हल्द्वानी- डॉ. नेहा के इन टिप्स से आपके बच्चें हो जाएंगे De-Stress, बोर्ड परीक्षा में पहुंचेगा फायदा

Slider

Haldwani News, क्या बोर्ड परीक्षा नजदीक आते ही आपका बच्चा घबरा रहा है? परीक्षा के दौरान घबराना एक स्वाभाविक बात है लेकिन परीक्षा का डर हावी होना आपके बच्चे को मानसिक तनाव का शिकार भी बना सकता है। पढ़ाई के अत्यधिक दबाव के चलते तनाव होना लाजिमी है। विद्यार्थी अपनी तैयारी किस तरह करें ताकि तनाव न हो। इसके लिए एक्सपर्ट ने सुझाव दिए हैं। इनका ख्याल रख आपके बच्चे तनाव को खत्म कर पूरे ध्यान से पढ़ाई में लग सकते हैं।

बोर्ड परीक्षा हो या कोई अन्य परीक्षा, रिवीजन के अलावा तैयारी में कई बातों का ध्यान रखना जरूरी है। जिनसे अतिरिक्त तनाव दूर कर नंबर कटने की चिंता से मुक्त हुआ जा सकता है। उत्तराखंड और सीबीएसई परीक्षाओं का समय नजदीक आते देख मनसा मानसिक स्वास्थ्य परामर्श क्लीनिक की संचालिका एवं मनोवैज्ञानिक डॉ. नेहा शर्मा ने विद्यार्थियों को तनाव मुक्त रखने के लिए कुछ टिप्स हमारे साथ साझा किये है।

Slider

यह भी पढ़ें- 👉 हल्द्वानी- नैनीवैली की प्रधानाचार्य ने दिया Biology के पेपर में अच्छे अंक लाने का गुरुमंत्र, छात्र इन बातों का रखें ध्यान

haldwani dr. neha sharma news

बच्चों को तनावमुक्त रखने के लिए करें ये काम

मनसा मानसिक स्वास्थ्य परामर्श क्लीनिक की संचालिका एवं मनोवैज्ञानिक डॉ. नेहा शर्मा का कहना है कि बोर्ड परीक्षा को लेकर तनाव से परेशान कई बच्चों के केस उनके पास आते है। ऐसे में बोर्ड परीक्षाओं के दौरान ये बेहद जरुरी है कि विद्यार्थी तनाव फ्री होकर पढ़ाई करें। इससे न केवल वह सभी चीजें याद रख सकेंगे वल्की परीक्षा में अच्छे अंक भी प्राप्त कर पाएंगे।

ऐसे में बच्चों को तनावमुक्त रखने के लिए शिक्षकों, अभिभावकों को खुद बच्चों की मदद करनी चाहिए। अभिभावकों को चाहिए कि वे बच्चों को खुद रुटीन स्टडी करने, विषय चुनने की स्वतंत्रता दें व उनकी स्टडी हैबिट को बढ़ाने में सहायता करें। इससे बच्चों में आत्मविश्वास बढ़ेगा तथा बच्चों को तनाव से दूर रहने में मदद मिलेगी।

यह भी पढ़ें- 👉हल्द्वानी- नैनीवैली की प्रधानाचार्य ने दिया Biology के पेपर में अच्छे अंक लाने का गुरुमंत्र, छात्र इन बातों का रखें ध्यान

नया विषय सुबह, रात को रिवीजन करें

डॉ. नेहा ने बताया कि परीक्षा नजदीक है इसलिए रोजाना तैयारी करें और क्लास में रेग्यूलर रहें। जंक फूड और बाहर खाना खाने से बचें। पौष्टिक और घर का बना हल्का खाना ही लें। तरल प्रदार्थ ज्यादा लें, तले खाने से दूर रहें। टाइम से सोएं और नियमित पढ़े। नया विषय हमेशा सुबह से पढ़े। रिवीजन रात को ही करें। नोट्स खुद से तैयार करें। वक्त कम है तो इन्हें शॉर्ट में लिखकर प्वाइंट बनाकर रिवीजन करें। गाइड पर ध्यान न दें क्योंकि तनाव में भूलते जरूर है। क्लास में पढ़कर शाम को रिवीजन जरूर करें। टीवी सिर्फ रिफ्रेश होने के लिए सिर्फ 10 मिनट ही देखें।

how to reduce board exam stress

ब्रेक लेकर पढ़े

एक्सपर्ट्स की माने तो लगातार पढ़ने से कुछ याद नहीं रहेगा। इसलिए परीक्षा के लिए पढ़ाई करते समय हर घंटे 10 मिनट का ब्रेक अवश्य लें। इससे तनाव कम होगा और फ्रेश महसूस करेंगे।

कठिन विषय से करें शुरुआत

शुरुआत हमेशा कठिन विषय से करें क्योंकि दिमाग फ्रेश होता है। हम जो भी पढ़ते हैं, याद रहता है।

सिलेबस का रखें ध्यान

एक ही टॉपिक न पढ़ते रहें। जितने दिन और सिलेबस बचा है, उस हिसाब से टाइम टेबल तैयार कर पढ़ें।

बैलेंस डाइट लें

एग्जाम से पहले बाहर खाने-पीने से बचें। घर का बना फ्रेश खाना, फल आदि खाएं। ऐसा भोजन लें जिससे ऊर्जा बनी रहे। खूब पानी पीएं।

तनाव में न आएं

माता-पिता और शिक्षक लगातार पढ़ाई करने और अच्छे नंबर लाने का दबाव बनाएंगे। आप तनाव मुक्त होकर पूरा ध्यान पढ़ाई पर लगाएं। पहले से ही रिजल्ट की चिंता न करें। अपनी मेहनत पर पूरा ध्यान लगाएं।

आत्मविश्वास बनाए रखें

आत्मविश्वास बनाए रखें। आपने जो भी पढ़ा है, उसी के अंतर्गत परीक्षा से प्रश्न आएंगे। सब आता है, यह अति आत्मविश्वास से बचें। सब करना है, इसी सोच से तैयारी करें।

पढ़ाई का टाइम टेबल जरूरी

सबकुछ आने के बाद भी अक्सर अच्छे नंबर नहीं आते, इसलिए योजनाबद्ध अध्ययन जरूरी है। तय करें कि प्रतिदिन कितने विषय पढ़ने हैं। किस विषय को कितना समय देना है, रिवीजन कितनी देर करना है। ऐसा करने से आधी समस्या दूर हो जाएगी। ध्यान रहे किसी भी काम को कल पर न टालें। पढ़ाई का टाइम टेबल और नियम जरूरी है।

ऐसे करें तैयारी

– रोज एक विषय का एक प्रश्नपत्र हल करें। अध्यापकों व स्वयं के सहयोग से टेस्ट और पांच वर्ष के प्रश्न हल करें।

– टॉपिक की समस्याएं दूर करें और ज्यादा अंक दिलाने वाले अध्यायों पर ध्यान दें।

– तीन वर्ष की वार्षिक परीक्षा के प्रश्नपत्र हल करें। बार-बार पढ़े गए पाठ की पुनरावृत्ति करें व विषयवार तैयारी करें।

☎ अपने बच्चों से संबंधित किसी भी तरह की समस्या को दूर करने के लिए आप डॉ. नेहा से 9837173140 नबंर पर संपर्क कर सकते है।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें