iimt haldwani

नई दिल्ली-जिसके पास कभी खेलने को नहीं थे जूते वह बना तूफान एक्सप्रेस, भारत को मिला अब तक का सबसे तेजगति वाला गेंदबाज

192

नई दिल्ली-वेस्टइंडीज दौरे के लिए आज टीम इंडिया का चयन हो गया है। जिसमें तेज गेंदबाज नवदीप सैनी को शामिल किया गया है। गेंदबाज आईपीएल में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की ओर से खेलते हैं। आईपीएल 2019 में अपनी रफ्तार भरी बॉलिंग से उन्‍होंने कई लोगों का ध्‍यान खींचा था। उन्होंने आईपीएल में अपनी रफ्तार और बाउंसर से बड़े खिलाडिय़ों को परेशान कर किया था। वह 140 किमी से ऊपर प्रतिघंटे की रफ्तार से गेंदबाजी करते है।

amarpali haldwani

Naveep Saini

गंभीर ने खरीदकर दिये जूते

नवंबर 1992 में सरकारी ड्राइवर के घर जन्में नवदीप के यहां हालांकि खाने-पीने की कोई कमी नहीं थी, लेकिन हालात इतनी भी मजबूत नहीं थी कि परिवार अपने बेटे की इच्छाओं को पूरी कर सके। परिवार की हालत क्रिकेट एकेडमी की फीस भरने तक की नहीं थी। जिसके बाद नवदीप ने टेनिस की गेंद से अभ्यास करना शुरू कर दिया। नवदीप के परिवार की आर्थिक स्थिति ऐसी थी कि वह एक जोड़ी स्पोट्र्स शूज तक नहीं खरीद सकते थे। ऐसे में गौतम गंभीर ने उनकी सबसे ज्यादा मदद की। और उन्हें खेलने के लिए जूते दिलाये।

navdeep-and-gambhir

चयनकर्ताओं से लडक़र दिलाई जगह

एक दिन अखबार में वीरेंद्र सहवाग, गौतम गंभीर, इशांत शर्मा की तस्‍वीर देखकर वह दिल्ली रणजी टीम का अभ्यास देखने रोशनारा स्टेडियम आ गए। गौतम गंभीर से पहले सुमित ने करनाल प्रीमियर लीग में सैनी की प्रतिभा को पहचान लिया था। पूर्व सलामी बल्लेबाज गंभीर ने करीब 15 मिनट नवदीप की गेंदबाजी देखी और तुरंत उन्हें दिल्ली की टीम में शामिल कर लिया। वहां खेलने में दिक्कत आयी तो गंभीर ने चयनकर्ताओं से बातचीत की और बाहरी खिलाड़ी के तौर पर विचार किया गया।

घरेलू सीजन में लिये 34 विकेट

इसके बाद उन्होंने गंभीर के विश्वास को सही साबित करते हुए 2017-2018 के सीजन में कुल 34 विकेट लिए। घरेलू सत्र में उनके प्रदर्शन ने उनके लिए कई दरवाजे खोल दिए। 2017 में साउथ अफ्रीका और श्रीलंका दौरे से पहले नवदीप को टीम इंडिया के नेट अभ्यास के लिए चुना गया। इसके बाद उन्हें अफगानिस्‍तान के खिलाफ एकमात्र टेस्ट मैच के लिए चुना गया था। वही विश्वकप में भुवनेश्वर को चोट लगी तो उन्हें भेजा गया लेकिन फिर उन्हें मौका नहीं मिला। अब वेस्टइंडीज दौरे के लिए उनका चयन हो गया।