drishti haldwani

हल्द्वानी- उत्तराखंड के लोक गायक रमेश बाबू को मिलेगा ये सम्मान, 31 अक्टूबर को होंगे सम्मानित

737

Haldwani news-  उत्तराखंड के सुपरस्टार लोकगायक रमेश बाबू गोस्वामी को लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल जी के 144 वें जन्मोत्सव समारोह पर भारत के गौरव संगीत एवं गायन में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए लखनऊ में सम्मानित किया जायेगा। लोकगायक रमेश बाबू गोस्वामी उत्तराखंड के संगीत जगत में एक बड़ा नाम है। वह कई सुपरहिट गीतों से दर्शकों का दिल जीत चुके हैं।

iimt haldwani

आगामी 31 अक्टूबर को लखनऊ में सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। रमेश बाबू गोस्वामी सांस्कृतिक कार्यक्रमों की अध्यक्षता करने आ रहे हैं ’उत्तराखंड के प्रख्यात लोक गायक रमेश बाबू गोस्वामी को हिन्दुस्तान जन कल्याण संघ परिवार द्वारा सम्मानित किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें- दीपावली 2019, जानिए दिवाली का शुभ मुहूर्त, महत्व और पूजा का विधि विधान

यह भी पढ़ें-धनतेरस 2019- धन त्रयोदशी के दिन करेंगे ये कार्यं, तो हो जाएंगे मालामाल, जानिए धनतेरस की पूजा व विधि-विधान

गौरतलब है कि उत्तराखंड के सुर सम्राट स्व. गोपाल बाबू गोस्वामी जी जिन्होंने अपनी गायकी का पूरे प्रदेश में लोहा मनावाया। अब उनके सुपुत्र रमेश बाबू गोस्वामी उत्तराखंडी संस्कृतिक को आगे बढ़ा रहे है। उन्होंने जल, जंगल, भूमि, नारी वेदना व पलायन पर आधारित व उत्तराखंडी लोकगीत से संस्कृति का संवारने का प्रयास किया है।

अभी तक रमेश बाबू गोस्वामी कई गीत गा चुके है। उन्होंने गोपूलि गाने से उत्तराखंड में एक अलग पहचान बनाई। यू-ट्यूब पर इस गीत को अभी तक करीब 80 लाख से ऊपर व्यूज मिल चुके है। यह गीत आज बच्चे-बच्चे की जुबां पर है।

रमेश बाबू ने गायकी के अलवा खेलकूद में भी उत्तराखंड का नाम रोशन किया। उन्होंने जिला स्तर पर 50 प्रथम पदक अपने नाम किये। वही राज्य स्तर पर ताईकान्डो में वर्ष 2003 व 2004 में तीन स्वर्ण व वर्ष 2007 में एनसीसी में दिल्ली गणतन्त्र दिवस के अवसर पर प्रतिभाग किया। इस कार्यक्रम में 20000 से अधिक बच्चों में से 50 बच्चों का चयन हुआ। जिसमें नैनीताल जिले से दो बच्चों का चयन हुआ। पहला नाम रमेश बाबू गोस्वामी का था।

वहां भी गायकी में उन्होंने प्रदेश का नाम रोशन किया। इस दौरान मेजर मोतिमाला उनसे काफी प्रभावित हुए। 28 राज्यों से आये कलाकारों में 30 बच्चों का चयन हुआ। जिसमें रमेश बाबू ने अपनी जगह बनाई। आज वह युवाओं को जोडक़र उत्तराखंड की संस्कृति के बचाने का प्रयास कर रहे है। उन्होंने युवा कल्याण स्तर कार्यक्रम में जिले प्रथम स्थान जीत कर राज्य स्तर प्रथम स्थान प्राप्त किया।

वह कुमाऊंनी और हिन्दी दोनों तरह के गीत गाते है। हिन्दुस्तान जन कल्याण संघ, अंतरराष्ट्रिय सामाजिक एव सांस्कृतिक संघ के संस्थापक एवं प्रमुख जितेश कुमार गंगवार ने बताया कि आगामी 31 अक्टूबर को उन्हें लखनऊ में सम्मानित किया जायेगा।