नई दिल्ली-जो काम धोनी नहीं कर पाये वो पंत ने कर दिखाया, कारनामा देख गांगुली ने उठा लिया गोद में

14

नई दिल्ली-न्यूज टुडे नेटवर्क-आईपीएल में 40वां मैच दिल्ली के लिए बेहद खास था। दो साल बाद टीम के पास आईपीएल के सीजन में सातवीं जीत मिल सकती थी। इस जीत को ऋषभ पंत ने आसान बनाया और टीम को 192 रनों का लक्ष्य चार गेंद शेष रहते हासिल करवा दिया। मैच के बाद टीम के मेंटॉर सौरव गांगुली ने पंत को खुशी से गोद में ऊठा लिया। जिस अंदाज में पंत ने मैच राजस्थान से छीना, उसने दिल्ली के खेमे में सभी को खुश कर दिया। जैसे ही दिल्ली ने जीत दर्ज की तो सौरव गांगुली मैदान की ओर दौड़े तो वापस आते पंत को उन्होंने गले लगाकर गोद में उठा लिया और कुछ देर तक उनकी पीठ भी थपथपा रहे। दोनों के पास खड़े टीम के बाकी खिलाड़ी भी इस नाजरे का आनंद उठाते दिखे। पंत भी गांगुली की इस हौसलाअफजाई से काफी खुश नजर आए। इसका जिक्र उन्होंने मैच के बाद भी किया। इससे पहले चेन्नई की हार में धोनी की काफी आलोचना हुई पंत ने 192 रनों का लक्ष्य छू लिया।

36 गेंदों में शानदार 78 रन

साथी खिलाड़ी पृथ्वी शॉ से बातचीत में पंत ने कहा कि मैच खत्म होने के बाद बाहर आने पर हर कोई प्यार बरसा रहा था। सौरव सर ने जब मुझे उठाया तो वह पल खास था। वह अलग ही अनुभव था। उन्होंने कहा कि हम टीम के लिए बड़े मैचों में फिनिशर की भूमिका निभाने की बात करते हैं और जब ऐसा कर पाते हैं तो बहुत खास लगता है। अपनी पारी के बारे में उन्होंने कहा कि यह अद्भुत अहसास है खासकर जब तुम शॉ मैदान पर थे। हमें पता था कि हम फिनिश कर लेंगे। पिछले काफी समय से पंत की इस बात पर आलोचना होती रही थी कि वे अपना विकेट गैरजिम्मेदाराना तरीके से गंवा रहे थे। लेकिन इस मैच में पंत ने न केवल अपना विकेट बचाया बल्कि तेज अंदाज में बल्लेबाजी करते हुए टीम को जिता कर ही पवेलियन वापस लौटे। पंत ने 36 गेंद में शानदार 78 रन बनाए।

गांगुली ने लगाया गले

सौरव गांगुली पहले से ही पंत के मुरीद है। वल्र्ड कप के लिए टीम इंडिया के चयन से पहले ही वे उनके चुने जाने की पैरवी कर रहे थे। उनके न चुने जाने की भी सौरव ने आलोचना की थी। वल्र्ड के लिए टीम इंडिया के चयनकर्ताओं ने पंत की जगह दिनेश कार्तिक को तरजीह दी है। वहीं इससे पहले ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के दौरे और उसके बाद ऑस्ट्रेलिया के भारत दौरे पर उन्होंने कार्तिक की जगह पंत को चुना था। पंत ने कहा कि मुझे अच्छा लग रहा है। अपनी टीम को महत्वपूर्ण मैच जिताने में अच्छा महसूस होता है। मैं झूठ नहीं बोलूंगा, चयन की बातें मेरे दिगाम में लगातार चल रहीं थीं। पिच अच्छा खेल रही थी। मुझे लगता है कि इसका फायदा मिला। हमारे टीम की खास बात है कि सभी लोग अपनी भूमिका को जानते हैं। सपोर्ट स्टाफ हमें बताती है कि यह आपकी भूमिका है।