Uttarakhand Government
Uttarakhand Government
Home उत्तरप्रदेश Indian Railways: भारतीय रेलवे में बनाया रिकॉर्ड, पहली बार विदेश पहुंची यह...

Indian Railways: भारतीय रेलवे में बनाया रिकॉर्ड, पहली बार विदेश पहुंची यह ट्रेन

सरकार का बड़ा फैसला, अब पीजी के बाद छात्रों को मरीजों की सेवा करना जरूरी

देश में डॉक्टरों की कमी पिछले कई वर्षों से चल रही है। इसका अंदाजा कोरोना वायरस महामारी (corona virus pandemic) के दौरान और भी...

Tourism: छह महीनों के बाद आज से खुल रहा ताजमहल, सुरक्षा के लिए किए यह खास इंतजाम

कोरोना महामारी (Corona pandemic) के कारण भारत भर में सारे पर्यटन स्थल बंद हो गए थे। अब धीरे-धीरे सभी पर्यटन स्थल फिर से खुलना...

कंगना रनौत ने अनुराग कश्यप पर लगाए आरोप, कहीं ये बात

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत (Actress Kangana Ranaut) के बीच घमासान जारी है। कंगना रनौत ने अब पायल घोष मामले में अनुराग कश्यप पर निशाना...

कोरोना संक्रमण के चलते 21 सितंबर से यूपी में नहीं खुलेंगे स्कूल

उत्तर प्रदेश में कोरोना महामारी के बीच 21 सितंबर से कक्षा 9 से 12 तक के विद्यार्थियों (Students) के लिए स्कूल नहीं खोले जाएंगे।...

यूपी सरकार ने शिक्षकों को दी बड़ी राहत, अंतर्जनपदीय तबादलों पर लगी रोक हटाई

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को अंतर्जनपदीय तबादलों (Transfer) पर लगी रोक हटा दी। बेसिक शिक्षा विभाग के अध्यापकों को इससे...

भारतीय रेल (Indian Railway) की ट्रेनें अब दुनिया भर की ट्रेनों (trains) से मुकाबले की दौड़ में हैं। भारतीय रेलवे ने एक और कीर्तिमान अपने नाम कर लिया है। बता दें कि भारत ने पहली बार पहली बार पार्सल ट्रेन (parcel train) भारत से बाहर भेजी है। इस ट्रेन ने आंध्रप्रदेश के गुंटूर जिले से सूखी मिर्ची पड़ोसी देश बांग्लादेश तक पहुंचाई है।
Indian Railways e-ticket news
भारतीय रेलवे ने हाल ही में कई उपल्ब्धियां अपने नाम की हैं। जिसमें 2.8 किलोमीटर लंबी मालगाड़ी को दौड़ाना, एक दिन में 100 फीसदी ट्रेनों को टाइम पर पहुंचाना आदि शामिल है। जानकारी के मुताबिक इससे किसान और व्यवसायी कम मात्रा में सड़क मार्ग से सूखी मिर्ची बांग्लादेश ले जाते थे। लॉकडाउन (lockdown) के दौरान जब माल सड़क मार्ग से नहीं जा सका तो रेलवे के अधिकारियों ने उन्हें रेलगाड़ी से परिवहन की सुविधा देने के लिए संपर्क किया।

बता दें कि सड़क के रास्ते बांग्लादेश मिर्ची पहुंचाने का खर्च प्रति टन 7000 रुपये आता है जबकि इसे मालगाड़ी से भेजने का खर्च प्रति टन 4608 रुपये आया। आंध्र प्रदेश में मिर्ची की बड़े पैमाने पर मिर्ची की खेती की जाती है। यहां गुंटूर और इसके आसपास के इलाकों में मिर्ची की खेती की जाती है। इसकी गुणवत्ता काफी अच्छी होने के कारण ये अंतरराष्ट्रीय स्तर (international level) पर मशहूर हैं।
                          http://www.narayan98.co.in/
narayan college                        https://youtu.be/yEWmOfXJRX8

Related News

सरकार का बड़ा फैसला, अब पीजी के बाद छात्रों को मरीजों की सेवा करना जरूरी

देश में डॉक्टरों की कमी पिछले कई वर्षों से चल रही है। इसका अंदाजा कोरोना वायरस महामारी (corona virus pandemic) के दौरान और भी...

Tourism: छह महीनों के बाद आज से खुल रहा ताजमहल, सुरक्षा के लिए किए यह खास इंतजाम

कोरोना महामारी (Corona pandemic) के कारण भारत भर में सारे पर्यटन स्थल बंद हो गए थे। अब धीरे-धीरे सभी पर्यटन स्थल फिर से खुलना...

कंगना रनौत ने अनुराग कश्यप पर लगाए आरोप, कहीं ये बात

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत (Actress Kangana Ranaut) के बीच घमासान जारी है। कंगना रनौत ने अब पायल घोष मामले में अनुराग कश्यप पर निशाना...

कोरोना संक्रमण के चलते 21 सितंबर से यूपी में नहीं खुलेंगे स्कूल

उत्तर प्रदेश में कोरोना महामारी के बीच 21 सितंबर से कक्षा 9 से 12 तक के विद्यार्थियों (Students) के लिए स्कूल नहीं खोले जाएंगे।...

यूपी सरकार ने शिक्षकों को दी बड़ी राहत, अंतर्जनपदीय तबादलों पर लगी रोक हटाई

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को अंतर्जनपदीय तबादलों (Transfer) पर लगी रोक हटा दी। बेसिक शिक्षा विभाग के अध्यापकों को इससे...

सुशांत सिंह राजपूत ने मौत से एक हफ्ते पहले निकाले थे इतने रुपये, सामने आया कैश ट्रांजैक्शन

सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की मौत हुए तीन महीने से ज्यादा का समय हो गया है। इस केस की जांच सीबीआई, ईडी...