हल्द्वानी- होली खेलते वक्त इन बातों का रखें खास ध्यान, ऐसे मनाएं रंगो का ये त्योहार

87

हल्द्वानी- न्यूज टुडे नेटवर्क: सर्दियां खत्म और वसंत के आने की खुशी होली का त्योहार देता है। मार्च के महीने में पूर्णमासी की रात के अगले दिन ये त्योहार मनाया जाता है। लेकिन एक दिन पहले ये त्योहार ओडिशा और पश्चिम बंगल में मनाया जाता है। वहीं मथुरा और वृन्दावन में होली एक हफ्ते पहले से मनाना शुरू कर दी जाती है। इस त्योहार में लोग एक-दूसरे को रंग लगाकर और पानी से भिगोकर खुशियां मनाते हैं। कई लोग इस दिन पार्टी भी करते हैं जहां वो चमकीले पानी और म्यूजिक के साथ होली का त्योहार सेलिब्रेट करते हैं। भांग इस त्योहार पर दूध में मिलाकर पी जाने वाली पारंपरिक ड्रिंक है। बड़े-बड़े शहर जैसे दिल्ली और मुंबई में इस त्योहार को काफी धूम-धाम से मनाया जाता है। इस त्योहार पर लोग लकड़ी में आग लगाकर होलीका दहन की पूजा करते हैं। गाना गाते हैं और डांस भी करते हैं। इसके बाद एक-दूसरे को गुलाल लगाकर होली की शुभकामनाएं देते हैं।

होली में ऐसे रखे अपना ख्याल

जिस तरह भारत के कई राज्यों में होली मनाई जाती है ऐसे ही पश्चिम बंगाल और ओडिशा में डोल जात्रा त्योहार मनाया जाता है। ये एक ऐसा त्योहार है जिसमें आपके कपड़े, बाल और स्किन के साथ हेल्थ भी खराब होती है। स्किन और बाल रंगों से खराब न हो इसके लिए आप तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। ऑयल आपकी स्किन और बालों को मुलायम रखेगा और रंग भी नहीं चढ़ने देगा। ऑयल का इस्तेमाल आप होली खेलने से पहले कर सकते है।

महिला रखे ध्यान, इन रंगो का हो इस्तेमाल

इस त्योहार पर खुद की सेफ्टी रखनी भी काफी जरूरी होती है क्योंकि कई लोग इसमें भांग का नशा करके महिलाओं के साथ बदतमीजी करने का प्रयास करते हैं। महिलाएं खासकर घर के बाहर अकेले न निकलें और बिना इजाजत के किसी को रंग न लगाने दें। होली खेलते हुए कई लोगों की आंख और मुंह में रंग चला जाता है जिससे उन्हें नुकसान पहुंच सकता है। ऐसे में वे अपना खास ध्यान रखें और कोशिश करें कि नैचुरल रंगों से होली खेलें।