नई दिल्ली- देश के इन 6 एयरपोर्ट को निजी हाथों में सौंपने जा रही मोदी सरकार, इस योजना के तहत लिया फैसला

Slider

Airport Privatization India, सरकारी सम्पतियों को निजी कंपनियों को बेचने की योजना के तहत मोदी सरकार अब देश के 6 और एयरपोर्ट को निजी हाथों में सौंपेगी। सूत्रों के मुताबिक 6 और एयरपोर्ट को निजी हाथों में सौंपने के लिए अगले चरण की शुरुआत हो गई है। दूसरे चरण में 6 और एयरपोर्ट की पहचान की गई है इसमें वाराणसी, रायपुर, इंदौर, भुवनेश्वर, अमृतसर, तिरची शामिल हैं। अभी एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया इन एयरपोर्ट को ऑपरेट करती है।

Airport Privatization india PM modi

Slider

बता दें कि पहले चरण में 6 एयरपोर्ट की निलामी हो चुकी है। सरकार को भरोसा है कि जिस तरह पहले चरण में सरकार ने कंपनियों को खरीदने में दिल्चापसी दिखाई थी उसी तरह दूसरे चरण में भी ये निजी कंपनियां दिलचस्पी दिखा सकती हैं। पहले चरण में अदानी, जीएमआर, जीवीके जैसी कंपनियों से अच्छा रिस्पॉन्स मिला था। अदानी एंटरप्राइजेज को 6 एयरपोर्ट का जिम्मा मिला था। दूसरे चरण में भी ये निजी कंपनियां दिलचस्पी दिखा सकती हैं। सरकारी कंपनियों के एसेट मॉनेटाइजेशन पर बनी कमेटी ने इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। कैबिनेट सचिव ने भी इस प्रस्ताव को मंजूरी दी है।

फरवरी में हुआ था पहला निजीकरण

पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप के तहत देश छह हवाई अड्डों के संचालन का ठेका अडाणी समूह को मिला। इस समूह को यह ठेका 50 साल तक के लिए मिला है। सरकार ने पिछले साल नवंबर में एएआई द्वारा परिचालित किए जाने वाले छह हवाई अड्डों को पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप के तहत चलाने की अनुमति दी थी। इसके लिए मंगाई गई बोलियां बीते 25 फरवरी को खोली गईं। सभी छह अहमदाबाद, तिरुवनंतपुरम, लखनऊ, मेंगलुरु, जयपुर और गुवाहाटी हवाई अड्डों के परिचालन के लिए अडाणी समूह ने सबसे ऊंची बोली लगाई थी।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें