inspace haldwani
Home उत्तराखंड हल्द्वानी- केवल एक दिन में रिकॉर्ड हुआ था अमर लोकगायक पप्पू कार्की...

हल्द्वानी- केवल एक दिन में रिकॉर्ड हुआ था अमर लोकगायक पप्पू कार्की का ये अंतिम गीत, अब हुआ वायरल

हल्द्वानी–न्यूज टुडे नेटवर्क-(जीवन राज)-उत्तराखंड के अमर लोकगायक स्व. पप्पू कार्की को गीत छम-छम बाजली हो के वीडियो ने इन दिनों धमाल मचा रखा है। यह गीत लोकगायक कार्की का अंतिम गीत था। इस गीत को उन्होंने नेपाल में रिकॉर्ड किया था। यह गीत छित्कू हिवांल प्रोडक्शन से देबू पांगती के निदेशक में रिलीज हुआ था। इस गीत को देबू पांगती ने लिखा है। गाने के रिलीज होने के कुछ समय बाद अमर लोकगायक स्व. पप्पू कार्की को एक सडक़ हादसे ने हमसे छीन लिया। लेकिन उनका यह अंतिम गाना सदा के लिए अमर हो गया। विगत 14 जनवरी को छित्कू हिवांल प्रोडक्शन के निर्माता देबू पांगती ने इस गाने का वीडियो अपने यू-ट्यूब चैनल से रिलीज किया। जिसके बाद लोग लगातार कार्की के इस गाने को देख रहे है। अभी तक करीब 343300 व्यूज इस गाने को मिल चुके हैं।

वीडियो देखने के लिए लिंक पर क्लिक करें-

शादी के रीति-रिवाजों आधारित है गीत

छित्कू हिवांल प्रोडक्शन के निर्माता देबू पांगती ने न्यूज टुडे नेटवर्क को बताया कि इस गीत की शूटिंग मुनस्यारी समेत कई क्षेत्रों में हुई है। यह पहला ऐसा वीडियो गीत है जिसमें एक ही गांव के कई लोगों ने अभिनय किया है। इस गीत में शादी के रीति-रिवाजों को दिखाया गया है। जौहार-मुनस्यार के कई सुंदर दृश्यों से यह गीत और भी बेहतरीन बनाया गया है। इससे पहले इस गीत का ऑडियों रिलीज हुआ था जिसे अभी तक सात लाख से ऊपर लोग देख चुके है। वही कार्की के इस अंतिम गीत को लोगों ने खूब सराहा है। इस गीत में उनका साथ दिया है नेपाल की गायकी मांडवी त्रिपाठी ने और संगीत बिपीन आचार्य ने दिया है। इस गीत में लक्ष्मण पांगती, हिमांशु आर्य, नीरज पांगती, माया बोरा नेगी, उर्मिला सनवाल गुंजियाल, तारु रावत व अन्य कलाकारों ने अभिनय किया है।

त्यर दगडि़ मैं नाचुला ये शब्द कार्की के थे- पांगती

निर्माता देबू पांगती ने बताया कि जब उन्होंने यह गीत लिखा तो अमर लोकगायक स्व. पप्पू कार्की को सुनाया। गीत को सुनने के बाद कार्की ने कहा कि दाज्यू गीत में थोड़ा चेंज कर दूं तो उन्होंने कहा कि कर ले भाई। आप महान गायक हो आपको हक है इसे ठीक करने का। इसके बाद छम-छम बाजली हो छम घुघरू लगी बाज में चेंज करते हुए उसके पीछे त्यर दगडि़ मैं नाचुला म्यौर दगाड़ा तू ले नाच जोड़ दिया। इन्हीं शब्दों ने गाने में जान फूंक दी। वही कार्की ने यह गाना एक ही दिन में पूरा गा दिया। जिसे देखकर में भी हैरान रह गया। जबकि एक गीत को रिकॉर्ड करने के लिए कई बार गाना पड़ता है लेकिन कार्की ने एक ही बार में पूरे अंतरे गाकर इस गीत को एक ही दिन में पूरा कर दिया।

Related News

हल्द्वानी- कल सल्ट दौरें पर निकलेंगे कैबिनेट मंत्री आर्य, चुनाव की तैयारियों पर कही ये बात

सल्ट में होने वाले विधानसभा उपचुनाव को लेकर सल्ट चुनाव के प्रभारी कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य ने सल्ट उपचुनाव में भाजपा की जीत का...

हल्द्वानी : यहां गुलदार के शव मिलने से वन विभाग में सनसनी , देखे पूरी खबर

हल्द्वानी - तराई पूर्वी वन प्रभाग के गौला रेंज अंतर्गत चोडाघाट क्षेत्र में करीब पांच वर्षीय एक गुलदार का शव मिलने से वन विभाग...

कलयुगी बेटा अपनी ही माँ को ऐसे सुलाया मौत की नींद

देहरादून के डालनवाला में एक बुजुर्ग महिला की गला दबाकर हत्या कर दी गई। हत्या का खुलासा पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुआ।पुलिस ने शुरुआती जांच...

किसान ट्रैक्टर रैली में उत्तराखंड के युवक की मौत का सच, देखिये पुलिस ने क्या कहा?

दिल्ली किसान परेड में उत्तराखंड के युवक की मौत की खबर सोशल मीडिया में वायरल हो रही है जिस पर पुलिस ने सख्त रुख...

बीजेपी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रेखा वर्मा का कुमाऊं दौरा , 65 सीटे जीतने का किया दावा

बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और उत्तराखंड की सह प्रभारी रेखा वर्मा में आज हल्द्वानी में कार्यकर्ताओं के साथ संवाद किया, इस मौके पर उन्होंने...

किच्छा: बेहड़ ने किसान ट्रैक्टर रैली को दिखाई हरी झंडी, कही ये बात

किच्छा। पूर्व मंत्री व वरिष्ठ कांग्रेसी नेता तिलकराज बेहड़ ने आज किच्छा टोल प्लाजा से लालपुर के किसानों की ट्रेक्टर रैली को हरी झंडी...