Uttarakhand Government
Uttarakhand Government
Home आध्यात्मिक जानिए कब है मकर संक्रांति 2020, धर्म और ज्योतिष के नजरिए से...

जानिए कब है मकर संक्रांति 2020, धर्म और ज्योतिष के नजरिए से मकर संक्रांति का महत्व

माता वैष्णो देवी यात्रा: दूसरे राज्यों से इतने श्रद्धालु कर सकेंगे माता की दर्शन, करना होगा यह काम

माता वैष्णो देवी के दर्शन के लिए दूसरे राज्यों से आने वाले श्रद्धालुओं को राहत की खबर है। अब प्रतिदिन 500 श्रद्धालु माता वैष्णो...

1 सितंबर से शुरू होगा पितृ पक्ष, जानिये इस बार दो दिन क्यों पड़ रही पूर्णिमा तिथि

हिंदू पंचांग के अनुसार पितृ पक्ष अश्विन मास के कृष्ण पक्ष में पड़ते है। इनकी शुरुआत पूर्णिमा तिथि से होती है और समापन अमावस्या...

165 साल बाद का नाम ऐसा संयोग, पितृपक्ष और नवरात्र के बीच इतने दिन का अंतर

इस बार कोरोना संक्रमण (Corona infection) के कारण देश में गणेश उत्सव बिना जुलूस, रैली और धूमधाम के मनाया जा रहा है। वहीं अब...

Vaishno Devi: अब स्पीड पोस्ट से मिलेगा वैष्णो देवी का प्रसाद, डाक विभाग से हुआ समझौता 

जम्‍मू के कटरा स्थित श्री माता वैष्‍णो देवी (Mata Vaishno Devi) के यात्रा के लिए इसी माह से रास्ते खोल दिए गए हैं। लेकिन...

Vaishno Devi Yatra: यात्रा के लिए आज से इस वेबसाइट पर होंगे रजिस्ट्रेशन

कोरोना वायरस महामारी (corona virus pandemic) के कारण पिछले 5 महीनों से माता वैष्णो देवी यात्रा के दर्शन बंद कर दिए गए थे। जिसे...
Uttarakhand Government

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार जब सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है, तब मकर संक्रांति होती है। साल 2020 में 14 जनवरी की रात्रि में सूर्य उत्तरायण होंगे और 15 जनवरी को मकर संक्रांति का पर्व मनाया जाएगा। धर्म और ’योतिष के नजरिए से यह पर्व बेहद खास है। यहां मकर से आशय राशिचक्र की दसवीं राशि मकर से है। जबकि संक्रांति का अर्थ सूर्य का गोचर है। अर्थात मकर राशि में सूर्य का गोचर ही मकर संक्रांति कहलाता है। उत्तराखंड के बागेश्वर नामक स्थान पर इस दिन भव्य मेले का आयोजन किया जाता है।


Uttarakhand Government

surya

Uttarakhand Government

तिथि व मुहूर्त 2020

संक्रांति काल – 07:19 बजे (15 जनवरी बुधवार)
पुण्यकाल – 07:19 से 12:&1 बजे तक
महापुण्य काल – 07:19 से 09:0& बजे तक
संक्रांति स्नान – प्रात:काल, 15 जनवरी 2020

Uttarakhand Government

makar2

मोक्ष प्राप्ति के गंगा स्नान

मकर संक्रांति के दिन सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण होता है। सूर्य का उत्तरायण होना बेहद शुभ माना जाता है। सनातन धर्म में मकर संक्रांति को मोक्ष की सीढ़ी बताया गया है। मान्यता है कि इसी तिथि पर भीष्म पितामह को मोक्ष की प्राप्ति हुई थी। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार स्वयं भगवान श्री कृष्ण ने कहा है कि, जो मनुष्य मकर संक्रांति पर देह का त्याग करता है उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है और वह जीवन-मरण के चक्कर से मुक्त हो जाता है। इसके साथ ही सूर्य दक्षिणायण से उत्तरायण हो जाते हैं जिस कारण से खरमास समाप्त हो जाता है। प्रयाग में कल्पवास भी मकर संक्रांति से शुरू होता है। इस दिन को सुख और समृद्धि का दिन माना जाता है। गंगा स्नान को मोक्ष का रास्ता माना जाता है और इसी कारण से लोग इस तिथि पर गंगा स्नान के साथ दान करते हैं।

makar_sankranti_2020

इस दिन दान का है विशेष महत्व

सरल शब्दों में कहें तो इस दिन सूर्य मकर राशि में जाता है। वैदिक ’योतिष में सूर्य को आत्मा, ऊर्जा, पिता, नेतृत्वकर्ता, सम्मान, राजा, उ‘च पद, सरकारी नौकरी आदि का कारक माना जाता है। यह सिंह राशि का स्वामी है। तुला राशि में यह नीच का होता है, जबकि मेष राशि में यह उ‘च का होता है। सूर्य के मित्र ग्रहों में चंद्रमा, गुरु और मंगल आते हैं। जबकि शनि और शुक्र इसके शत्रु ग्रह हैं। सूर्य और मकर के संबंध को देखें तो मकर सूर्य के शत्रु शनि की राशि है। दान-धर्म और समाज सेवा के लिए यह दिन शुभ माना जाता है। इस दिन किया गया दान सौ गुना बढक़र व्यक्ति को वापस मिलता है। जरूरतमंदों को भोजन खिलाना, वस्त्र बांटना, असहाय लोगों के मदद करना व समाज के उत्थान हेतु कार्य इस दिन किये जाते हैं जो पुण्य के साथ साथ आंतरिक शांति भी प्रदान करतें हैं।

बसंत का आगमन

मकर संक्रांति से ही ऋतु में परिवर्तन होने लगता है। शरद ऋतु क्षीण होने लगती है और बसंत का आगमन शुरू हो जाता है। इसके फलस्वरूप दिन लंबे होने लगते हैं और रातें छोटी हो जाती है। मकर संक्रांति से ही ऋतु में परिवर्तन होने लगता है। शरद ऋतु क्षीण होने लगती है और बसंत का आगमन शुरू हो जाता है। इसके फलस्वरूप दिन लंबे होने लगते हैं और रातें छोटी हो जाती है।

Uttarakhand Government

Related News

माता वैष्णो देवी यात्रा: दूसरे राज्यों से इतने श्रद्धालु कर सकेंगे माता की दर्शन, करना होगा यह काम

माता वैष्णो देवी के दर्शन के लिए दूसरे राज्यों से आने वाले श्रद्धालुओं को राहत की खबर है। अब प्रतिदिन 500 श्रद्धालु माता वैष्णो...

1 सितंबर से शुरू होगा पितृ पक्ष, जानिये इस बार दो दिन क्यों पड़ रही पूर्णिमा तिथि

हिंदू पंचांग के अनुसार पितृ पक्ष अश्विन मास के कृष्ण पक्ष में पड़ते है। इनकी शुरुआत पूर्णिमा तिथि से होती है और समापन अमावस्या...

165 साल बाद का नाम ऐसा संयोग, पितृपक्ष और नवरात्र के बीच इतने दिन का अंतर

इस बार कोरोना संक्रमण (Corona infection) के कारण देश में गणेश उत्सव बिना जुलूस, रैली और धूमधाम के मनाया जा रहा है। वहीं अब...

Vaishno Devi: अब स्पीड पोस्ट से मिलेगा वैष्णो देवी का प्रसाद, डाक विभाग से हुआ समझौता 

जम्‍मू के कटरा स्थित श्री माता वैष्‍णो देवी (Mata Vaishno Devi) के यात्रा के लिए इसी माह से रास्ते खोल दिए गए हैं। लेकिन...

Vaishno Devi Yatra: यात्रा के लिए आज से इस वेबसाइट पर होंगे रजिस्ट्रेशन

कोरोना वायरस महामारी (corona virus pandemic) के कारण पिछले 5 महीनों से माता वैष्णो देवी यात्रा के दर्शन बंद कर दिए गए थे। जिसे...

Ram Mandir: सरयू तट पर बनेगी दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति, इतनी होगी ऊंचाई

अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण (Sri Ram temple construction) के साथ ही भगवान राम की दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा स्थापित की जाएगी। पंच...
Uttarakhand Government