iimt haldwani

हल्द्वानी- जारी है सूरज के परिजनों का धरना, नहीं मिला न्याय तो दिल्ली तक पहुंचेगी प्रदर्शन की आग

891

हल्द्वानी न्यूज- हल्दूचौड़ के आईटीबीपी कैंप में भर्ती के लिए आये उधमसिंह नगर के नानकमत्ता के सूरज सक्सेना की हत्या की गुत्थी पुलिस के लिए चुनौती बनती जा रही है। मामले में हालाकिं नैनीताल जिलाधिकारी के निर्देश के बद मजिस्ट्रेट जांच जारी है। लेकिन कही न कही खुलासे में हो रही देरी सूरज के परिजनों को सता रही है। अपने बेटे की मौत का इंसाफ मांगने के लिए अब सूरज का परिवार नानकमत्ता से हल्दूचौड़ स्थित आईटीबीपी कैंप के बाहर धरने पर बैठ गया है।

drishti haldwani

Suraj murder case

सूरज को इंसाफ दिलाने के लिए उनका आक्रोष प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। आइटीबीपी परिसर में मृत पाए गए सूरज सक्सेना के परिजनों ने न सिर्फ आईटीबीपी के जवानों पर सूरज की हत्या करने का आरोप लगाया बल्कि, स्थानिय लोगो और जनप्रतिनिधियों के साथ मिलकर आइटीबीपी कैंपस के बाहर उनका प्रदर्शन लगातार जारी है।

विधायक दुम्का ने दिया न्याय का आश्वासन

प्रशासनिक कार्रवाई से न खुश सूरज के परिजन अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं। लगातार क्षेत्रवासी भी धरना प्रदर्शन में शामिल होकर पीड़ित परिवार का साथ दे रहे हैं। आज राज्य महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष अमिता लोहनी और नानकमत्ता के चेयरमैन प्रेम सिंह टूर्ना भी पीड़ित परिवार का साथ देते हुए धरना प्रदर्शन में शामिल हुए। इधर लालकुआं विधायक नवीन दुम्का ने भी पीड़ित परिवार के साथ प्रदर्शन में शामिल रहे, साथ ही उन्हें ढांढस बंधाया और आश्वासन दिया कि उन्हें न्याय दिलवाया जाएगा।

Suraj  saxena murder case

 

जल्द न्याय नहीं तो दिल्ली तक पहुंचेगा प्रदर्शन

इस दौरान भुर्जी समाज उत्तर प्रदेश के प्रदेश अध्यक्ष राजकुमार भुर्जी ने भी सूरज के परिजनों का समर्थन किया। उन्होंने बताया कि उक्त मामले में प्रधानमंत्री से लेकर राष्ट्रपति को भी ज्ञापन दिया गया है। यदि तत्काल मामले का खुलासा नहीं होता है तो इस मामले को लेकर दिल्ली के जंतर मंतर में भी धरना प्रदर्शन किया जाएगा। इस दौरान उनके साथ व्यापार मंडल अध्यक्ष दिनेश चंद्रा, बाबू भाई , रवि सक्सेना, अरविंद कुमार भोजबाल, पवन चंद्रा उपस्थित थे।

क्या है मामला

बता दें कि 15 अगस्त को नानकमत्ता निवासी सूरज आईटीबीपी की भर्ती में शामिल होने के लिए हल्दूचौड़ आया था। जहां उसने भर्ती होने के लिए दौड़ में निकाल ली थी। लेकिन 3 दिन बाद कैंपस के अंदर उसकी लाश मिली। जिसके बाद से ही सूरज के परिजन और दोस्त आईटीबीपी जवानों द्वारा सूरज के साथ मारपीट कर हत्या करने का आरोप लगा रहे हैं।