PMS Group Venture haldwani

नई दिल्ली- एम्स में भर्ती होने से पहले Arun Jaitley ने पार्टी को लिखा था ये पत्र, आज दोपहर होगा अंतिम संस्कार

नई दिल्ली- पूर्व वित मंत्री अरुण जेटली (Arun Jaitley) का लंबी बीमारी के बाद शनिवार सुबह दिल्ली के एम्स में 66 वर्ष की आयु में निधन हो गया। सांस लेने की तकलीफ की शिकायत के बाद अरुण जेटली (Arun Jaitley) को 9 अगस्त को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में भर्ती कराया गया था। यहां उनकी तबीयत लगातार बिगड़ती रही और उन्हें बाद में लाइव सपोर्ट सिस्टम पर रखना पड़ा। (Arun Jaitley) जेटली को गुरुवार को डायलिसिस हुआ था। निधन के बाद जेटली के पार्थिव शरीर को दिल्ली के कैलाश कॉलोनी स्थित उनके आवास पर ले जाया गया था। जहां राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद एवं भाजपा अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) सहित विभिन्न नेताओं ने उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किए।

-bjp-headquater-arun-jaitely-last-rites

अरुण जेटली का अंतिम संस्कार आज निगम बोध घाट पर दोपहर 2.30 बजे किया जाएगा। अंतिम संस्कार से पहले अरुण जेटली का पार्थिव शरीर पार्टी मुख्यालय में रखा जाएगा। अरुण जेटली का पार्थिव शरीर बीजेपी मुख्यालय के लिए रवाना हो चुका है। अरुण जेटली के पार्थिव शरीर को सेना के ट्रक में ले जाया जा रहा है।

सभी नेताओं ने जेटली को दी अंतिम विदाई

विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं एवं भाजपा (BJP) कार्यकर्ताओं तथा उनके प्रशंसकों ने जेटली को अंतिम विदाई दी। जेटली का पार्थिव शरीर कांच के ताबूत में रखा गया। नेताओं ने इस दौरान श्रद्धासुमन अर्पित किये और पुष्पचक्र चढ़ाया., राजनाथ सिंह, निर्मला सीतारमण पीयूष गोयल, हर्षवर्धन, जितेंद्र सिंह और एस. जयशंकर के अलावा भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जे पी नड्डा सहित विभिन्न नेताओं ने जेटली को अंतिम विदाई दी।

मंत्रिमंडल में शामिल नहीं करने के लिए लिखा था पत्र

जेटली ने पत्र में लिखा था कि 18 महीने से मेरा स्‍वास्‍थ्‍य खराब चल रहा है। मैंने चुनाव प्रचार की सभी जिम्‍मेदारियों को निभाया। अब अपनी सेहत और इलाज पर ध्‍यान देना चाहता हूं। दरअसल, उन्‍हें अप्रैल, 2017 में एम्स में भर्ती कराया गया था, जहां वह डायलसिस पर थे। इसके बाद 14 मई, 2018 को दिल्ली के एम्स में उनका किडनी ट्रांसप्‍लांट हुआ। उनकी गैरमौजूदगी में रेल मंत्री पीयूष गोयल को वित्त मंत्रालय की अतिरिक्त जिम्मेदारी सौंपी गई थी। इसके बाद जेटली ने 23 अगस्त, 2018 को फिर वित्त मंत्रालय की जिम्‍मेदारी संभाल ली।

Coronavirus vaccine) वैज्ञानिकों ने ढूँढ निकाला कोरोना का सबसे सस्ता इलाज, 100 रुपए में ऐसे होगा कोरोना की जाँच