inspace haldwani
Home आध्यात्मिक HOLI 2020: राशि के अनुसार जाने विधि व उपाये, दूर होंगे कष्‍ट

HOLI 2020: राशि के अनुसार जाने विधि व उपाये, दूर होंगे कष्‍ट

इस साल 9 मार्च 2020 को होलिका दहन और 10 मार्च 2020 को रंगों का त्योहार (Festival of Colours) मनाया जाएगा। नौ मार्च को होलिका दहन का शुभ मुहूर्त प्रदोष काल से मध्यरात्रि से कुछ समय पूर्व तक है। प्रदोष काल सूर्यास्त 6:42 बजे से लेकर निशामुख रात्रि 11 बजकर 26 मिनट तक है। होलिका दहन के दिन सुबह 6:08 मिनट से लेकर दोपहर 12:32 बजे तक भद्रा है। भद्रा को विघ्नकारक माना गया है। शाहजहांपुर में श्रीरुद्र बालाजी धाम के पंडित डा. कान्हा कृष्ण शुक्ल बताते हैं कि भद्रा में होलिका दहन करने से हानि और अशुभ फल मिलते हैं। इसी भद्रा में होलिका दहन नहीं किया जाता है।
holi muhurat 2020राशियों के अनुसार होलिका में डालें आहुति
मेष और वृश्चिक राशि के लोग गुड़ की आहुति दें।
वृष राशि वाले होलिका में चीनी की आहुति दें।
मिथुन और कन्या राशि के लोग कपूर की आहुति दें।
कर्क के लोग लोहबान की आहुति दें।
सिंह राशि के लोग गुड़ की आहुति दें।
तुला राशि वाले कपूर की आहुति दें।
धनु और मीन के लोग जौ और चना की आहुति दें।
मकर व कुंभ वाले तिल की आहुति दें।

होलिका दहन 2020 पूजा की विधि
होलिका दहन से पहले विधि विधान के साथ होलिका की पूजा करें। इस दौरान होलिका के सामने पूर्व या उतर दिशा की ओर मुख करके पूजा करने का विधान है। पहले होलिका को आचमन से जल लेकर सांकेतिक रूप से स्नान के लिए जल अर्पण करें। इसके पश्चात कच्चे सूत को होलिका के चारों और तीन या सात परिक्रमा करते हुए लपेटना है। सूत के माध्यम से उन्हें वस्त्र अर्पण किये जाते हैं। फिर रोली, अक्षत, फूल, फूल माला, धूप, दीप, नैवेद्य अर्पित करें। पूजन के बाद लोटे में जल लेकर उसमें पुष्प, अक्षत, सुगन्ध मिला कर अघ् र्य दें। इस दौरान नई फ सल के कुछ अंश जैसे पके चने और गेंहूं, जौं की बालियां भी होलिका को अर्पण करने का विधान है।

नकारात्मक शक्तियों के प्रभाव से बचने को होलिका दहन करें
पुराणों और शास्त्रों में चार सिद्ध रात्रि में से होलिका दहन वाली रात को भी सिद्ध रात्रि माना गया है। नकारात्मक शक्तियों के प्रभाव से बचने के लिए होलिका दहन को सबसे अच्छा माना जाता है। इस दिन किए गए प्रयोग से मनचाहा फल मिलता है। नवग्रह जनित पीड़ा से निवारण के लिए अपनी राशि के अनुसार होलिका दहन में लकड़ी जरूर अर्पित करनी चाहिए। फिर होलिका के सात फेरे लगाना चाहिए ।
मेष और वृश्चिक राशि के लोग होलिका दहन के समय खैर की लकड़ीए, वृष और तुला राशि वाले होलिका दहन वाले दिन गूलर की लकड़ी, मिथुन और कन्या राशि के लोगों के लिए अपामार्ग की लकड़ी, धनु और मीन राशि के लोगों के लिए पीपल की लकड़ी होलिका में डालें। फिर राशि के अनुसार होलिका में द्रव्यों की आहुति डालें ।

उपाय: होलिका से अपनी मुश्किलों से ऐसे कम सकते हैं
शरीर की उबटन को होलिका में जलाने से नकारात्मक शक्तियां दूर होती हैं।
सफलता प्राप्ति को होलिका दहन स्थल पर नारियल, पान तथा सुपारी भेंट करें।
गृह क्लेश से निजात पाने और सुख-शांति के लिए होलिका की अग्नि में जौ-आटा चढ़ाएं।
भय और कर्ज से निजात पाने के लिए नरसिंह स्रोत का पाठ करना लाभदायक होता है।
होलिका दहन के बाद जलती अग्नि में नारियल दहन करने से नौकरी की बाधाएं दूर होती हैं।
घर, दुकान और कार्यस्थल की नजर उतार कर उसे होलिका में दहन करने से लाभ होता है।
होलिका दहन के दूसरे दिन राख लेकर उसे लाल रुमाल में बांधकर पैसों के स्थान पर रखने से बेकार खर्च रुक जाते हैं।
लगातार बीमारी से परेशान हैं तो होलिका दहन के बाद बची राख मरीज़ के सोने वाले स्थान पर छिड़कने से लाभ मिलता है।
बुरी नजर से बचाव के लिए गाय के गोबर में जौ, अरसी और कुश मिलाकर छोटा उपला बना कर इसे घर के मुख्य दरवाज़े पर लटका दें।

शादी नहीं हो रही है तो होली पर करें यह उपाय
जिन जातकों की शादी नहीं हो रही है और विलंब हो रहा है तो होली के दिन शिव मंदिर में पूजा करें। इसके साथ ही शिवलिंग पर पान, सुपारी और हल्दी की गांठ भी अर्पित करें। शादी की परेशानियों से छुटकारा पाने के लिए होलिका दहन के दौरान पांच सुपारी, पांच इलायची, मेवे, हल्दी की गांठ और पीले चावल लें जाए और इसकी पूजा कर इसे घर में देवी के सामने रख दें। ऐसा करने से शादी में आने वाली बाधाएं दूर हो जाती है और जल्द ही विवाह के योग बन जाते हैं। दांपत्य जीवन में शांति के लिए होली की रात उत्तर दिशा में एक पाट पर सफेद कपड़ा बिछा कर उस पर मूंग, चने की दाल, चावल, गेहूं, मसूर, काले उड़द एवं तिल के ढेर पर नव ग्रह यंत्र स्थापित करें। इसके बाद केसर का तिलक कर घी का दीपक जला कर पूजन करें।

नवविवाहिताओं को होली पर जाना चाहिए मायके
शास्त्रीय परम्परा के अनुसार नवविवाहिता को अपनी पहली होली पर मायके जाना चाहिए। होली के मौके पर सभी नई दुल्हन अपनी पहली होली अपने मायके में ही मनाती हैं। इस परंपरा को सालों से निभाया जा रहा है। होली के मौके पर नवविवाहिता अपने मायके चली जाती है और वहीं पर अपनी पहली होली मनाती है। माना जाता है कि शादी के बाद पहली होली पिहर में खेलने से एक नवविवाहिता का जीवन सुखमय और सौहार्द पूर्ण बीतता है। इसके साथ ही कुछ जगहों पर यह रिवाज इसलिए भी है कि शादी के बाद मायके में होली और पति से दूरी उनके बीच के प्रेम को और भी ज्यादा बढ़ा देता है।

पहली होली नवविवाहिता और सास के लिए अशुभ
पहली होली सास और बहू एक साथ कभी नहीं देखती, क्योंकि सास और नई बहू का एक साथ होली को जलते देखना अशुभ माना जाता है, जिसका असर घर के लोगों पर पड़ता है। यह भी मत है कि यदि कोई सास और नविवाहिता एक साथ होली को जलता हुआ देखती है तो उनमें से किसी एक की मृत्यु भी हो सकती है। इसी कारण से पहली होली पर नवविवाहिता अपने मायके जाकर ही पहली होली खेलती है। पति और पत्नी के बीच इस अहसास को बढ़ाने के लिए मायके में पहली होली मनाने की परम्परा शुरू की गई थी।

वायरस से बचने को होलिका में डालें हवन सामग्री
होलिका दहन में प्रत्येक परिवार से आधा किलो हवन सामग्री के साथ 50 ग्राम कपूर और 10 ग्राम सफेद इलायची मिलाकर होलिका में अवश्य डालें, जिससे प्रदूषित वातावरण शुद्ध होगा, कोरोना जैसे वायरस भी नष्ट हो सकेंगे। इसके बाद प्रतिदिन सुबह गाय के गोबर से बने कंडे को जला कर अपने इष्ट का 21 बार नाम लेकर आहुति देकर हवन अवश्य करें। ऐसा करने से कोरोना जैसे वायरस से बचाओ हो सकेगा।

Related News

ट्रैक्टर परेड: सिंधु बार्डर पर पहुंचे 30 हजार ट्रैक्टर, गणतंत्र दिवस पर आंशिक रूप से बाधित रहेंगी दिल्ली मेट्रो सेवाएं

न्यूज़ टुडे नेटवर्क। देश की राजधानी दिल्‍ली में किसानों के ट्रैक्‍टर मार्च के आवाह्न को लेकर तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। दिल्‍ली पुलिस...

हल्द्वानी- इस दिन से शुरू होगा एनएच-109 चौड़ीकरण का कार्य, डीएम बंसल ने दिए सख्त निर्देश

राहगीरों की दुर्घटनाओं का कारण बनता जा रहा रामपुर- काठगोदाम एनएच 109 के चौड़ीकरण के कार्य को पुनह शुरू करने के निर्देश नैनीताल डीएम...

केंद्र ने जारी की कुम्भ मेले के लिए नई एसओपी, अब कुम्भ में इन चीजों का रखे विशेष ध्यान

हाईकोर्ट के आदेशानुसार राज्य सरकार ने केंद्र से कुंभ मेला आयोजन के लिए नई गाइडलाइन जारी करवा दी है अगले महीने शुरू होने जा...

देहरादून- उत्तराखंड के सिंगर पवनदीप के लिए सीएम त्रिवेन्द्र ने की ये खास अपील, जारी किया वीडियो संदेश

देश के प्रसिद्ध गायकी शो इंडियन आइडल 2021 में अपनी आवाज से धूम मचा रहे उत्तराखंड के पवनदीप राजन को ज्यादा से ज्यादा वोट...

Whaatsup privacy policy: केन्द्र सरकार ने sc से कहा- भारतीय और यूरोपीय यूजर्स के सा‍थ अलग अलग व्यवहार चिंताजनक

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। सोशल नेटवर्किंग साइट व्‍हाट्सएप पर भारतीय उपयोगकर्ताओं के लिए एकतरफा निजती नीति को लेकर केन्‍द्र सरकार ने चिंता जताई है। केन्‍द्र...

देहरादून- यहां महिला के साथ रोडवेज कर्मचारियों ने की ये घिनौनी हरकत, पुलिस पर भी लगे संगीन आरोप

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में आइएसबीटी रोडवेज कर्मचारियों द्वारा एक महिला के साथ छेड़छाड़ और अश्लील हरकत करने का मामला प्रकाश में आया है।...