inspace haldwani
inspace haldwani
Home उत्तरप्रदेश Mid Day Meal: अब स्कूलों में मिलेगा बढ़िया खाना, यह हो सकता...

Mid Day Meal: अब स्कूलों में मिलेगा बढ़िया खाना, यह हो सकता है मेन्यू

वार्ता विफल: किसान बोले, गोली या समाधान, सरकार से कुछ तो लेकर रहेंगे

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। सरकार और किसानों के बीच चल रहा गतिरोध अभी समाप्‍त होता नजर नहीं आ रहा है। मंगलवार दोपहर तीन बजे चल...

बरेली: सरकारी स्कूलों में खामियां मिलने पर भड़के डीएम, लगाई फटकार

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। डीएम नीतीश कुमार ने देहात क्षेत्र के सरकारी स्‍कूलों का निरीक्षण किया निरीक्षण के दौरान डीएम को स्‍कूलों में तमाम खामियां...

पूर्व सभासद से अज्ञात ने फोन कर मांगी रंगदारी, धमकी भी दी

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी के बरेली में मीरगंज तहसील के पूर्व सभासद को फोन करके किसी अज्ञात व्‍यक्‍ति ने दो लाख रूपए की रंगदारी...

यूपी : घर के बाहर खेल रही दो साल की बच्ची से दुष्कर्म

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी के आगरा बेहद शर्मनांक व दिल दहला देना वाला मामले सामने आया है। 15 साल के नाबालिक लड़के ने 2...

हल्द्वानी पहुंचे भाजपा नवनियुक्त प्रदेश महामंत्री सुरेश भट्ट ने कही ये बात, 2022 चुनाव की ऐसे कर रहे तैयारी

उत्तराखंड में नवनियुक्त प्रदेश महामंत्री सुरेश भट आज उत्तराखंड पहुंच गए। भट्ट का रुद्रपुर और हल्द्वानी में कार्यक्रम हुआ जहाँ उन्होंने संगठन को मजबूत...

देश में नई शिक्षा नीति (New education policy) लागू हो गई है। नई शिक्षा नीति लागू होने से सरकारी स्कूलों में पंजीकरण छात्रों के लिए मिड डे मील (midday mail) में भी बड़ा परिवर्तन किया जा सकता है। यह सुझाव एम्स दिल्ली (AIIMS Delhi) की एक कमेटी ने सरकार को दिया है। इस समय देश में मिड डे मील का सेवन करने वाले करीब 9 करोड़ 65 लाख बच्चे हैं।

Mid-Day-Mealएम्स द्वारा सुझाए गए मेन्यू (menu) के अनुसार नाश्ते में किसी दिन मूंगफली, चना और गुड़ होगा तो किसी एक दिन बच्चों को अंडा-दूध भी दिया जाएगा। किचिन में हलवा बनाने का सुझाव भी कमेटी ने दिया है। गौरतलब रहे देशभर में एमडीएम (MDM) खाने वाले बच्चों की पंजीकृत संख्या 13.10 करोड़ है, जबकि हर रोज़ खाने वाले बच्चों की संख्या 9.65 करोड़ होती है। सरकारी स्कूलों के बच्चों को शिक्षा से जोड़े रखने के लिए एमडीएम के साथ अब नाश्ता भी शुरु किया जा रहा है।

http://www.narayan98.co.in/

naryan college

https://youtu.be/yEWmOfXJRX8

मोदी सरकार 2016 से इस दिशा में काम कर रही थी। एक सर्वे रिपोर्ट (survey report) में सामने आया था कि 30 से 40 फीसदी से अधिक बच्चे इसलिए स्कूल जाते हैं, ताकि उन्हें दोपहर का भोजन मिल सके। इसी के चलते नाश्ता शामिल करने की योजना तैयार हुई। क्योंकि इसी रिपोर्ट में सामने आया था कि यह बच्चे पौष्टिक आहार न मिलने से कुपोषण के शिकार होते हैं। इसलिए नाश्ते में पौष्टिक आहार को शामिल किया जा रहा है।

Related News

वार्ता विफल: किसान बोले, गोली या समाधान, सरकार से कुछ तो लेकर रहेंगे

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। सरकार और किसानों के बीच चल रहा गतिरोध अभी समाप्‍त होता नजर नहीं आ रहा है। मंगलवार दोपहर तीन बजे चल...

बरेली: सरकारी स्कूलों में खामियां मिलने पर भड़के डीएम, लगाई फटकार

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। डीएम नीतीश कुमार ने देहात क्षेत्र के सरकारी स्‍कूलों का निरीक्षण किया निरीक्षण के दौरान डीएम को स्‍कूलों में तमाम खामियां...

पूर्व सभासद से अज्ञात ने फोन कर मांगी रंगदारी, धमकी भी दी

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी के बरेली में मीरगंज तहसील के पूर्व सभासद को फोन करके किसी अज्ञात व्‍यक्‍ति ने दो लाख रूपए की रंगदारी...

यूपी : घर के बाहर खेल रही दो साल की बच्ची से दुष्कर्म

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी के आगरा बेहद शर्मनांक व दिल दहला देना वाला मामले सामने आया है। 15 साल के नाबालिक लड़के ने 2...

हल्द्वानी पहुंचे भाजपा नवनियुक्त प्रदेश महामंत्री सुरेश भट्ट ने कही ये बात, 2022 चुनाव की ऐसे कर रहे तैयारी

उत्तराखंड में नवनियुक्त प्रदेश महामंत्री सुरेश भट आज उत्तराखंड पहुंच गए। भट्ट का रुद्रपुर और हल्द्वानी में कार्यक्रम हुआ जहाँ उन्होंने संगठन को मजबूत...

बरेली: सपा भाजपा ने झोंकी पूरी ताकत, एमएलसी चुनाव का मतदान सम्पन्न

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। एमएलसी चुनावों के लिए मतदान मंगलवार शाम को सम्‍पन्‍न हो गया। एमएलसी सीट पर काबिज होने के लिए सपा और भाजपा...