inspace haldwani
Home पर्यटन भगवान विष्णु की वजह से शिव जी को छोड़ना पड़ा था ''बद्रीनाथ''...

भगवान विष्णु की वजह से शिव जी को छोड़ना पड़ा था ”बद्रीनाथ” धाम, जाना पड़ा था केदारनाथ, जानिए क्या थी वजह

देहरादून-न्यूज टुडे नेटवर्क : बद्रीनाथ में भगवान विष्णु भक्तों का कल्याण करते हैं तो केदारनाथ में भगवान शंकर अपने भक्तों पर कृपा करते हैं। बद्रीनाथ में भगवान विष्णु का प्राकट्य कैसे हुआ, शास्त्रों के अनुसार इसका अलौकिक सत्य कुछ और ही है। इस संबंध में एक रोचक कहानी आती है। भगवान भोलेनाथ और विष्णु एक ही शक्ति के 2 साकार स्वरूप हैं। शिव ही विष्णु हैं और विष्णु ही शिव है। दोनों में कोई अंतर नहीं। बद्रीनाथ में भगवान विष्णु भक्तों का कल्याण करतें हैं तो केदारनाथ में भोलेनाथ अपने भक्तों पर कृपा करते हंै। बद्रीनाथ में भगवान विष्णु प्राकट्य कैसे हुआ इस संबंध में एक रोचक कथा आती है।

badrinath dham

जानिए क्या है सच्चाई

कहते हैं बद्रीनाथ में कभी भगवान शिव माता पार्वती के साथ रमण करते थे। भगवान शिव अपने गणों और पार्वती के साथ बद्रीनाथ में रहा करते थे। यहां एक बेर का विशाल वन था। यहीं पर उनका वास था। यहां उनकी भरपूर कृपा बरसती थी परंतु भगवान विष्णु को यह स्थान बहुत अधिक पसंद था और उन्होंने इस जगह को पाने के लिए शिव जी से छल करने की सोची। एक दिन भगवान विष्णु बालक रूप धारण कर यहां आए। भगवान शिव यहां माता पर्वती के साथ विराजमान थे। विष्णु जी बालक के रूप में लीला करने लगे। माता पार्वती उस बालक को घर ले आई। बालक को जब भगवान शिव ने देखा तो वह तुरंत पहचान गए कि वह कोई और नहीं स्वयं भगवान विष्णु हैं। कहते हैं भगवान शिव और पर्वती ने वह स्थान भगवान विष्णु को दे दिया और स्वयं केदार नाथ धाम आ गए। तब से बद्रीनाथ में भगवान विष्णु और केदारनाथ में भोले नाथ का वास हो गया।

Kedarnath-Dham

जब भगवान विष्णु बालक रूप धारण किया

भगवान विष्णु ने एक दिव्य सुंदर बालक का रूप धारण किया और बद्रीनाथ मंदिर के सामने पहुंचकर रोने लेगे। जब माता पार्वती ने इस बालक को रोते हुए देखा तो उनसे रहा नहीं गया और उस बालक को गोद में उठा लिया। इसके बाद उस बालक को माता पार्वती अपने निवास स्थान में लेकर आ गईं। जब कुछ देर के बाद शिव और पार्वती किसी कारणवश कहीं बाहर गए। तो उन दोनों के बाहर निकलते ही विष्णु रूप में आए इस बालक ने झट से कपाट बंद कर दिया और कहा कि आप इस जगह से दूसरी जगह चले जाएं। देवाधिदेव तो पहले से ही सब कुछ जानते थे। इसलिए उन्होंने माता पार्वती से कहा अब हमें केदारनाथ में ही अपना निवास स्थान बनाना होगा। कहते हैं कि तभी से भगवान शिव केदारनाथ में और भगवान विष्णु बद्रीनाथ में निवास करते आ रहे हैं।

Related News

पर्यटन दिवस पर बोले मंत्री- साहसिक खेलों का केन्द्र बनेगा कारगिल

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। जम्मू कश्मीर के कारगिल सेक्टर में आज राष्ट्रीय पर्यटन दिवस मनाया गया स्थानीय युवाओं की प्रतिभाओं को सामने लाने तथा कारगिल...

चमोली- हिमालय दर्शन के लिए शुरू हुई ये खास सुविधा, एक बार में 5 पर्यटक कर सकेंगे दीदार

उत्तराखंड के चमोली में जोशीमठ के रविग्राम स्थित हेलीपैड से हिमालय दर्शन के लिए हेलीकॉप्टर सेवा आज से शुरू हो गई है। हेलीकॉप्टर से...

देहरादून- टिंबरसैंण महादेव यात्रा को सरकार ने दी हरी झंडी, इस दिन से शुरू होगी यात्रा

बाबा अमरनाथ की तर्ज पर देश-दुनिया के तीर्थ यात्री अब उत्तराखंड की नीती घाटी में टिंबरसैंण महादेव की यात्रा कर सकेंगे। मार्च से यात्रा...

चंपावत- पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने प्रदेश को दी करोड़ो की सौगात, मानसरोवर यात्रा को लेकर कही ये बात

पिथौरागढ़ पहुंचे राज्य पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने लगभग 16 करोड़ की लागत से हुए विकास कार्यों का लोकार्पण किया। इस दौरान उन्होंने कहा...

उत्तराखंड- इस जिले में बनेगा प्रदेश का पहला मगरमच्छ सफारी, इन प्रजातियों के मगरमच्छ बढ़ाएंगे पर्यटकों का एडवेंचर

उत्तराखंड वन विभाग कुमाऊं में सुरई वन रेंज में राज्य की पहली मगरमच्छ सफारी स्थापित करने की योजना बना रहा है। तराई-पूर्व वन प्रभाग...

२०२० के इस विंटर वैकेशन को बनाए और भी सुहाना, इन जगहों पर देखने को मिलेगा प्रकृति का अदभुत सौन्दर्य

लाइफ स्‍टाइल बदलाव के लिए घूमना फिरना भी बेहद जरूरी है बरेली। साल में एक बार कहीं घूमने का प्लान जरूर बनाना चाहिए, इससे हमारी लाइफस्टाइल में...