहोमे की एक गेंद पर कोहली चूक गए और बोल्ड हो गए। उनका ऑफ स्टंप उखड़ गया।

Ravindra Jadeja

न्यूजीलैंड को जीत के लिए 180 रन का लक्ष्य मिला था जिसे इस टीम ने छह विकेट शेष रहते ही हासिल कर लिया। कीवी टीम ने 37.1 ओवर में चार विकेट पर 180 रन बनाए। न्यूजीलैंड की तरफ से कप्तान केन विलियमसन और रोस टेलर ने शानदार अर्धशतकीय पारी खेली। केन ने 67 जबकि टेलर ने 71 रन की पारी खेलकर टीम की जीत की नींव रख दी। इस हार के बाद विराट कोहली ने स्वीकार किया कि उनकी टीम अपनी योजना के अनुसार कार्यान्वयन नहीं कर सकी।