PMS Group Venture haldwani

हल्द्वानी-आदि योग फांउडेशन में योगा करने उमड़े डॉक्टर्स, मानसी जोशी की योगकला से ऐसे हुए प्रभावित

हल्द्वानी-न्यूज टुडे नेटवर्क-आदि योग फांउडेशन के तहत आज मेडिकल कॉलेज परिसर में योग शिविर का आयोजन किया गया। शिविर का शुभारम्भ उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय के योग विभाग के विभागाध्यक्ष भानू प्रकाश जोशी, आईएमए के अध्यक्ष डा. डीसी पंत, मंहामंत्री डा. प्रदीप पाण्डेय, मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य सीपी भैसोड़ा द्वारा किया गया। शिविर की शुरूआत ओम् उचारण, गायत्री मंत्र व महामृत्युंजय मंत्र से हुआ। योग को पतंजलि योगसूत्रों के द्वारा विस्तार पूर्वक बताते हुए सूक्ष्य व्यायाम का अभ्यास कराया गया। इसके बाद सभी ने सूर्य नमस्कार का अभ्यास किया। आसने का शरीर पर पडऩे वाले प्रभाव को बताते हुए कुछ आसनों का अभ्यास कराया गया। जैसे-वृक्षासन, गौमुखआसन, भुजंगासन, शशांकासन आदि का अभ्यास कराया गया। वही प्राणायाम का अर्थ व महत्व को समझाते हुए कुछ प्राणायाम के अभ्यास किये। अंत में शारीरिक व मानसिक तनाव को दूर करने के लिए योग निंद्रा का अभ्यास किया गया।

योग एक दिन नहीं हर दिन करें- मानसी जोशी

आदि योग की अध्यक्ष मानसी जोशी ने शिविर में लोगों बताया कि योग एक दिन नहीं बल्कि हर दिन योग किया जाना चाहिए। जिसे व्यक्ति शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से स्वस्थ्य रहे सकता है। उन्होंने कहा कि केवल शरीर की बॉडी हिलाना नहीं बल्कि मानसिक तनाव को दूर करने वाला होना चाहिए। आसन सिर्फ हाथ-पैर हिलाना नहीं है बल्कि आसन के समय और एक ऑडर में लाने की आवश्यकता है।

उन्होंने बताया कि योगासन करने से कई सारी बीमारियां ठीक हो सकती है। अगर आप घर पर ही योगासन करने की सोच रहे है तो इसके बारे में सही जानकारी ले कर ही करें। इस अवसर पर आईएमए के महामंत्री डा. प्रदीप पांडेय ने कहा कि आज डॉक्टरों के लिए तो योग की ज्यादा ही आवश्यकता है। एक रिसर्चं उल्लेख है कि डॉक्टरों की उम्र सामान्य लोगों से 10 साल कम होती है। इसलिए इन्हें तो रोज योग करना चाहिए। इससे बहुत लाभ होगा।

इनका रहा विशेष योगदान

शिविर में डिजिटल मीडिया न्यूज टुडे नेटवर्क था जबकि सोशल मीडिया टीम हल्द्वानी ऑनलाइन 2011 रहा। इसके अलावा जेएसएच क्रेसन्स, वुडपीकर फूड प्लाजा, जूस वैली, फ्यूचर साउंड ऑफ उत्तराखंड, मनमोहन जोशी क्लासेज, एफटीएन वल्र्ड, आदित्य मेडिकल एंड सर्जीकल हिमालयन सर्जीकेयर और फ्यूचर फर्म ने अपना विशेष योगदान दिया है। इस अवसर पर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन और आदियोग फाउंडेशन के सदस्यों के अलावा शहर के डॉक्टर, कारोबारी, अधिवक्ता, सामाजिक कार्यकर्ता, पत्रकार आदि शामिल रहे।

कोरोना पीड़ित संदिग्ध बोला डॉक्टर साहब मेरी जान बचा लो। देखिये अस्पताल में अंदर फिर क्या हुआ। मॉक ड्रिल अस्पताल की।