iimt haldwani

मैनपुरी-24 साल बाद एक मंच पर दिखे माया-मुलायम, एक-दूसरे को लेकर कही ये बातें

97

मैनपुरी-न्यूज टुडे नेटवर्क- कभी राजनीति में एक-दूसरे के धुर विरोधी रहे मायावती और मुलायम सिंह यादव आज एक ही मंच पर साथ हैं। करीब ढाई दशक पहले मुलायम ने कांशीराम के साथ मंच साझा किया था। अब वे मायावती के साथ मंच साझा कर रहे हैं। आज दोनों की ये संयुक्त रैली मैनपुरी के क्रिश्चियन मैदान में हो रही है। लोकसभा चुनाव में इस रैली के कई मायने निकाले जा रहे हैं। अखिलेश यादव, सतीश मिश्रा समेत दोनों दलों के अन्य नेता भी एक साथ मंच पर हैं। रैली में करीब दो लाख लोगों को इक_ा करने का दावा किया जा रहा है। इसके लिए व्यवस्थाएं भी बनाई गई हैं। प्रशासन ने भी पूरी तरह इंतजाम कर लिए हैं। ट्रैफिक प्लान जारी कर दिया गया है।

drishti haldwani

मैनपुरी हमारा जिला है- मुलायम

करीब 24 साल बाद सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती एक मंच पर दिखाई दिए। एक जून, 1995 को गेस्‍टहाउस कांड के बाद सपा और बसपा गठबंधन टूटने के बाद दोनों दिग्‍गज नेता एक साथ एक मंच पर दिखाई दिए। इस अवसर मुलायम सिंह यादव ने कहा कि ये हमारा आखिरी चुनाव है, कृपया हमको भारी बहुमत से जिताएं। उन्‍होंने मायावती का स्‍वागत करते हुए कहा कि हमारा भाषण आप पहले भी सुन चुके हैं, आज दूसरों को सुनिए। उन्‍होंने बार-बार जोर देकर कहा कि ज्‍यादा लंबा भाषण नहीं दूंगा, भारी बहुमत से जिताएं। मैनुपरी हमारा जिला है, सब हमारे साथ हैं। जीत के अंतर और सीटों की संख्या पर नेताजी ने कहा कि अभी तो वोट पड़ेगा, चुनाव भी शुरू नहीं हुआ है, अभी तो सीटें बंटे नहीं हैं, अभी लिस्ट जारी कहां हुई है। वहीं मुलायम सिंह ने शिवपाल यादव के बारे में सवाल पूछने पर कहा कि शिवपाल भाई है, आपको क्या मतलब है।