LOCKDOWN: राशन बांटने में गड़बड़ी की शिकायत पर विधायक ने लगाई कोटेदार की क्लास, कहा गरीबों के राशन पर मत डालो डाका

बरेली: लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान काम न मिलने की वजह से गरीब मजदूर सरकार से मिलने वाले राशन से ही अपने परिवार का भरन-पोषण करने को मजबूर हैं। इस संकट की घड़ी में भी कार्डधारकों (Ration card holders) का कहना है कि कोटेदार उन्‍हें पूरा राशन नहीं दे रहे हैं। शहर से लेकर देहात तक में राशन कम बांटने शिकायतें मिल रही हैं। कम राशन की शिकायत मिलने पर विधायक पप्पू भरतौल ने करगैना में राशन की दुकान का निरीक्षण कर कोटेदार को नसीहत देते हुए पूरा राशन देने के निर्देश दिए। वहीं लगातार तीसरे दिन भी राशन की दुकानों पर सोशल डिस्टेंसिंग (Social distancing) को ताक पर रखते हुए भीड़ की मौजूदगी में राशन का वितरण किया गया। कई जगह तो राशन को लेकर कोटेदार और कार्डधारकों के बीच कहासुनी भी हुई। 

लॉकडाउन के दौरान गरीब मजदूरों को सबसे मुश्‍किल दौर से गुजरना पड़ रहा है। वहीं कार्डधारक पूरा राशन न मिलने से परेशान हैं। उनका कहना है कि शिकायत के लिए हेल्पलाइन नंबर (Helpline number) या खाद्य आपूर्ति कार्यालय में फोन करने पर कार्रवाई की बात कही जाती है। मगर उसके बाद भी कोटेदार कभी सर्वर न आने का बहाना बनाकर जल्दी ही दुकान बंद करके भाग जाते हैं। साथ ही कोटेदार उन्‍हें राशन भी कम देते हैं। शिकायत मिलने पर विधायक पप्पू भरतौल ने करगैना में राशन की दुकान का निरीक्षण कर कोटेदार को नसीहत देते हुए पूरा राशन देने के निर्देश दिए। 

हमें तो हर माह कम मिलता है एक किलो चावल
किला छावनी निवासी यासमीन ने बताया कि उसके परिवार में तीन लोग हैं। उसका पति मजदूरी करके परिवार का पालन-पोषण करता है। मगर अब लॉकडाउन की वजह से काम धंधा ठप पड़ा हुआ है। शनिवार को दुकान पर राशन लेने के लिए आए तो कई घंटे लाइन में लगने के बाद नंबर आया। परिवार में तीन यूनिट का कार्ड है जिस पर 15 किलो राशन मिलना चाहिए। मगर कोटेदार ने प्रति यूनिट पर एक किलो कम चावल दिया है। पूंछने पर कोटेदार बताया कि राशन ऊपर से ही कम मिल रहा है। इसके अलावा किला के हुसैन बाग की रहने वाली मुन्नी ने बताया कि उनके चार युनिट के कार्ड पर एक किलो प्रति यूनिट कम चावल मिला है। कार्डधारकों ने बताया कि कई बार शिकायत के बाद भी कोटेदारों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

यहाँ भी पढ़े

COVID-19: लॉकडाउन में इलाज कराने बाहर जाने के लिए सरकार ने दी यह सुविधा

उत्तराखंड की बड़ी खबरें