inspace haldwani
Home लाइफस्टाइल भारत ने भी माना होंगे वैक्सीन के साइड-इफेक्ट्स , देखिये पूरी जानकारी

भारत ने भी माना होंगे वैक्सीन के साइड-इफेक्ट्स , देखिये पूरी जानकारी

 

कोरोना वैक्सीन आने के बाद जहाँ एक तरफ लोगो में राहत है तो वहीं वैज्ञानिको को इससे होने वाले साइड इफ़ेक्ट की चिंता सता रही हैं ब्रिटेन में वैक्सीन के साइड-इफेक्ट्स देखे गए थे, जिसके बाद अधिकारियों ने एक नई गाइडलाइन्स जारी करते हुए कहा कि एनाफिलेक्सिस के इतिहास वाले लोगों को वैक्सीन लगवाने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श ज़रूर कर लेना चाहिए।

भारत की केंद्र सरकार ने भी वैक्सीन के साइड-इफेक्ट्स पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। सरकार ने सबको सचेत करते हुए कहा है कि वैक्सीनेशन के साइड-इफेक्ट्स को नकारा नहीं जा सकता।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद की तरफ से भारत में कोरोना वायरस की मौजूदा स्थिति को लेकर मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की गई थी।  प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने कहा कि भारत उन देशों में है, जो प्रति 10 लाख की आबादी कोरोना के मामलों की संख्या 7 हज़ार 178 है, वहीं इसका वैश्विक औसत 9 हजार है।

राजेश भूषण ने यह भी कहा कि वैक्सीन के बाद इसके साइड-इफेक्ट्स की घटनाएं सामने आने की उम्मीद है। जिसके लिए देश के राज्यों को तैयारी करने की ज़रूरत है। भारत में कोरोना वायरस के 15.55 करोड़ से ज़्यादा नमूनों की अब तक जांच की गई है। साथ ही भारत में कोरोना संक्रमण दर गिरकर 6.37 प्रतिशत हो गई है। जबकि देश में वर्तमान समय में मृत्यु दर 1.45 प्रतिशत है। जोकि दुनिया में सबसे कम है।

कोरोना वैक्सीन और उसके साइड-इफेक्ट्स

वैज्ञानिक इस बात से इनकार नहीं कर रहे कि कुछ लोगों में इसके गंभीर साइड-इफेक्ट नज़र आए। शोधकर्ताओं को यह नहीं पता है कि वैक्सीन के फॉर्मूले के किस पदार्थ से एलर्जी की गंभीर प्रतिक्रिया हुई।

पिछले हफ्ते, इंग्लैंड के दो हेल्थ-केयर कार्यकर्ता, जो वैक्सीन लगने वाले लोगों के पहले समुह में थे, में ऐनफलैक्सिस विकसित हो गया, जो एक गंभीर एलर्जीक प्रतिक्रिया है।

दोनों का मेडिकल इतिहास गंभीर एलर्जिक प्रतिक्रियाओं वाला था। इस रिएक्शन के बाद दोनों का इलाज किया गया और वे इससे उबर गए। वहीं, तीसरे व्यक्ति की दिल की धड़कने काफी तेज़ हो गईं। जिसके बाद ब्रिटिश अधिकारियों ने एक नई गाइडलाइन्स जारी करते हुए कहा कि एनाफिलेक्सिस के इतिहास वाले लोगों को वैक्सीन लगवाने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श ज़रूर कर लेना चाहिए।  कुछ लोगों में बुख़ार, सिर दर्द, थकावट और इंजेक्शन वाली जगह पर दर्द जैसे कुछ साइड-इफेक्ट्स देखे जा सकते हैं, जो आमतौर पर ज़्यादातर वैक्सीन्स में देखा जाता है।

वैक्सीन एक्सपर्ट्स ने एक बात साफ करते हुए कहा कि साइड-इफेक्ट्स होना न तो ख़राबी है और न ही असफता। साइड-इफेक्ट्स होने का मतलब ही यही है कि आपका इम्यून सिस्टम वायरस से लड़ने को तैयार है, जो वैक्सीन का काम है। ये वैक्सीन का एक फीचर होता है और न ही ख़राबी।

Related News

नई दिल्ली- टाटा के इस फैसले से चीन को उठाना पड़ेगा नुक्सान, होगा ये बड़ा बदलाव

देश की सबसे बड़ी ऑनलाइन ग्रॉसरी कंपनी बिग बास्केट में सबसे बड़ा हिस्सेदार अब टाटा ग्रुप होने जा रहा है। टाटा ने स्पष्ट किया...

विटामिन डी की कमी को दूर, आजमाये डॉ. एनसी पाण्डेय के टिप्स

विटामिन डी की कमी स्वास्थ्य से जुड़ी आम समस्या बन गई है। असल में विटामिन डी वसा घुलनशील होता है जिसका सीधा स्रोत सूर्य...

गुणों से भरपूर है लौंग

लौंग औषधीय गुणों से भरपूर मसाला है जो हमारे खाने का स्वाद बढ़ाती है। लौंग कई बीमारियों का उपचार करने में भी किया जाता...

खाने में शामिल करें ये फल और सब्जिया तो लीवर रहेगा दुरूस्‍त

शरीर को स्वस्थ्य रखने के लिए लीवर का हेल्दी होना भी बहुत जरूरी है। लीवर शरीर को डिटॉक्‍स करने का काम करता है। लीवर...

नई दिल्ली- जाने क्या है सब्जियों के राजा बैंगन का इतिहास, इन बीमारियों के लिए है फायदेमंद

भर्ता हो या फिर बिहारी लिट्टी के साथ खाए जाने वाला चोखा, टमाटर और मटर के साथ लजीज सब्जी भी कम नहीं। बात सब्जियों...

नई दिल्ली- स्वादिष्ठ नेपाली पिज्ज़ा बनाने की ये है पूरी रैसिपी, इन चीजों की मदद से तैयार करें होम मेड पिज़्ज़ा

पिज्जा का स्वाद अनोखा होता है यही वजह है कि कई लोगों को पिज्जा काफी पसंद होता है। लेकिन क्या आपने कभी नेपाली पिज्ज़ा...