iimt haldwani

नैनीताल-इस घटना को अंजाम देने के लिए बना था फर्जी सीबीआई ऑफिसर, लेकिन ऐसे खुल गई पोल

651

नैनीताल-शनिवार को नैनीताल पुलिस ने एक फर्जी सीबीआई ऑफिसर को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में उसने जो बताया उससे पुलिस के भी होश उड़ गये। नैनीताल पुलिस को सूचना मिली की एक मोहम्मद आसिफ के घर रह रहा है और अपने आप को सीबीआई का ऑफिसर बता रहा है। वह क्षेत्र में किसी बड़ी घटना को अंजाम देने के फिराक में है। सूचना मिलते ही मल्लीताल पुलिस अलर्ट हो गई। इस बीच पुलिस ने फिर गुप्त सूचना ली तो वह संदिग्ध व्यक्ति वहीं ठहरा था।
इसके बाद पुलिस टीम मौके पर उस घर में पहुंची तो वहां मोहम्मद आसिफ पुत्र मोहम्मद यासीन व एक अन्य व्यक्ति मौजूद थे। घर में रह रहे एक व्यक्ति ने अपने को सीबीआई का आईजी बताते हुए किसी जांच के सिलसिले में नैनीताल आने की बात कही। लेकिन उसके उम्र और हुलिये से पुलिस को उस पर शक हो गया। इस पर पुलिस ने उससे आई कार्ड व अन्य दस्तावेज दिखाने की बात कही। जिनमें से कुछ कस्टम विभाग व सीबीआई से संबंधित थे। उसका नाम ऊसैद पाशा पुत्र मोहम्मद अकरम लिखा था।

amarpali haldwani

cbi

 

पूछताछ में ही रोने लगा बहरूपियां

पुलिस को अब उस पूरा शक को गया। इस पर पुलिस ने उससे सामान्य जानकारी के बारे में पूछा तो वह रोने लगा और स्वयं को बेकसूर बताने लगा। सीबीआई के बारे में वह कुछ नहीं जानता उसके रिश्ते के मामा मोहम्मद आसिफ ने सारे दस्तावेज उसे बनाकर दिये है। इतने में एक व्यक्ति अंदर से आया बोला तुम नहीं जानते यह सीबीआई में कितना बड़ा अधिकारी है। अभी पत लग जायेगा। और फोन करने लगा। पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की तो उसने अपने आप को रिटायर्ड पुलिसकर्मी बताया तथा अपना नाम मोहम्मद आसिफ पुत्र मोहम्मद यासीन निवासी चार्टन लॉज मल्लीताल नैनीताल बताया।

लोगों को ठगने की थी योजना

बोला यह सीबीआई का बड़ा अधिकारी है। अंदर से एक एक वॉकी-टॉकी सैट लाया। इस सैट से सीधे सीबीआई से बात करता है। जिसके बाद पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की तो बोला मेरा एक रिश्तेदार मोबाइल और कंप्यूटर का अच्छा ज्ञाता है। मैंने सोचा मैं भी इसके माध्यम से पैसे कमा लू। मैंने इंटरनेट से सीबीआई के बारे में जानकारी प्राप्त की। और फर्जी आई ओर दस्तावेज तैयार किये। जिससे लोगों से ठगी कर सकूं लेकिन इससे पहले पुलिस ने उसकी योजना पर पानी फेर दिया। जिसके बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया।