inspace haldwani
inspace haldwani
Home उत्तरप्रदेश Jaundice Test: विकसित की गई नई तकनीक, नवजात शिशुओं में ऐसे होगी...

Jaundice Test: विकसित की गई नई तकनीक, नवजात शिशुओं में ऐसे होगी पीलिया जांच

यूपी के बलिया में मां बेटी की धारदार हथियार से हत्या

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी के बलिया में मां बेटी की धारदार हथियार से हत्‍या कर दी गई। दोहरे हत्‍याकांड के बाद इलाके में दहशत...

अखिलेश यादव बोले- धर्मांतरण जैसे किसी कानून के पक्ष में नहीं समाजवादी पार्टी

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। उत्‍तर प्रदेश में धर्मांतरण कानून को राज्‍यपाल की मंजूरी मिलने के बाद अब समाजवादी पार्टी धर्मांतरण कानून के विरोध में उतर...

पीलीभीत: गोष्ठी में किसानों ने सीखे आधुनिक खेती के तौर तरीके

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी के पीलीभीत में किसान गोष्‍ठी का आयोजन किया गया। इस मौके पर विशेषज्ञों ने किसानों को खेती करने के आधुनिक...

बरेली: धरना देकर बोले व्यापारी- पार्किंग शुल्‍क नहीं देंगे, क्या है पूरा मामला, जानें इस खबर में…

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। शहर में बढ़ते ट्रैफिक को देखते हुए नगर निगम ने अपने आफिस के सामने पार्किग बनाई थी । जहां पर वाहनों...

उत्तराखंड- केंद्रीय शिक्षा मंत्री इस दिन देंगे छात्रों के सभी सवालों का जवाब, लाइव जुड़ने के लिए अपनायें ये तरीका

कोविड-19 खत्म होने का नाम नहीं ले रहा ऐसे में देश में छात्रों की चिंताएं बढ़ती जा रही हैं। ऑनलाइन पढ़ाई के बीच छात्रों...

कोरोना महामारी के संक्रमण को देखते हुए एक ऐसे उपकरण को विकसित किया गया है जिससे नवजात शिशुओं (New born child) में पीलिया की जांच अब उन्हें छुए बगैर और बिना ब्लड टेस्ट के हो सकेगी। उपकरण एजेओ-नियो (AJO-Neo) की मदद से शिशु के नाखून पर प्रकाश की किरणें डालकर रक्त में बिलीरुबिन का स्तर महज तीन सेंकेंड में पता लगाया जा सकता है।
new-born
कोलकात्ता स्थित एस. एन. बोस नेशनल सेंटर फार बेसिक साइंसेज के शोधकर्ता प्रोफेसर समीर. के. पाल की टीम ने इसे विकसित किया है। यह स्पेक्ट्रोमेट्री तकनीक (spectrometry technology) पर आधारित है। इस प्रोजेक्ट पर प्रोफेसर पाल के साथ काम कर रहे एनआरएस मेडिकल कालेज कोलकात्ता के शिशु रोग विशेषज्ञ असीम कुमार मल्लिक ने बताया कि इसके नतीजे सटीक हैं।

इसकी रिपोर्ट के आधार पर हम बच्चों में पीलिया की जांच (jaundice test) के बाद उनका आगे उपचार कर रहे हैं। अभी पीलिया की जांच के लिए टोटल सीरम बिलीरुबिन टेस्ट होता है। जिसमें रक्त का नमूना (blood sample) लेने के बाद करीब 4 घंटे में रिपोर्ट आती थी। इसमें संक्रमण फैलने का खतरा भी रहता है। नवजात शिशुओं में हर 16 घंटे के बाद वह टेस्ट रिपीट किया जाता है ताकि उपचार के फायदे को देखा जा सके।
                          http://www.narayan98.co.in/
narayan college                        https://youtu.be/yEWmOfXJRX8

Related News

यूपी के बलिया में मां बेटी की धारदार हथियार से हत्या

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी के बलिया में मां बेटी की धारदार हथियार से हत्‍या कर दी गई। दोहरे हत्‍याकांड के बाद इलाके में दहशत...

अखिलेश यादव बोले- धर्मांतरण जैसे किसी कानून के पक्ष में नहीं समाजवादी पार्टी

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। उत्‍तर प्रदेश में धर्मांतरण कानून को राज्‍यपाल की मंजूरी मिलने के बाद अब समाजवादी पार्टी धर्मांतरण कानून के विरोध में उतर...

पीलीभीत: गोष्ठी में किसानों ने सीखे आधुनिक खेती के तौर तरीके

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी के पीलीभीत में किसान गोष्‍ठी का आयोजन किया गया। इस मौके पर विशेषज्ञों ने किसानों को खेती करने के आधुनिक...

बरेली: धरना देकर बोले व्यापारी- पार्किंग शुल्‍क नहीं देंगे, क्या है पूरा मामला, जानें इस खबर में…

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। शहर में बढ़ते ट्रैफिक को देखते हुए नगर निगम ने अपने आफिस के सामने पार्किग बनाई थी । जहां पर वाहनों...

उत्तराखंड- केंद्रीय शिक्षा मंत्री इस दिन देंगे छात्रों के सभी सवालों का जवाब, लाइव जुड़ने के लिए अपनायें ये तरीका

कोविड-19 खत्म होने का नाम नहीं ले रहा ऐसे में देश में छात्रों की चिंताएं बढ़ती जा रही हैं। ऑनलाइन पढ़ाई के बीच छात्रों...

राजस्थान: कर्ज चुकाने को रिश्तेदार के बेटे का ही कर लिया अपहरण, फिर मांगी 55 लाख की फिरौती, देखें यह खबर…

न्यूज टुडे नेटवर्क। पुलिस ने अपहरण के मामले में 55 लाख रूपए फिरौती मांगने का खुलासा करते हुए बदमाशों को गिरफ़तार कर लिया। अपहरणकर्ता...