inspace haldwani
Home देश मध्यप्रदेश: सीधी बस हादसे में 51 लोगों की मौत, लापता की तलाश...

मध्यप्रदेश: सीधी बस हादसे में 51 लोगों की मौत, लापता की तलाश अभी जारी, नहर में समा गई थी यात्रियों से भरी बस

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। मध्‍यप्रदेश के सीधी में नहर में गिरी बस हादसे में अब तक 51 लोगों की मौत हो चुकी है। अभी भी लापता लोगों की तलाश जारी है। रेस्‍क्‍यू अभियान अभी चल रहा है। गौरतलब है कि मंगलवार को क्षमता से अधिक यात्रियों को लेकर जा रही बस नहर में गिर गई थी। दर्दनाक हादसे में अभी तक 51 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है। बस में सवार अधिकतर लोग छात्र थे और विभिन्‍न एग्‍जाम देने जा रहे थे। बस में केवल 32 यात्रियों को बैठाने की क्षमता थी जबकि बस में कुल 60 लोग सवार थे।

सीधी बस हादसा कई परिवारों को कभी न मिटने वाला गहरा जख्म देकर गया है। हादसे में मरने वालों की संख्या 51 हो चुकी है। मंगलवार रात तक 47 शव मिले थे। बुधवार को 4 बॉडी और मिलीं, जिसमें 5 महीने की बच्ची का शव रीवा में मिला। 3 लापता लोगों की तलाश जारी है। इस बीच, आज मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान घटनास्थल पहुंचेंगे। वे पीड़ित परिवारों से भी मिलेंगे।

रीवा के सिमरिया निवासी बस ड्राइवर 28 साल के बालेंद्र विश्वकर्मा को पुलिस ने मंगलवार देर रात गिरफ्तार कर लिया। ड्राइवर ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि उसका एक ड्राइविंग लाइसेंस हादसे में बह गया जबकि दूसरा लाइसेंस रीवा में है, वही गाड़ी के दस्तावेज सतना में है। इसके बाद बालेंद्र के ड्राइविंग लाइसेंस और बस के डॉक्यूमेंट्स के लिए दो टीमें रीवा और सतना भेजी गई हैं।

पुलिस ड्राइवर से यह पता करने में जुटी है कि क्या वह पहले भी ओवरलोड कर बस चलाता था? ASP अंजूलता पटले के मुताबिक, बस में कुल 63 यात्री सवार थे। इनमें से तीन यात्री हादसे से पहले ही बस से उतर गए थे। वहीं 60 यात्रियों में छह की जान बचाई जा चुकी है।

नहर में पलटने वाली सीधी-सतना रूट की बस MP-19P 1882 में कुल 33 स्थानों से 60 लोग सवार हुए थे। इसमें सबसे ज्यादा रामपुर नैकिन, कुसमी और बहरी वेलहा से 3-3, बाकी आसपास के गांवों में रहने वाले थे।

बस हादसे में जिंदा बच गए लोग इसे किसी चमत्कार से कम नहीं मान रहे हैं। इस बड़े हादसे में छह लोगों को उनके जज्बे ने बचा लिया। इसमें तीन पुरुष और तीन युवतियां शामिल हैं। इस दौरान बहादुर बेटी शिवरानी और उसके परिजन ने इन छह लोगों को बचाने में गजब की हिम्मत और जज्बा दिखाया। इसमें से अधिकतर 200 से 500 मीटर तक बह गए थे।

अनिल तिवारी ने बताया, ‘जैसे ही बस नहर में डूबने लगी, बस की बंद खिड़की को जोर से हाथ मारा, जिससे कांच टूट गया। मुझे तैरना आता था। बगल में बैठे सुरेश गुप्ता को बचाने की कोशिश की और उनका हाथ पकड़कर खिड़की से बाहर खींच लिया।’ सुरेश गुप्ता 62 वर्ष के हैं, तैरना भी कम जानते थे, लेकिन दोनों ने एक-दूसरे का हाथ पकड़कर नहर का किनारा पकड़ लिया। करीब 300 मीटर दूर जाकर एक पत्थर मिला, जिसके सहारे दोनों अपनी जान बचा पाए।

ज्ञानेश्वर चतुर्वेदी बस में सामने के कांच से आगे की ओर देख रहे थे। जैसे ही बस नहर में गिरने लगी तो उन्होंने खिड़की के कांच में पैर मारा और पानी में कूद गए। गनीमत यह रही कि वे बस के किसी हिस्से में नहीं फंसे। देखते ही देखते उनकी आंखों के सामने ही बस धीरे धीरे डूब गई। वे नहर का किनारा पकड़कर तैरने लगे। तभी एक सीढ़ी मिली, जिसे पकड़कर ऊपर आ गए।

Related News

युवा खेलें भी, पढ़ें भी, सोयें भी और योद्धा की तरह परिक्षाओं की तैयारी भी करें, मन की बात में बोले प्रधानमंत्री मोदी

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने युवा छात्रों से कहा है कि उन्हें चिंतित होने की बजाय एक योद्धा की तरह परीक्षाओं की...

कृषि कानून के विरोध में कई किसानों ने अपनी फसलें की नष्‍ट

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। हरियाणा के हिसार में  तीन कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे किसान आंदोलन के बीच हिसार के निकटवर्ती गांव लाडवा...

देहरादून- 1 मार्च से लागू होंगे ये नियम, इन बैंक ग्राहकों को झेलनी पड़ेगी फजीहत

देश में हर माह की पहली तारीख से कुछ नियमों में बदलाव होते हैं। मार्च माह की पहली तारीख को भी ऐसा ही होने...

तमिलनाडु में टाइल्स कारोबार समूह पर आयकर का छापा, ये गड़बड़ी निकलकर आई सामने

नई दिल्ली। तमिलनाडु में एक प्रमुख टाइल्स कारोबारी समूह के यहां आयकर विभाग ने छापामारी की। 220 करोड़ रुपए की अघोषित संपति का खुलासा...

बड़ी खबर – यहां गेस्ट हाउस में पुलिस ने किया सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ , कई युवक युवतियां गिरफ्तार

नोएडा - न्यूज टूडे नेटवर्क -   नोएडा में पुलिस ने शनिवार दोपहर को सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ किया है। पुलिस ने मौके से 7...

जल पर फोकस रही मन की बात, जानिए क्‍या बोले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

नयी दिल्ली।  मन की बात में रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जल को जीवन बताया। आस्था का प्रतीक व विकास की धारा करार...