हेमिल्टन-चौथे वनडे में ढेर हुए इंडिया के शेर, शर्मनाक हार के साथ बनाया नया रिकॉर्ड

0
188

हेमिल्टन-न्यूज टुडे नेटवर्क- न्यूजीलैंड से लगातार तीन वनडे जीतने के बाद भारतीय टीम आसमान पर थी लेकिन आज चौथे मैच में तीन मैचों की जीत का खुमार न्यूजीलैंड ने उतार दिया। साथ ही टीम इंडिया को शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा। न्यूजीलैंड ने इस मैच को अपने नाम कर भारत के खिलाफ पांच मैचों की वनडे सीरीज में जीत का खाता खोल लिया। मेजबान टीम ने सेडन पार्क में खेले गए चौथे वनडे मैच में भारत को आठ विकेट से हरा दिया और सीरीज का स्कोर 3-1 किया है। आज चौथे वनडे मैच में मिली हार शेष बची गेंदों की संख्या के मामले में भारत की सबसे बड़ी हार है।

92 रन पर ढेर हुई इंडिया

इस मुकाबले में टॉस जीतकर न्यूज़ीलैंड ने पहले बल्लेबाज़ी का फैसला किया और भारतीय टीम 30.5 ओवर में मात्र 92 रन पर सिमट गई। इसके बाद न्यूज़ीलैंड ने 93 रन के लक्ष्य को दो विकेट खोकर 14.4 ओवर में ही हासिल कर लिया। ट्रैंट बोल्ट 5/21 एवं कोलिन ग्रैंडहोम 3/26 की बेहतरीन गेंदबाजी के दम पर उसकी पारी 92 रनों पर ही समेट दी। न्यूजीलैंड ने 14 के स्कोर पर मार्टिन गुप्टिल 14 के रूप में अपना पहला विकेट गंवाया। उन्हें भुवनेश्वर कुमार ने हार्दिक पांड्या के हाथों कैच आउट करवाया। गुप्टिल के आउट होने के बाद कप्तान केन विलियम्सन 11 ने दूसरे विकेट के लिए हैनरी निकोल्स नाबाद 30 के साथ 25 रन ही जोड़े थे कि विलियम्सन 39 के स्कोर पर भुवनेश्वर की गेंद पर विकेट के पीछे खड़े दिनेश कार्तिक के हाथों लपके गए।

भारत ने बनाया शर्मनाक रिकॉर्ड

भारत की ओर से युजवेंद्र चहल ने सबसे अधिक नाबाद 18 रन बनाए और उसके सात बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा नहीं पार कर सके। हार्दिक और चहल के अलावा कुलदीप यादव ने भी 15 रन बनाए। कुलदीप और चहल ने नौवें विकेट के लिए 25 रनों की साझेदारी निभाई। न्यूज़ीलैंड ने 212 गेंदें शेष रहते ही ये मैच जीता। गेंदें शेष रहने के हिसाब से भारत के खिलाफ ये किसी भी टीम की सबसे बड़ी जीत रही। इससे पहले ये रिकॉर्ड श्रीलंका के नाम था। जब 2010 में श्रीलंका ने भारत को दांबुला में 209 गेंदें शेष रहते हराया था।