चीन में मंकी बी वायरस से पहले मरीज की मौत , जानिए कितना घातक है ये वायरस ?

 | 

कोरोना से जूझ रही दुनिया के सामने अब मंकी बी वायरस का खतरा पैदा हो गया है। चीन में मंकी बी वायरस का पहला मानव संक्रमण मामला सामने आया, जिसमें एक पशु चिकित्सक की इस वायरस से मौत हो गई है। ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक, 53 साल के वेटरनरी डॉक्टर ने मार्च की शुरुआत में दो मृत बंदरों की चीरफाड़ की थी। डॉक्टर एक ऐसे इंस्टीट्यूट के लिए काम कर रहे थे, जो नॉन-ह्यूमन प्राइमेट पर रिसर्च कर रहा था। डॉक्टर में मितली और उल्टी जैसे लक्षण देखे गए थे,हालांकि, उनके परिजनों में कोई लक्षण नहीं हैं और वो कथित रूप से सुरक्षित हैं। खबरों के मुताबिक वेटरनरी डॉक्टर ने कई अस्पतालों में इलाज कराया था और 27 मई को उनकी मौत हुई। चीन सीडीसी वीकली इंग्लिश प्लेटफॉर्म ऑफ चाइनीज सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन ने शनिवार को इस बात की जानकारी दी।

chaitanya

ये वायरस बेहद ख़तरनाक है क्योंकि, इससे संक्रमित लोगों में मृत्यु दर 70 से 80 प्रतिशत है। शोधकर्ताओं ने अप्रैल में पशु चिकित्सक के Cerebrospinal Fluid को एकत्र किया और जिसमें उन्हें मंकी वायरस (BV) के लिए पॉजिटिव पाया गया।  इस वायरस की पहचान 1932 में हुई थी। यह वायरस सीधे संपर्क और शारीरिक स्रावों के आदान-प्रदान के माध्यम से फैलता है।