iimt haldwani

नेपाल बहुत ही रमणीक पर्यटन स्थल, पर्यटकों को आकर्षित करती हैं यहां की फिजाएं , कम खर्च में एक बार जरूर करेंं यहां की यात्रा

180

प्राकृतिक सुंदरता से परिपूर्ण नेपाल में विश्व प्रसिद्ध पशुपतिनाथ मंदिर के अलावा और भी बहुत से रमणीक पर्यटन स्थल हैं। छोटे से पहाड़ी देश नेपाल की आय का प्रमुख स्त्रोत पर्यटन ही है। इसका उत्तरी हिस्सा हिमालय की चोटियों से घिरा हुआ है। यही नहीं दुनिया की 10 सबसे उंची चोटियों में से आठ अकेले नेपाल में ही हैं। दुनिया की सबसे ऊंची चोटी एवरेस्ट नेपाल में ही स्थित है यहां इसे सागरमाथा कहते हैं। नेपाल हिंदू और बौद्ध धर्म की साझा विरासत खुद में समाए हुए है। इतनी सारी चीजें पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए काफी हैं।

drishti haldwani

घूमने का खर्च सिफ 25 हजार

यदि आपकी इच्छा कम पैसे में विदेश घूमने की है तो आप नेपाल जा सकते हैं। नेपाल में जाना बिल्कुल अपने देश में घूमने जैसा ही है, इस देश में कई सारे हिन्दू मंदिर हैं। हर साल भारत से कई सारे लोग इस देश में नबे इन प्रसिद्ध हिन्दू मंदिरों को देखने के लिए जाते हैं। नेपाल देश में मंदिरों के अलावा और कई सारे सुंदर पर्यटक स्थल भी मौजूद हैं, जो कि विश्व भर में प्रसिद्ध हैं। नेपाल देश एडवेंचरस करने वाले लोगों के लिए भी एकदम सही जगह है और इस जगह पर एडवेंचरस का खूब मजा लिया जा सकता है। आप अपनी छुट्टियों में इस देश जाने पर विचार कर सकते हैं। अगर आप नेपाल देश की ट्रिप प्लान करते हंै तो आपको ज्यादा जेब भी ढीली नहीं करनी पड़ेगी, क्योंकि इस देश की करंसी काफी सस्ती है और आप आराम से 4 -5 दिन इस देश में करीब 25 हजार रुपए खर्च करके गुजार सकते हैं।

नेपाल के दर्शनीय स्थल

पशुपतिनाथ मंदिर : नेपाल दर्शनीय स्थल में पहला प्रसिद्ध मंदिर पशपतिनाथ मंदिर। पशुपतिनाथ मंदिर नेपाल की राजधानी काठमांडू में स्थित है और पशुपतिनाथ भगवान शिव को ही कहा जाता है। यह सिर्फ धार्मिक स्थल के रूप में ही नहीं बल्कि सांस्कृतिकस्थल के रूप में भी प्रसिद्ध है। यह मंदिर भगवान शिव को अर्पित है। इस मंदिर में केवल हिन्दू धर्म के लोग ही जा सकते हैं और अन्य धर्म के लोगों को इस मंदिर के दर्शन बाहर से ही करने पड़ते हैं। यह मंदिर बागमती नदी के किनारे बना हुआ है। इस मंदिर के आसपास काफी सुंदर माहौल देखने को मिलता है और शिवरात्रि के दिन इस मंदिर में पर्व का आयोजन किया जाता है। पर्व के दौरान काफी संख्या में भक्त इस मंदिर में आते हैं। यह मंदिर काठमांडू से मात्र तीन किमी की दूरी पर स्थित है। इस मंदिर में जाने का सबसे उत्तम समय सुबह के दौरान सूर्योदय का है।

tourist destination nepal

Nepal-muktinath dham

मुक्तिनाथ मंदिर : मुक्तिनाथ मंदिर नेपाल दर्शनीय स्थल का दूसरा देखने लायक स्थल है। मुक्तिनाथ घाटी में यह मंदिर स्थित है। यह मंदिर भगवान विष्णु को अर्पित है और इस मंदिर में शालिग्राम शिला या शलिग्राम पत्थर की पूजा की जाती है। हिन्दू धर्म के अनुसार शालिग्राम शिला में भगवान विष्णु को निवास माना गया है और इसलिए इस पत्थर को काफी पवित्र माना जाता है। इस मंदिर को पैंगोडा वास्तुकला से बनाया गया है। वहीं यह मंदिर हिमालय में 3 हजार 700 मीटर से भी ज्यादा ऊंचाई पर मौजूद है। जिसकी वजह से इस मंदिर के आसपास काफी प्राकृतिक सुंदरता देखने को मिलती है।यहां की तीर्थयात्रा करना थोड़ा मुश्किल है क्योंकि इस क्षेत्र की यात्रा में हिमालय क्षेत्र की बड़ी पर्वत श्रृंखलाओं को पार करना होता है।

काठमांडू शहर : काठमांडू स्थल नेपाल दर्शनीय स्थल की शोभा बढ़ाता है। नेपाल की राजधानी काठमांडू में शाम के समय सैर करने का एक अलग ही आनंद आता है। दरअसल काठमांडू हिमालय के पहाड़ों से घिरा हुआ है और ऐसे में शाम के समय यहां का मौसम काफी सुहाना हो जाता है। साथ में ही इस जगह पर नेपाली टे्रडिशनल डांस और कई तरह के कार्यक्रमों का आयोजन भी समय-समय पर होता रहता है। काठमांडू में आपको शॉपिंग करने के लिए भी काफी कुछ मिल जाएगा। काठमांडू नेपाल का बेहद ही खूबरसूरत शहर है।

Kathmandu/ turist

पोखरा : पोखरा नेपाल दर्शनीय स्थल का चौथा प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल है। पोखरा शहर के पास ही फेवा झील स्थित है और इस झील के चारो ओर काफी सुंदर और शांत वातावरण है। जो भी लोग नेपाल घूमने के लिए जाते हैं वे पोखरा जरूर जाते हैं। पोखरा नेपाल का दूसरा सबसे फेमस शहर है और इस जगह पर झील के अलावा कई सारे मंदिर भी हैं।

pokhara/ turist

समरगाथा राष्ट्रीय उद्यान : समरगाथा राष्ट्रीय उद्यान नेपाल दर्शनीय स्थल का चौथा पर्यटक स्थल है। यह उद्यान नेपाल दर्शनीय स्थल में चार चांद लगा देता है। सागरमाथा राष्ट्रीय उद्यान बेहद ही सुंदर जगह है और इस उद्यान से माउंट एवरेस्ट को भी देखा जा सकता है। जो लोग माउंट एवरेस्ट नहीं जा सकते हैं वे लोग सागरमाथा राष्ट्रीय उद्यान से माउंट एवरेस्ट को देख सकते हैं। इस पार्क में आपको कई तरह के पक्षी और जानवर देखने को मिल जाएंगे। इस पार्क को प्राकृतिक विश्व धरोहर स्थल का दर्जा भी प्राप्त है।

lumbuni/ turist

लुंबिनी : गौतम बुद्ध की जन्मस्थली लुंबिनी दुनिया भर के बौद्ध अनुयायियों का तीर्थस्थल है। यह स्थान भारत-नेपाल सीमा से कुछ ही दूरी पर स्थित रुमिनोदेई गांव ही लुम्बनी गांव है। सम्राट अशोक के स्मारक स्तंभ के लिए जाने जाना वाला यह स्थल यूनेस्को की विश्व विरासत सूची में भी शामिल है। सम्राट अशोक ने इसे
अपनी नेपाल यात्रा की स्मृति में बनावाया था। यहां का प्रमुख आकर्षण केंद्र 8 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ बाग है। इसके अलावा मायादेवी मंदिर भी तीर्थयात्रियों के बीच खासा लोकप्रिय है। इसमें गौतम बुद्ध की मां मायादेवी की मूर्ति है। इस मूर्ति मायादेवी में गौतम बुद्ध का जन्म देती हुई दिखाई गई हैं।

Nepal-devhat/ turist

देवघाट धाम: देवघाट धाम भी नेपाल का प्रमुख पर्यटन स्थल है। देवघाट धाम काली गंडकी और त्रिशूली नदियों के संगम पर स्थित है। मकर सक्रांति के दौरान हिंदू धर्म के अनुयायी बड़ी संख्या में यहां आते हैं। इस दिन श्रद्धालु पवित्र नदी में डुबकी लगाते हैं। इसके अलावा यहां पर घूमने लायककई ऐतिहासिक स्थल भी हैं। यहां पर त्रिवेणी मंदिर, वाल्मीकि आश्रम, सोमेश्वर कालिका मंदिर किला, पांडवनाथ, कबिलासपुर किला जैसे कई स्थान हैं जिन्हें पर्यटक खास तौर पर देखना पसंद करते हैं।

Nepal-changur narayani

चांगुनारायण मंदिर : इस मंदिर को यहां का सबसे प्राचीन मंदिर कहा जाता है। इस मंदिर का निर्माण चौथी शताब्दी में किया गया था। कुछ कारणों से इसे दोबारा 1702 मे भी बनवाया गया। चांगुनारायण मंदिर शिवपुरी पहाडियों पर स्थित है। इस मंदिर में शेषनाग के साथ भगवान विष्णु की मूर्ति रखी गई है। पत्थर से बनी यह मूर्ति शिल्प कला का अद्भुत नमूना है।

कैसे जाएं नेपाल

दिल्ली से काठमांडू जाने के लिए आपको डॉ अंबेडकर स्टेडियम बस टर्मिनल से आसानी से बस मिल जाएगी। इस बस अड्डे से रोज सुबह 10 बजे काठमांडू के लिए बस जाती है। बस के किराए की बात की जाए तो आपको प्रति व्यक्ति 2300-2800 रुपए का किराया देना होगा। नेपाल जाने वाली बस में आपको पहले से बुकिंग करवानी पड़ती है। बुकिंग के दौरान आपको आईडी, आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस जैसे दस्तावेज की भी जरूरत पड़ती है।

nepal-700x422

दिल्ली के अलावा आपको उत्तर प्रदेश और कोलकाता से भी नेपाल जाने के लिए आसानी से बस मिल जाती है। वहीं आप चाहें तो अपनी गाड़ी से भी नेपाल जा सकते हैं। बस और गाड़ी के अलावा आप ट्रेन के माध्यम से भी नेपाल पहुुंच सकतें हैं। नेपाल और भारत के बार्डर तक टे्रन की सुविधा मौजूद है। नेपाल जाने के लिए आपको आसानी से विमान भी मिल जाएंगे। दिल्ली और भारत के कई शहरों से नेपाल के लिए विमान की सुविधा उपलब्ध है।

कब जाएं घूमने

नेपाल जाने का सबसे अच्छा समय फरवरी से अप्रैल के बच का है। इस दौरान यहां का मौसम काफी अच्छा होता है। वहीं अगर आप ट्रैकिंग करने के लिए नेपाल जाना चाहते हैं तो आप सितंबर से नवंबर के महीने के दौरान जा सकते हैं।