नई दिल्ली-चुनाव से पहले सुमित्रा महाजन के इस लेटर से भाजपा में खलबली, असमंजस्य में भाजपा

Slider

नई दिल्ली-न्यूज टुडे नेटवर्क-लोकसभा चुनाव मेें दावेदारी को लेकर लोकसभा अध्यक्ष और इंदौर से मौजूदा सांसद सुमित्रा महाजन ने चुनाव लडऩे से इनकार कर दिया है। इंदौर सीट से प्रत्याशी घोषित करने के भाजपा के असमंजस के बाद महाजन ने ये फैसला किया है। इससे भाजपा के अंदरखाने खलबली मच गई। आठ बार लोकसभा में सांसद रहीं महाजन ने दिल्ली में एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर सवाल किया। भाजपा ने आज तक इंदौर में अपना उम्मीदवार घोषित नहीं किया है। यह अनिर्णय की स्थिति क्यों है। संभव है कि पार्टी को निर्णय लेने में कुछ संकोच हो रहा है। उन्होंने ये भी लिखा कि वह इस संबंध में पार्टी के वरिष्ठों से पहले ही चर्चा कर चुकी हैं। उन्होंने कहा कि मैंने निर्णय उनपर ही छोड़ा था। मैं यह घोषणा करती हूं कि मुझे अब लोकसभा का चुनाव नहीं लडऩा है

Slider

मुझे चुनाव नहीं लडऩा

इंदौर में लोकसभा चुनाव के लिए 19 मई को मतदान होना है। इसी महीने की 12 तारीख को उम्र के 76 साल पूरे करने जा रही है। वर्ष 1989 में इंदौर से अपना पहला लोकसभा चुनाव लड़ा था, तब पार्टी से टिकट नहीं मांगा था। पार्टी ने मुझे खुद टिकट दिया था। मैंने अपनी पार्टी से आज तक टिकट नहीं मांगा है। उन्होंने कहा कि अगर इंदौर में मेरे विकल्पों की चर्चा की जा रही है, तो यह मेरे लिये गौरव की बात है क्योंकि मैं भी पार्टी की एक घटक हूं। महाजन के अलावा, इंदौर लोकसभा सीट से बीजेपी के चुनावी टिकट के दावेदारों में शहर की महापौर तथा पार्टी की स्थानीय विधायक मालिनी लक्ष्मणसिंह गौड़, बीजेपी की अन्य विधायक ऊषा ठाकुर, बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, पूर्व विधायक भंवरसिंह शेखावत और इंदौर विकास प्राधिकरण के पूर्व चेयरमैन शंकर लालवानी के नाम चर्चा में हैं।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें