जानिए, किसे, कब और कैसे मिलता है भारत रत्न, कैसे हुई भारत रत्न की शुरुआत ?

0
104

नई दिल्ली-न्यूज टुडे नेटवर्क : भारत रत्न भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान है। यह सम्मान राष्ट्र सेवा के लिए दिया जाता है। इन सेवाओं में कला, साहित्य, विज्ञान, सार्वजनिक सेवा और खेल के साथ ही सैन्य क्षेत्र भी शामिल मिल है। इस सम्मान की स्थापना 2 जनवरी 1954 में भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति श्री राजेंद्र प्रसाद द्वारा की गई थी। प्रारम्भ में इस सम्मान को मरणोपरांत देने का प्रावधान नहीं था, यह प्रावधान 1955 में जोड़ा गया। तत्पश्चात 13 व्यक्तियों को यह सम्मान मरणोपरांत प्रदान किया, एक वर्ष में अधिकतम तीन व्यक्तियों को ही भारत रत्न दिया जा सकता है।

bhat

भारत रत्न के लिए योग्य व्यक्ति का नाम खुद प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति सुझाते हैं। इस पुरस्कार के रूप में दिए जाने वाले सम्मान की मूल विशिष्टि में 35 मिलिमीटर व्यास वाला गोलाकार स्वर्ण पदक, जिस पर सूर्य और ऊपर हिन्दी भाषा में ‘भारत रत्न’ तथा नीचे एक फूलों का गुलदस्ता बना होता है पीछे की ओर शासकीय संकेत और आदर्श-वाक्य लिखा होता है। इसे सफेद फीते में डालकर गले में पहनाया जाता है। सरकार ने जनवरी 2019 तक 44 लोगों को भारत रत्न से सम्मानित किया है।

किसे कहते हैं भारत रत्न पुरस्कार

भारत रत्न उच्चतम नागरिक सम्मान है, जो कला, साहित्य विज्ञान, राजनीतिज्ञ, वैज्ञानिक, लेखक और समाजसेवी को असाधारण सेवा के लिए तथा उच्च लोक सेवा को मान्यता देने के लिए भारत सरकार की ओर से दिया जाता है।

bharat ratna

भारत रत्न के महत्वपूर्ण तथ्य

  • भारत रत्न 26 जनवरी को भारत के राष्ट्रपति द्वारा दिया जाता है।
  • सबसे पहला पुरस्कार प्रसिद्ध वैज्ञानिक चंद्रशेखर वेंकटरमन को दिया गया था। तब से अनेक विशिष्ट जनों को अपने-अपने क्षेत्रों में उत्कृष्टता पाने के लिए यह पुरस्कार प्रस्तुत किया गया है।
  • जनता पार्टी द्वारा इस पुरस्कार को 1977 में बंद कर दिया गया था, किन्तु 1980 में कांग्रेस सरकार ने इसे फिर से दोबारा शुरू किया।
  • जब साल 1980 में भारत रत्न पुरस्कार फिर शुरू हुआ तो, इसे सर्वप्रथम टेरेसा ने प्राप्त किया था।
  • हमारे भूतपूर्व राष्ट्रपति, वैज्ञानिक डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम को भी 1997 में यह प्रतिष्ठित पुरस्कार दिया गया।
  • इसका कोई लिखित प्रावधान नहीं है कि भारत रत्न केवल भारतीय नागरिकों को ही दिया जाएगा।
  • यह पुरस्कार स्वाभाविक रूप से भारतीय नागरिक बन चुकी, एग्रेस गोंखा बोजाखियू, जिन्हें हम मदर टेरेसा के नाम से जानते हैं, को दिया गया।
  • दो अन्य गैर-भारतीय-खान अब्दुल गफ्फार खान को 1987 में और नेल्सन मंडेला को 1990 में यह पुरस्कार दिया गया। यह भी अनिवार्य नहीं है कि भारत रत्न सम्मान प्रतिवर्ष दिया जाएगा।
  • एक वर्ष में अधिकतम तीन व्यक्तियों को ही भारत रत्न दिया जा सकता है।
  • मरणोपरांत सर्वप्रथम लालबहादुर शास्त्री को भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।
  • श्री सत्यपाल आनन्द ने राजीव गांधी को मरणोपरांत भारत रत्न देने की प्रक्रिया को मध्य प्रदेश उच्च न्यायाल में चुनौती दी थी।

bharat-ratna-2

भारत रत्न पुरस्कार विजेताओं की सूची वर्ष 1954 से 2019 तक

1954 डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन, 1954 चक्रवर्ती राजगोपालचारी
1954 डॉ चन्द्रशेखर वेंकटरमण, 1955 डॉ. भगवान दास
1955 सर डॉ.मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया, 1955 पंडित जवाहर लाल नेहरू
1957 गोविंद बल्लभ पंत, 1958 डॉ. धोंडो केशव कर्वे
1961 डॉ. बिधन चंद्र रॉय, 1961 पुरुषोत्तम दास टंडन
1962 डॉ. राजेन्द्र प्रसाद, 1963 डॉ. जाकिर हुसैन
1963 डॉ. पांडुरंग वामन काणे, 1966 लाल बहादुर शास्त्री
1971 इंदिरा गांधी, 1975 वराहगिरिी वेंकट गिरि
1976 के.कामराज,1980 मदर टेरेसा
1983 आचार्य विनोबा भावे, 1987 खान अब्दुल गफ्फार खान
1988 एम जी आर, 1990 डॉ भीमराव आंबेडकर
1991 नेल्सन मंडेला, 1991 राजीव गांधी
1991 सरदाल वल्लभ भाई पटेल, 1991 मोराजी देसाई
1992 मौलाना अबुल कलाम आजाद, 1992 जे.आर.डी. टाटा
1992 सत्यजीत राय, 1997 गुलजारी लाल नंदा
1997 डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम, 1997 अरुणा आसफ अली
1998 एम.एस. सुब्बुलक्ष्मी, 1998 सी.सुब्रामनीयम
1998 जय प्रकाश नरायण, 1999 पंडित रवि शंकर
1999 अमत्र्य सेन, 1999 गोपीनाथ बोरदोलोई ,2001 लता मंगेशकर
2001 उस्ताद बिस्मिल्ला खां, 2008 पंडित भीमसेन जोशी
2014 सी.एन. राव, 2014 सचिन तेंदुलकर
2015 अटल बिहारी वाजपेयी, 2015 मदन मोहन मालवीय
2019 प्रणब मुखर्जी, 2019, भूपेन हजारिका, 2019 नानाजी देशमुख