देहरादून- सांसद अनिल बलूनी उत्तराखण्ड की जनता के लिए बुन रहें हैं बडे-बडे सपने, ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल ने खोले कई राज

44

देहरादून- न्यूज टुडे नेटवर्क: व्यक्ति की पहचान उसके कामों से होती है न की किसी क्षेत्र विशेष से। ऐसी ही पहचान बना चुके हैं राज्य सभा सांसद अनिल बलूनी जो छोटे से राज्य उत्तराखण्ड के रहने वाले हैं। बलूनी एक सौ तीस करोड़ देशवासियों के लिए बड़ा काम कर रहे है। नरेन्द्र मोदी सरकार की उपलब्ध्यिों से लेकर मीडिया और सरकार के बीच मीडिया प्लान और समन्वय बनाने के लिए सब कुछ राज्य सभा सांसद अनिल बलूनी ही तय करते हैं। यह बात कही देश के ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल ने। गोयल ने कहा कि पहले उन्हें लगा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किसको भाजपा के राष्ट्रीय मीडिया प्रमुख की जिम्मेदारी दे दी है लेकिन जिस तरह से उन्होंने इलैक्ट्रानिक, सोशल मीडिया, और प्रिंट मीडिया को संभाला है उससे पता चलता है कि वह एक मैच्योर्ड पॉलीटीशियन हैं।

देखें वीडियों…

आदरणीय पीयूष जी का मैं हृदय से आभार प्रकट करता हूं जिन्होंने मेरे अनुरोध पर काठगोदाम से देहरादून के लिए नैनी-दून एक्सप्रेस का संचालन किया। टनकपुर से बागेश्वर, चौखुटिया, गैरसैण, कर्ण प्रयाग रेल लाइन के सर्वे हेतु धन आवंटित किया और टनकपुर से प्रयागराज को जाने वाली त्रिवेणी एक्सप्रेस का खटीमा में स्टॉपेज तय किया। पीयूष जी सहज सरल और सुलभ व्यक्ति हैं और मुझे उनसे बड़े भाई की तरह स्नेह प्राप्त होता है।आज देहरादून में पीयूष द्वारा दिये भाषण के अंश आपके साथ सांझा कर रहा हूँ।

Posted by Anil Baluni on Tuesday, April 9, 2019

अक्सर विचलित होकर केन्द्रिय मंत्री करते हैं उन्हें फोन

 ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल ने बताया कि कई बार न्यूज चैनल और समाचार पत्रों में खब़र प्रकाशित होने के बाद पर सुबह सुबह उन्हें फोन कर देते हैं। अक्सर हमारी मीडिया से संबंधित संकाओं को दूर करके मीडिया और जनता दोनों का पक्ष रखकर सहीं मायनों में जनसंपर्क की परिभाषा को साकार कर रहे हैं। वह बोले मुझे पता है कि वह उत्तराखण्ड की जनता के लिए बलूनी कितना काम करते हैं कई बार उन्हें गुस्सा भी आ जाता है।

 

                                                                                  प्रधानमंत्री के हैं काफी नजदीक

उत्तराखण्ड के रहने वाले अनिल बलूनी के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के काफी नजदीक माने जाते हैं। अनिल बलूनी आज से नही बल्कि पिछले 15 सालों से नजदीक हैं जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे तभी से उनकी पूरानी मुलाकात है। राजनैतिक गलियों से लेकर पीएमओ तक उनकी अच्छी पकड़ मानी जाती है।

इसीलिए उन्हें नजदकी होने पर कई अहम जिम्मेदारी दी गयी हैं। करीब एक माह पहले भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का उत्तराखण्ड दौरा हुआ था जिसमें अनिल बलूनी और प्रधानमंत्री कार्बेट नेशनल पार्क में जैव विविधता और पर्यावरण पर अध्ययन कर कार्ययोजना तैयार करायी।