iimt haldwani

नैनीताल- सेना में भर्ती के लिए निकला युवक मलेशिया में गिरफ्तार, पढे़ देवभूमी में जालसाजों का ये कारनामा

1332

नैनीताल न्यूज- घर से सेना में भर्ती के लिए देहरादून निकले युवक को मलेशिया में गिरफ्तार कर लिया गया है। सुनकर आपको भी अजीब लग रहा होगा कि देहरादून जाने पर आखिर युवक मलेशिया में कैसे गिरफ्तार हो गया। दरअसल भाखुलखोला गांव, बैजनाथ, बागेश्वर के रहने वाले वीरेन्द्र देहरादून में आर्मी भर्ती के लिए निकला था। वहीं हिमाचल प्रदेश के कुछ लोगों ने उसे मर्चेंट नेवी में भर्ती करवाने का भरोसा दिलाया और उससे पांच लाख रुपये झटक लिए। इसके बाद मर्चेंट नेवी में नौकरी के नाम पर उसे मलेशिया भेज दिया गया।

drishti haldwani

हाईकोर्ट ने मांगी गिरफ्तारी की वजह

जानकारी मुताबिक नौकरी के चक्कर में फंसकर बागेश्वर का एक युवक मलेशिया पहुंचा और न सिर्फ़ पैसे गंवा बैठा बल्कि गिरफ़्तार भी हो गया। इधर परिजनों को उसके बारे में कहीं से भी कुछ पता नहीं चला तो वह नैनीताल हाई कोर्ट पहुंचे और कोर्ट के दखल के बाद पता चला कि वह मलेशिया पहुंच गया है और वहां गिरफ़्तार है। अब पीड़ित की दरख्वास्त पर हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार से यह भी बताने को कहा है कि उस युवक को मलेशिया में किस आरोप में गिरफ़्तार किया गया है।

नेवी में भर्ती को निकला बना मलेशिया में नौकर

मलेशिया में वीरेंद्र को मर्चेंट नेवी में नौकरी देने के बजाय किसी के घर में बतौर घरेलू नौकर रख दिया गया। जब वीरेंद्र का घर में संपर्क नहीं हुआ तो उसके पिता हाईकोर्ट की शरण में पहुंचे। राज्य सरकार का जवाब सुनने के बाद हाईकोर्ट ने केन्द्र सरकार को आदेश दिया है कि वह पता करे कि किस आरोप में वीरेन्द्र को मलेशिया पुलिस ने गिरफ्तार किया है। वही वीरेंद्र के पिता ने हाईकोर्ट से गुहार लगाई है कि केंद्र सरकार से वीरेंद्र को वापस लाने को कहा जाए।

क्या बोले वीरेंद्र के वकील

पीड़ित के वकील केके जोशी ने बताया कि बागेश्वर का रहने वाला वीरेंद्र कुमार जब गायब हो गया और उनका कहीं से कुछ पता नहीं चला तो उनके पिता की ओर से हाईकोर्ट में हैबियस कॉर्पस एप्लीकेशन दायर की गई। इस मामले में हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को नोटिस जारी किया तो राज्य सरकार ने कोर्ट में जवाब दाखिल किया। राज्य सरकार को विदेश मंत्रालय से पता चला है कि वीरेंद्र कुमार मलेशिया में हैं और गिरफ़्तार हो गया है। जिसके बाद कोर्ट ने उसकी गिरफ्तारी की वजह जानने के निर्देश सरकार को दिए है।