हरिद्वार-छह माह के बच्चे की हत्यारन निकली निर्दयी मां, इस छोटी-सी बात पर उतारा मौत के घाट

Slider

Haridwar news- पुत्र कुपुत्र हो सकता है पर माता कभी कुमाता नहीं हो सकती है। कलयुग में यह कवाहत को गलत बताते हुए एक मां ने अपने ही बच्चे की जान ले ली। बच्चा मात्र छह माह का था। जब पुलिस ने खुलासा किया तो खुद पुलिस ही दंग रह गई। अगर सीसीटीवी फुटेज नहीं मिलती तो शायद हत्यारन मां नहीं पकड़ी जाती। मामाल हरिद्वार के कनखल क्षेत्र का है। जहां एक मां ने अपने ही बच्चे को मौत के घाट उतार दिया। जिसने भी सुना वह दंग रह गया।


बताया जा रहा है कि दीपक कुमार नाम का युवक यही सिडकुल में काम कर ने किराये पर अपने परिवार के साथ रहता है। रविवार को दीपक किसी काम से घर से बाहर गया। घर पर उसकी पत्नी और छह माह का पुत्र अंश था। दोपहर करीब तीन बजे पत्नी संगीता बेटे के लिए दूध लेने डेहरी गई। जब वह घर लौटी तो बच्चा घर में नहीं था। जिसके बाद संगीता ने आस-पड़ोस में ही लोगों से पूछताछ की लेकिन बच्चा नहीं मिला। इसके बाद संगीता ने अपने पति को फोन किया।

Slider

सीसीटीवी से खुला राज

सूचना पर दीपक दौड़ा-दौड़ा घर पहुंचा। अचानक बच्चा गायब होने की खबर से क्षेत्र में हडक़ंप मच गया। मौके पर पुलिस भी पहुंच गई। पुलिस ने तुंरत आस-पड़ोस के लोगों से पूछताछ की साथ ही आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज भी खंगालनी शुरू की। एक फुटेज में संगीता अपने कंधे पर एक बैग ले जाती देखी गई। जिसके बाद पुलिस को उस पर शक को गया। सख्ती से पूछताछ में संगीता ने बच्चे को गंगा नदी में फेंकने की बात कुबूल कर ली। संगीता का कहना है कि बच्चा हर समय रोता रहता था। बाहर का दूध नहीं पीने के चलते उसे फीडिंग करानी पड़ती थी। वह बहुत परेशान हो गई। रविवार दोपहर उसने बच्चे को बैग में रखकर गंगा नदी में फेंक दिया। इसके बाद बच्चा चोरी का नाटक किया। हत्यारन पत्नी की करतूत देख पति दीपक एक जगह पर गुमसुम बैठ गया।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें