हल्द्वानी- योग में भी बनाया जा सकता है करियर- योगाचार्य हेमंत जोशी, जानिये कैसे योग में नाम कमाया जोशी दंपति ने

386

हल्द्वानी- (World international yoga day)अन्तराष्ट्रीय योग दिवस की जोर-शोर तैयारियों के बीच एक युवा योग गुरु ने लोगों को योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा को दैनिक जीवन में अपनाने के साथ-साथ कॅरियर निर्माण का भी बेहतर विकल्प बनाया जा सकता है। हल्द्वानी निवासी योगाचार्य हेमंत जोशी ने इस बात को सच साबित करके दिखाया है। जिन्होंने देश- प्रदेश में योग का प्रशिक्षण देकर अच्छा मुकाम हासिल किया है। योग के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने पर इंडियन रूरल ओलिंपिक फेडेरेशन तथा स्कूल स्पोट्र्स एंड कल्चरल एक्टिविटीज द्वारा चम्पावत में जन्मे वर्तमान में हल्द्वानी निवासी योगाचार्य को योग रत्न अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है।

Hemant Joshi Yoga

14 वर्षों से कर रहे योग

देव संस्कृति विश्वविद्यालय से योग विज्ञान एवं मानव उत्कर्ष में परास्नातक करने के बाद पिछले 14 वर्षों से उत्तराखंड के साथ-साथ देश के कई राज्यों में लोगों को योग के माध्यम से शारीरिक व मानसिक रूप से स्वस्थ रखने का कार्य कर रहे हैं। वह समय समय पर उत्तराखंड वानिकी प्रशिक्षण अकादमी, नेहरु युवा केंद्र, मेडिकल कालेज, स्वयंसेवी संस्थाओं, सामाजिक संगठनों, स्थानीय निकायों एवं जनप्रतिनिधियों आदि के सहयोग से कई जगहों में योग की कक्षा का आयोजन करते हैं। इसके अतिरिक्त अपनी योग एवं सांस्कृतिक परिषद् के द्वारा पूरे देश-प्रदेश में योग प्रशिक्षक उपलब्ध कराते हैं। योग गुरू हेमन्त की पत्नी योगाचार्या नीता जोशी भी राष्ट्रीय स्तर की योग प्रशिक्षिका हैं। आयुष मंत्रालय भारत सरकार तथा केन्द्रीय योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा अनुसन्धान परिषद् के तत्वावधान में विगत वर्षो से योग शिविर लगाकर जन जन को जागरूक कर रहे हैं।

पत्नी भी है योग प्रशिक्षिका

उन्होंने युवाओं का आह्वान करते हुए कहा कि आज के दौर में योग से बेहतर कॅरियर का भी निर्माण किया जा सकता है। इस समय योग का देश ही नहीं पूरे विश्व में डंका बज रहा है। पिछले तीन सालों में विश्व योग दिवस मनाने के साथ ही तेजी से योग लोकप्रिय हो रहा है। इससे युवाओं के सामने रोजगार के अवसर भी बढ़े हैं। आने वाले समय में विद्यालयों में भी योग की क्लासेज चलेंगी, जिसके लिए सरकार प्रयासरत है। लिहाजा योग प्रशिक्षक बनकर रोजगार के अवसर भी लोगों को मिलेंगे। योग शिक्षक बनने के लिए जरूरी है कि आपको योग की पूरी समझ एवं जानकारी के साथ ही शरीर विज्ञान का ज्ञान होना चाहिए। क्योंकि एक भी योगासन या प्राणायाम गलत तरीके से करेंगे या कराएंगे, तो वह नई परेशानी को जन्म दे सकता है।

अनुभव और ज्ञान से कमा सकते है लाखों-जोशी

योग गुरु हेमंत का कहना है कि स्कूल-कॉलेजों में योग प्रशिक्षक बनने के अलावा, लेक्चरर, रीडर एवं प्रोफेसर बनने के विकल्प भी होते हैं। हॉस्पिटल्स, इंप्लायीज ट्रेनिंग सेंटर्स के अलावा निजी कंपनियों, होटलों में भी अपनी सेवाएं दे सकते हैं या खुद का योग सेंटर भी खोल सकते हैं। शुरुआती दौर में करीब 20 हजार रुपये कमा सकते है। आगे जाकर अपने बढ़ते हुए अनुभव और ज्ञान के आधार पर दो लाख रुपये प्रतिमाह तक कमाई कर सकते हैं। योग से शारीरिक स्वास्थ्य और मानसिक स्वास्थ्य भी ठीक होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here