drishti haldwani

उज्जैन के सांदीपनि आश्रम में भगवान श्रीकृष्ण ने सीखी थी 64 विद्या और 16 कलाएं

161

उज्जैन- उज्जयिनी नगरी का प्राचीन शैक्षणिक महत्व रहा है। सनातन धर्म परंपरा की प्राचीन गुरुकुल पद्धति में महाकाल की नगरी उज्जैन का विशिष्ट स्थान है। शास्त्रीय मान्यता है कि भगवान श्रीकृष्ण यहां अध्ययन के लिए मथुरा से 5229 वर्ष पूर्व पैदल चलकर आए थे। अंकपात क्षेत्र में स्थित गुरु महर्षि सांदीपनि आश्रम में जगदगुरु योगेश्वर भगवान श्रीकृष्ण ने अपने भाई बलराम और मित्र सुदामा के साथ तपोनिष्ठ महर्षि सान्दीपनि से धनुर्विद्या, अस्त्र मंत्रोपनिषद, गज एवं अश्वरोहण इत्यादि 64 विद्या और 16 कला का ज्ञान प्राप्त किया था। उन्होंने यह सम्पूर्ण शिक्षा 126 दिन में प्राप्त कर ली थी। गुरु सांदीपनि अवन्ति के कश्यप गोत्र में जन्मे ब्राह्मण थे। वे वेद, धनुर्वेद, शास्त्रों, कलाओं और आध्यात्मिक ज्ञान के प्रकाण्ड विद्वान थे। जानकार बताते हैं कि उस समय उन्हें शस्त्र, शास्त्र व धर्म सहित फर्नीचर से लेकर इत्र बनाने की विद्या गुरु श्रेष्ठ सांदीपनि ने दी थी। 5000 सालों के बाद भी यह आश्रम यहां प्राचीन गुरुकुल की याद दिलाता है।

iimt haldwani

4

आश्रम का प्रबंधन गुरु सांदीपनि कुल के वंशजों के हाथ में

उज्जैन श्रीकृष्ण की शिक्षा स्थली होने से भक्तों में यहां विशेष उल्लास है। गुरु सांदीपनि अवन्ति के कश्यप गोत्र में जन्मे ब्राह्मण थे। वे वेद, धनुर्वेद, शास्त्रों, कलाओं और आध्यात्मिक ज्ञान के प्रकाण्ड विद्वान थे। वे अपने शिष्यों से असीम प्रेम करते थे। फिलहाल आश्रम का प्रबंधन गुरु सांदीपनि कुल के वंशजों के हाथ में है। आज भी यहां भगवान को दिए गए ज्ञान के चित्र दीवारों पर अंकित हैं। किसी चित्र में देवकीनंदन फर्नीचर बनाते तो किसी में गुरु सांदीपनि से शास्त्र का ज्ञान लेते नजर आते हैं। श्रीकृष्ण के भक्त यहां आकर अभिभूत हो जाते हैं। वैष्णव संप्रदाय के भक्तों के लिए यह जगह शीर्ष तीर्थों में शामिल है।

यह भी पढ़ें- बाबा अमरनाथ की पवित्र गुफा का क्या है रहस्य, जानिए क्यों करते हैं लोग यहां की यात्रा

sandipani ashram

12 वर्ष की आयु में श्रीकृष्ण ने सांदीपनि आश्रम में शिक्षा प्राप्त की

12 वर्ष की आयु में यज्ञोपवीत के बाद ही श्रीकृष्ण सांदीपनि आश्रम में शिक्षा प्राप्त करने आये थे। भगवान कृष्ण और बलराम ने कम समय में ही विभिन्न कलाओं और शास्त्रों की शिक्षा प्राप्त कर ली थी। भागवत, हरिवंश, ब्राह्म पुराण आदि ग्रंथों में सांदीपनि आश्रम में श्रीकृष्ण-बलराम और सुदामा द्वारा 64 विद्याएं और 16 कलाएं सीखने की अवधि मात्र 126 दिन बताई गई है।

5सांदीपनि आश्रम छोडऩे के पूर्व श्रीकृष्ण ने गुरु सांदीपनि के साथ श्री महाकालेश्वर का सहस्रनाम लेकर बिल्वपत्र द्वारा अभिषेक किया था। श्रीकृष्ण ने अपने अग्रज बलराम और सखा सुदामा के साथ महर्षि सांदीपनि से जो शिक्षा-संस्कार प्राप्त किए की थी, वे ही श्रीमद् भगवत गीता की ज्ञानगंगा के रूप में प्रस्फुटित हुई। सांदीपनि ऋषि का आश्रम आज भी इस बात के स्पष्ट प्रमाण प्रस्तुत करता है।

Gomati-Kund-

यह भी पढ़ें-अदुभुत है दक्षिणमुखी ज्योर्तिलिंग महाकाल की महिमा, जिनके दर्शन मात्र से टल जाती है अकाल मृत्यु

जानिए आश्रम में किन स्थलों के होते हैं दर्शन

गोमती कुंड : सांदीपनि आश्रम के पास गोमती कुंड स्थित है। मान्यता है कि भगवान श्रीकृष्ण ने योगविद्या से पवित्र केंद्रों के सारे पानी कीे गोमती कुंड की ओर मोड़ दिया था, ताकि गुरु संदीपनि को आसानी से पवित्र जल मिलता रहे।
आज भी यह कुंड यहां स्थित है। भगवान श्रीकष्ण जब पट्टी (स्लेट) पर जो अंक लिखते थे, उन्हें मिटाने के लिए वे जिस गोमती कुंड में जाते थे, वह कुंड यहां आज भी स्थापित है। अंको का पतन अर्थात धोने के कारण है कि इस आश्रम के सामने वाले मार्ग को आज अंकपात के नाम से जाना जाता है।

sandipani_aashram_26_

कृष्ण-बलराम और सुदामा की बाल लीलाएं

आश्रम में भगवान कृष्ण, बलदाऊ सुदामा और उनके सखा सुदामा की बाल लीलाओं के चिह्न आज भी नजर आते हैं। तीनों की मूर्तियों की पूजा होती है। कई कथाएं भी तीनों के संबंधों को लेकर प्रचलित है। सांदीपनि आश्रम में स्थित कलादीर्घा में भक्तों को होते हैं श्रीकृष्ण की 64 विद्या और 16 कलाओं के दर्शन।

ujjam

भगवान के हाथ में दिखाई देती है स्लेट व कलम

यहां भगवान श्रीकृष्ण की बैठी हुई प्रतिमा के दर्शन होते हैं, जबकि बाकी कहीं भी अन्य मंदिरों में भगवान श्रीकृष्ण बांसुरी बजाते नजर आते हैं। भगवान श्रीकष्ण बाल रूप में हैं, उनके हाथों में स्लेट व कलम दिखाई देती है।

यहीं हुआ था भगवान श्रीकृष्ण व भोलेनाथ का मिलन

भगवान श्रीकृष्ण जब सांदीपनि आश्रम में विद्याध्ययन करने गए, तो भगवान शिव उनसे मिले और उनकी बाल लीलाओं के दर्शन करने महिर्षि के आश्रम आए, यही वह दुर्लभ क्षण था, जिसे हरिहर मिलन का रूप दिया गया।

nandi

यहां है खड़े नंदी की प्रतिमा

महर्षि सांदीपनि आश्रम में ही भगवान शिव का एक मंदिर भी है, जिसे पिंडेश्वर महादेव कहा जाता है। जब भगवान शिव अपने प्रभु श्रीकृष्ण की बाल लीलाओं का दर्शन करने के लिए यहां पधारे, तो गुरु और गोङ्क्षवद के सम्मान में नंदीजी खड़े हो गए। यही वजह है कि यहां नंदीजी की खड़ी प्रतिमा के दर्शन भक्तों को होते हैं। देश के अन्य मंदिरों में नंदी की बैठी हुई प्रतिमाएं नजर आती हैं।

sandipani1

प्राचीन सर्वेश्वर महादेव के भी होते हैं दर्शन

गुरु सांदीपनि ने अपने तपोबल द्वारा बिल्वपत्र के माध्यम से एक शिवलिंग प्रकट किया था, जिसे सर्वेश्वर महादेव के नाम से जाना जाता है। गोमती कुंड के समीप ही इस मंदिर में भगवान शिव की दुर्लभ प्रतिमा स्थापित है। यहां पढऩे वाले बच्चों को पाती लिखकर दी जाती है, ताकि उनका पढ़ाई में मन लगा रहे और बड़े होकर जब वे किसी साक्षात्कार के लिए जाएं तो यही पाती अपने साथ पॉकेट रखें, तो अवश्य सफलता मिलती है।

कैसे पहुंचें : उज्जैन भारत के सभी प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है। इसलिए आपको यहां तक आने के लिए देश के सभी बड़े शहर दिल्ली, मुंबई या कोलकाता से कई प्रकार के साधन मिल जायेंगे। सांदीपनि आश्रम उज्जैन मंदिर के शहर से दो किलोमीटर दूर स्थित प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। जिससे आप वहां टैक्सी या फिर पैदल यात्रा कर सकते हैं।