लालकुआं-नरमू ने दी खुलेआम रेल मंत्री को धमकी, अगर ऐसा हुआ तो पियूष गोयल के चेहरे से छिन जायेंगी मुस्कान

Slider

लालकुआं-आज नार्थ ईस्ट रेलवे मजदूर यूनियन (नरमू) के केंद्रीय अध्यक्ष बसंत चतुर्वेदी ने रेलवे स्टेशनों का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने कई रेलवे स्टेशनों पर रेलकर्मियों से बैठक भी की। उन्होंने कहा कि वह रेलवे के निजीकरण का पूरा विरोध करेेंगे। साथ ही चेतावनी भी दी कि अगर रेल मंत्रालय ने निजीकरण का कदम उठाया तो बिना रेल के चक्क्े जाम किये जायेंगे। आज नरमू अध्यक्ष ने कहा कि वह रेलवे के निजीकरण का प्रबल विरोध करेंगे। उन्होंने काठगोदाम, हल्दी, रुद्रपुर, रामपुर समेत तमाम रेलवे स्टेशनों में दौरा कर रेलकर्मियों के साथ की बैठक की।

North east railway union union

Slider

 

उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि अगल रेल मंत्रालय द्वारा रेलवे को निजी हाथों में सौंपने की कोशिश की तो बिना नोटिस के ही वह रेल के चक्के जाम देगें। नरमू अध्यक्ष ने सभी रेल कर्मियों से एकजुट होकर निजीकरण के खिलाफ संघर्ष का आह्वान किया।

piyush-goyal

नहीं होगा रेलवे का निजीकरण- गोयल

वही रेलमंत्री पीयूष गोयल ने अपने एक बयान में कहा था कि रेलवे में सुविधा बढ़ाने, गांवों और देश के विभिन्न हिस्सों को रेल सम्पर्क से जोडऩे के लिए बड़े निवेश की जरूरत है। अच्छी सुविधा, सुरक्षा, हाई स्पीड आदि के लिए निजी सार्वजनिक साझेदारी (पीपीपी) को प्रोत्साहित करने का सरकार ने निर्णय किया है। रेल मंत्रालय के अनुदान की मांग पर चर्चा के दौरान गुरुवार को कांग्रेस, तृणमूल, द्रमुक सहित विभिन्न विपक्षी दलों ने सरकार पर आरोप लगाया कि आम बजट में रेलवे में सार्वजनिक निजी साझेदारी (पीपीपी) निगमीकरण और विनिवेश पर जोर देने की आड़ में इसे निजीकरण के रास्ते पर ले जाया जा रहा है। शुक्रवार जवाब देते हुए रेल मंत्री ने कहा कि मैं बार-बार कह चुका हूं कि रेलवे का निजीकरण नहीं किया जाएगा।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें