LOCKDOWN: छह माह तक टल सकता है 2020 ग्राम पंचायत चुनाव, जानें वजह

उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस (corona virus) का असर पंचायत चुनाव (Panchayat election) पर भी पड़ता नजर आ रहा है। निर्वाचन आयोग ने चुनाव को सही समय पर करवाने के लिए फरवरी व मार्च में कार योजना बनाई थी। लेकिन अब यह योजना लटकी हुई दिखाई पड़ रही है। मतपत्रों (ballot papers) की छपाई, मतपेटियों व चुनाव सामग्री आदि की आपूर्ति के लिए टेण्डर प्रक्रिया (tender process) पूरी नहीं हो सकी। अब वोटर लिस्ट (voter list) के पुनः निरीक्षण के लिए भी नए सिरे से कार्य योजना तैयार की जाएगी। इसके लिए प्रदेश सरकार ने 490 करोड़ रूपये जारी कर दिये हैं।
panchayat election
प्रदेश की ग्राम पंचायतों के मौजूदा ग्राम प्रधानों (gram pradhan) का कार्यकाल आगामी 25 दिसम्बर को समाप्त हो रहा है। उससे पहले यह चुनाव (election) करवाए जाने जरूरी हैं। लेकिन कोरोना की वजह से वर्तमान स्थिति को देखते हुए समय से तैयारियां पूरी न हो पाने के कारण पंचायत चुनावों को छह माह के लिए टाला भी जा सकता है। आयोग के सूत्रों के मुताबिक अगर आगामी 30 अप्रैल तक स्थितियां सामान्य हो भी जाएं तो भी मई और जून के दो महीनों में पंचायतों का परिसीमन पूरा नहीं किया जा सकता है।

यहाँ भी पढ़े

CORONA VIRUS: कोरोना वायरस से बचाने के लिए पूर्वोत्तर रेलवे ने शुरू की यह पहल 

उत्तराखंड की बड़ी खबरें