अगर आप देख रहे है Indian Air force में पायलट बनने का सपना, तो इन तरीकों को अपना कर ऐसे पाएं अपना लक्ष्य

106

Indian Airforce, में पायलट बनना कई युवाओं का सपना होता है लेकिन ये इतना आसान नहीं है। इसके लिए बहुत अधिक समर्पण, दृढ़ इच्छाशक्ति और इस चुनौतीपूर्ण एवं आकर्षक भूमिका के लिए साहस आपमें होना चाहिए। एयर फोर्स पायलट को काफी कठिन ट्रेनिंग प्रक्रिया से गुजरना होता है जिसमें फाइटर प्लेन फ्लाइंग के दौरान हवा से हवा में आक्रमण करना होता है।

Indian Airforce पायलट की जिम्मेदारी होती है कि दिये गये मिशन को पूरा करे जिसमें दुश्मन के बेस को तबाह करना, सोल्जर्स / सिविलयन्स को बचाना या दोनो शामिल होते हैं। कुछ एक मामलों में एयर फोर्स पायलट को शांति बनाये रखने वाले मिशन में भी लगाया जाता है। हालांकि, ज्यादातर मामलों में इन्हें फायटर जेट के साथ आक्रमण के लिए ट्रेनिंग दी जाती है।

How to join become a piolet in indian airforce

Indian Airforce में पायलट बनने के लिए कोर्सेस

Indian Airforce में पायलट बनना आसान नहीं है। अम आपको आज चार ऐसे तरीके बताएंगे जिनके माध्यम से आपकी इंडियन एयर फोर्स में पायलट बनने की राह आसान हो जाएगी। National Defence academy (NDA), कंबाइंड डिफेंस सर्विस एग्जाम (CDSE), एनसीसी इंट्री और शॉर्ट सर्विस कमीशन इंट्री (SSC) ऐसे कोर्सेस हैं जिनके माध्यम से Air force में फ्लाइंड ऑफिसर के रूप में आपकी इंट्री हो सकती है। इनमें पहले तीन तरीके पर्मानेंट कमीशन हैं जबकि चौथा अस्थायी कमीशन है।

नेशनल डिफेंस एकेडेमी (NDA): एयर फोर्स में फ्लाइंग ब्रांच ज्वाइन करने के लिए, उम्मीदवारों को एनडीए की परीक्षा उत्तीर्ण करनी होती है। एनडीए परीक्षा यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (यूपीएससी) द्वारा आयोजित की जाती है। NDA परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले उम्मीदवारों को एनडीए में तीन वर्षीय ट्रेनिंग के लिए भेजा जाता है जिसके बाद एयर फोर्स ट्रेनिंग इस्टैब्लिश्मेंट्स में ट्रेनिंग के लिए भेजा जाता है ट्रेनिंग के बाद उम्मीदवारों को पर्मानेंट कमीशन ऑफिसर्स के रूप में कमीशन या इंडियन एयर फोर्स स्टेशन में पायलट के रूप नियुक्ति दी जाती है।

कंबाइंड डिफेंस सर्विस एग्जामिनेशन (CDSE): एनडीए के अतिरिक्त यूपीएससी सीडीएससई परीक्षा का भी आयोजन करता है जिसके माध्यम से भी पुरुष उम्मीदवार पायलट बन सकते हैं। CDS परीक्षा पास करने के बाद उम्मीदवारों को इंडियन मिलिट्री एकेडमी/इंडियन नेवल एकेडमी/एयर फोर्स एकेडमी में दाखिला दिया जाता है। एनडीए ट्रेनिंग की तरह ही ट्रेनिंग के बाद उमीदवारों को पर्मानेंट कमीशन ऑफिसर्स की नियुक्ति दी जाती है या एयर फोर्स स्टेशन में पायलट के रूप में नियुक्ति दी जाती है।

नेशनल कैडेट कॉर्प्स (NCC) स्पेशल इंट्री: अब बात आती है एनसीसी स्पेशल इंट्री की, जो कि सिर्फ पुरूष उम्मीदवारो के लिए है। जिनके पास एयर विंग सीनियर डिविजन का ‘सी’ सर्टिफिकेट होता है उन्हें नेशनल कैडेट कॉर्प्स (एनसीसी) स्पेशल इंट्री के लिए योग्य माना जाता है। नियुक्ति डायरेक्टोरेट जनरल नेशनल कैडेट कॉर्प्स या संबंधित एनसीसी एयर स्क्वाड्रन के माध्यम से दी जाती है। यह एक स्पेशल इंट्री स्कीम है जिसमें उम्मीदवारों को पर्मानेंट कमीशन ऑफिसर्स के रूप में नियुक्ति दी जाती है।

एयर फोर्स कॉमन एडमिशन टेस्ट (AFCAT): एयर फोर्स कॉमन एडमिशन टेस्ट (एएफसीएटी) महिला एवं पुरुष दोनो ही उम्मीदवारों के लिए उपलब्ध होता है। इस टेस्ट का आयोजन इंडियन एयर फोर्स द्वारा 14 वर्षों के लिए शॉर्ट सर्विस कमीशन में नियुक्ति देने के लिए किया जाता है। इस माध्यम से उम्मीदवारों का चयन टेक्निकल ब्रांचेस एवं ग्राउंड ड्यूटी ब्रांचेस के लिए किया जाता है। इस परीक्षा का आयोजन वर्ष में दो बार किया जाता है।

How to join become a piolet in indian airforce

AirForce पायलट बनने के लिए योग्यता मानदंड

Airforce Piolet बनने के लिए उम्मीदवारों को भारत का नागरिक होना चाहिए। NDA परीक्षा के माध्यम से इंट्री के लिए उम्मीदवारों को फिजिक्स और मैथमेटिक्स विषयों के साथ 12वीं पास होना चाहिए। CDS परीक्षा, एनसीसी स्पेशल इंट्री और एएफसीएटी के माध्यम से इंट्री के लिए उम्मीदवारों को ग्रेजुएट होना चाहिए। इंजीनियरिंग डिग्री वाले उम्मीदवार भी सीडीएस परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं।

क्या है Airforce Piolet आयु सीमा

NDA परीक्षा के माध्यम से इंट्री के लिए उम्मीदवारों की आयु 16-1/2 से 19 वर्ष के बीच होनी चाहिए। CDS परीक्षा, NCC स्पेशल इंट्री और AFCAT के माध्यम से इंट्री के लिए उम्मीदवारों की आयु 20 से 24 वर्ष के बीच होनी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here